loading...

लिवर में खराबी सुजन इन्फेक्शन रोग का आयुर्वेदिक ट्रीटमेंट हिंदी में

फैटी लीवर मतलब लीवर में सुजन होना या लीवर क बढ़ना. आमतौर पर लीवर में फैट होना ठीक है मगर अगर ये fat की मात्रा बढ़ जाये तो इसको फैटी लीवर की बीमारी कहते है. फैटी लीवर का इलाज है दोस्तों इस लिए आपको घबराने की जरुरत नहीं है.

लीवर को अलग अलग language में अलग अलग नामो से जाना जाता है.जानते है क्या बोलते है लीवर को मराठी में यकृत और हिंदी में जिगर बोलते है.

फैटी लीवर(Liver in hindi)

फैटी लीवर में सुजन

फैटी लीवर में सुजन

लीवर के रोग कई सारे कारणों से हो सकते है.जिगर शरीर में सबसे महत्वपूर्ण भाग है.शरीर में जिगर पेट के दाहिनी भाग में निचे की तरफ होता है.अगर आपका यकृत ख़राब हो जाये तो आप के बॉडी की काम करने की क्षमता बंद हो जाती है. लीवर डैमेज होने से बचने के लिए कई नियम का आपको पालन करना है.

हम अभी आपको बताएँगे लीवर डैमेज होने से कैसे बचा जाये और लीवर में सुजन होने से कैसे बचा जाये और  लिवर में सूजन, लिवर की गर्मी ,लिवर टॉनिक, लिवर की कमजोरी ,लीवर कैंसर के लक्षण ,लीवर की देखभाल ,लीवर सिरोसिस के लक्षण और लीवर के कार्य क्या है.

लिवर ख़राब होने के कारण:

  • शराब ज्यादा पिने से.
  • ज्यादा सिगारेट यानिकी धुम्रपान करने से.
  • ज्यादा खट्टा खाने से.
  • नमक का इस्तमाल ज्यादा करने से.
  • पिने के पानी में क्लोरिन की मात्रा ज्यादा होने से.
  • ख़राब मांस खाने से.
  • दूषित पानी पिने से.
  • ज्यादा मसाले दार और चटपटा खाना खाने से.
  • शरीर में विटामिन बी की कमी के कारन.
  • चाय,कॉफ़ी,बहार का खाना खाने से भी आपका लीवर में खराबी आती है.

स्मोकिंग करने की आदत कैसे बंद करे.

लिवर खराब होने के लक्षण :

  • पेट में सूजन आना
  • छाती में जलन होती है भारीपन महेसुस होता है.
  • पेट में जल्दी गैस बनने की समस्या.
  • शरीर में आलसपन आना.
  • शरीर में कमजोरी आना.
  • लीवर बड़ा हो जाता है.
  • मुह का स्वाद ख़राब होता है.

 

लिवर की सूजन का उपाय/आयुर्वेदिक घरेलु नुस्खे:

  • पपीता और नीबू का उपयोग :

    पपीते के बिज निकाल्कार इनको धुप में सुखाकर अछे से बारीक़ पाउडर की तरह चूरन बना ले.अब एक बड़ा चम्मच पपाया के बीजो को लेकर इसमें आधा निम्बू का रस मिला दे.इस चूर्ण और निम्बू का रस का सेवन दिन में दो बार करने से लीवर की सुजन कम होती है.

  • गुड़ और हरड़  का इस्तमाल:

    बड़ी पीले रंग की हरड को पिसले और इसका चूर्ण बना ले.अब इस चूर्ण को डेढ़ ग्राम की मात्रा में लेकर पुराने गुड में मिलाकर गोलिया बनाले.
    और इस गोली का सेवन दिन में दो बार करने से आपको जिगर के रोगों में लाभ होगा.

  • आंवले का रस पानी के साथ:

    आंवले का रस २५ ग्राम की मात्रा में एक गिलास पानी में मिलाकर पिने से लीवर के विकार दूर होते है.

fatty liver me sujan infection ayurvedic treatment in hindi

देसी घरेलु उपाय हिंदी में जानकारी
पेट के रोग वशीकरण के उपाय
चेहरे की सुंदरता नौकरी लगने के टोटके
बालों का इलाज लड़की को पटाने के तरीके
 यौन रोगों का इलाज सपनो का अर्थ स्वप्नफल
प्रेगनेंसी की टिप्स खाने के फायदे
मासिक धर्म(पीरियड्स) दिमाग तेज कैसे करे?
 मोटापा कम करे भगवान की पूजा
 दांत के उपाय स्मोकिंग की आदत से छुटकारा
 बाबा रामदेव योगा लाल किताब के टोटके

Leave a Reply