loading...

एलोवेरा के फायदे गुण हिंदी में जानकारी

एलोवेरा के फायदे

एलोवेरा के फायदे

एलोवेरा के फायदे

ग्वारपाठा भारत में सभी जगह पाया जाता है, ग्वारपाठा को घिकुंवार, घृतकुमारी या कुंवारपाठ एलोवेरा अन्य नामो से जाना जाता है |

यह जल के किनारे तथा रेतीली जमीन से होता है | इसकी पत्तिया एक से डेढ़ फीट लंबी , 3-4 इंच चौड़ी व् आधे से एक इंच मोटी होती है | शीतकाल के समय पत्तियों की समूह से एक लंबी डंडी निकलती है , जिसके ऊपर के सिरे पर पुष्प लगते है |

पतंजलि एलोवेरा जूस पतंजलि एलोवेरा जेल से आपको कई फायदे होते है अगर आपको एलोवेरा कही उपलब्ध नहीं हो रहा है तो|

इस डंडी को ग्वारपाठ की कली के नाम से जाना जाता है | इसके पत्तियों को चीरने पर चिकना व् सफ़ेद गूदा निकलता है , जो औषधि में उपयोग किया जाता है |

एलोवेरा कसैला , मधुर और कड़वा होता है | यह शरीर को पुष्ट करने वाला व वीर्यवर्धक माना गया है | वायु या वातदोषों के लिए यह रामबाण आयुर्वेदिक औषध है | यह कब्ज , अफारा , दमा , खाँसी सूजन , चोट आदि रोगों को दूर करने वाला है |

एलोवेरा का घरेलू उपाय :

  • नेत्ररोग :
    ग्वारपाठे के रस की १-१ बुँदे रात को सोते समय आँखों में डालने से आँखों के रोग दूर होते है |
  • खाँसी-दमा :
    १ तोला ग्वारपाठे के गुदे में १ ग्राम सोंठ का चूर्ण मिलाकर सुबह-शाम लेने से खाँसी तथा दमा में लाभ होगा |
  • आग से जलना :
    आग से जल जाने पर ग्वारपाठा का गुदा लगाने से जलन दूर होती है |
  • आँखों की जलन :
    ग्वारपाठे का गुदा आँखों पर बांधने से आँखों की जलन कम होती है |
  • हिचकी :
    ग्वारपाठे के रस में सोंठ का चूर्ण मिलाकर खाने से हिचकी रुक जाती है |
  • खूनी बवासीर :
    ग्वारपाठे का गुदा निकालकर , गुदा में ग्वारपाठे की पट्टी बांधने से खूनी बवासीर में लाभ होता है |
  • अफारा :
    ग्वारपाठे के रस में हल्दी व् हिंग मिलाकर बच्चो की नाभिं के निचे लेप करने से अफारा व् पेटदर्द में लाभ होता है |
  • सूजन :
    ग्वारपाठे के गुदे पर हल्दी छिड़कर आंच पर गरम करके सूजन वाले भाग पर बांधने से सूजन कम होती है |
  • सिरदर्द :
    ठंड से होने वाले सिरदर्द में जौ के आटे को ग्वारपाठे के रस में गूंधकर मोटी सेंककर , गरम रोटी सिर पर बांधने से सिरदर्द दूर होता है |
  • मुत्रावरोध :
    ग्वारपाठे के रस में पिली मिटटी व कलमिशोरा मिलाकर नाभि के निचे लेप करने से मूत्र की रुकावट दूर होकर साफ़ आता है |
  • बालों की सुंदरता :
    ग्वारपाठे के रस में नींबू का रस मिलाकर सिर में मालिश करने से बालों से रुसी मिटती है तथा बाल मुलायम , घने और लंबे होते है |
  • फोड़ा :
    ग्वारपाठे का गुदा गरम करके इसमें जरा-सी हल्दी मिलाकर , पुल्टिस बनाकर गांठ या फोड़े पर बांधने से फोड़ा पककर फूट जाता है |
देसी घरेलु उपाय हिंदी में जानकारी
पेट के रोग वशीकरण के उपाय
चेहरे की सुंदरता नौकरी लगने के टोटके
बालों का इलाज लड़की को पटाने के तरीके
 यौन रोगों का इलाज सपनो का अर्थ स्वप्नफल
प्रेगनेंसी की टिप्स खाने के फायदे
मासिक धर्म(पीरियड्स) दिमाग तेज कैसे करे?
 मोटापा कम करे भगवान की पूजा
 दांत के उपाय स्मोकिंग की आदत से छुटकारा
 बाबा रामदेव योगा लाल किताब के टोटके

Leave a Reply