loading...

चमेली के गुण फूल के फायदे हिन्दी में जानकारी

चमेली के गुण

चमेली के गुण

चमेली के गुण

सफेद रंग का चमेली का फूल जब वृक्ष पर खिलता है तो अपनी खुशबू से चारों तरफ के वातावरण को महका देता है | चमेली का फूल अपने आप में अनेक गुणों को समेटे हुए है | जहा एक और इसका प्रयोग सुगंधित इत्र और चमेली का तेल बनाने में किया जाता है , वही दूसरी तरफ इसका प्रयोग औषधि के रूप में भी किया जाता है | इसके व्दारा नेत्र , मुख , मस्तक , कोढ़ , दंत , बादी और रक्तविकार आदि रोग दूर होते है|

चमेली के गुण व घरेलू उपाय :

मूत्र रोग :

 चमेली की जड़ को साफ़ करके बकरी के दूध में पीसकर पीने से मूत्र संबंधी रोगों में लाभ होता है |

कान का दर्द :

 कान का दर्द और खुजली होने पर चमेली के तेल में एलुआ रगड़कर उसकी कुछ बुँदे कान में डालने से कान का दर्द मिट जाता है |

मुह के छाले :

 चमेली के पत्तो को साफ़ पानी में धोकर चबाने से मुंह के छाले मिट जाते है |

पुरुष रोग :

 चमेली के तेल में राई पीसकर बांधने से लिंग की कमजोरी व लिंग का टेढ़ापन दूर होकर दृढ़ता आती है |

भगंदर :

 चमेली के पत्ते , बड के पत्ते , सौंठ व्  सेंधा नमक -इन सबको छाछ के साथ बारीक पीसकर लेप करने से भगंदर दूर हो जाता है |

फोड़ा :

 चमेली के पत्तो का रस , आक की जड़ , सेंधा नमक , जवाखार को बारीक पीसकर पुल्टिस बनाकर बांधने से फोड़ा ठीक हो जाता है |

सिर की गर्मी :

  गर्मियों में सिर की गर्मी दूर करने के लिए रोज चमेली का तेल की सिर में मालिश करने से लाभ होता है |

मुंह की दुर्गंध :

 चमेली के पत्तो को पानी में उबालकर कुल्ला करने से मुंह की दुर्गंध तथा दंत पीड़ा दूर होती है |

बाँझपन का इलाज :

 चमेली की जड़ , चम्पा के फूल , जीरा को छाया में सुखाकर मासिक-धर्म आरंभ होने के तीन दिन पहले से लेकर ऊपर से पानी पी ले | इससे बांझपन दूर होकर गर्भ ठहर जाता है |

देसी घरेलु उपाय हिंदी में जानकारी
पेट के रोग वशीकरण के उपाय
चेहरे की सुंदरता नौकरी लगने के टोटके
बालों का इलाज लड़की को पटाने के तरीके
 यौन रोगों का इलाज सपनो का अर्थ स्वप्नफल
प्रेगनेंसी की टिप्स खाने के फायदे
मासिक धर्म(पीरियड्स) दिमाग तेज कैसे करे?
 मोटापा कम करे भगवान की पूजा
 दांत के उपाय स्मोकिंग की आदत से छुटकारा
 बाबा रामदेव योगा लाल किताब के टोटके

Leave a Reply