गुड के औषधीय गुण

गुड के औषधीय गुण

गुड के औषधीय गुण

गुड के औषधीय गुण

गुड गन्ने से तैयार किया जाता है | गुड में आयरन प्रचुर मात्रा में होता है ,जो शरीर में रक्ताल्पता दूर करता है | इसमें मौजूद कैल्शियम बच्चों और बुजुर्गों के लिए उपयोगी होता है आज हम आपको गुड के औषधीय गुण के बारेमे बताएँगे |

गुड को शुभ शकुन भी माना जाता है |  आज भी शुभ कार्य के लिए जाते समय गुड़ खाकर जाना के टोटका बना हुआ है |  जहां गर्मी के मौसम में बाहर से आने पर गुड़ खाकर पानी पीने से लू नहीं लगती |  वही सर्दियों के मौसम में गुड़ खाने से शरीर में गर्मी आती है |  गुड में पोषक गुणों के साथी अनेक गुड के औषधीय गुण विद्यमान है |

गुड के औषधीय गुण घरेलू उपाय :

कांतिवान :

शरीर एक गिलास दूध में गुड़ और एक चम्मच शहद मिलाकर प्रतिदिन पीने से शरीर कांतिवान होने के साथ-साथ तरोताजा हो जाता है |

रूसी :

सिर में रूसी होने पर गुड को तोड़कर थोड़ा सा पानी मिलाकर आधा घंटा सिर में लगाकर सिर धोने से रुसी दूर हो जाती है |

मुत्राविरोध :

गर्म दूध में गुड़ मिलाकर पीने से मूत्र संबंधी रोग दूर होते हैं |

रक्तपित्त :

आंवले का चूर्ण गुड़ में मिलाकर ताजा जल  के साथ 10 ग्राम की मात्रा सुबह-शाम सेवन करने से लाभ होता है |

मधुमेह :

गुड और शहद संमभाग मिलाकर उसमें कुछ बूंदे नींबू के रस की मिलाकर सेवन करने से मूत्र में शक्कर की मात्रा कम हो जाती है |

वायु प्रकोप :

गुड़ और जीरा मिलाकर चबाए |

बिस्तर में मूत्र :

यदि बच्चा बिस्तर में मूत्र करता हो गुड़ और तिल के लड्डू बनाकर एक लड्डू सुबह खिलाएं |

पेट में कीड़े :

गुड़ में नींबू मिलाकर खाने से पेट के कीड़े मर जाते हैं |

आधासीसी :

2 ग्राम गुड़ सूर्योदय से पूर्व तथा रात को सोते समय खाने से दर्द दूर हो जाता है |

घाव :

नाक छेदने पर यदि घाव हो गया हो तो  गुड़ का लेप लगाएं |

पाचक :

भोजन के बाद थोड़ा सा गुड़ खाने पर भोजन शीघ्र पच जाता है |

अनिंद्रा :

यदि रात में नींद न आती हो तो थोड़ा सा दूध मलाई में मिलाकर खाले तथा ऊपर से पानी पी लें | कुछ ही देर में नींद आ जाएगी |

सूजन :

हररोज 50 ग्राम गुड़ खाने से सूजन पेट और आंतों की बीमारियों में लाभ होता है |

कुत्ते के काटने पर :

गुड में लाल मिर्च मिलाकर लेप बनाकर कटे हुए स्थान पर लगाने से कुत्ते के विष का प्रभाव उतर जाता है |

दमा :

गुड  व सरसो का तेल 15-15ग्राम मिलाकर खाने से दमा व सुखी खांसी  में राहत मिलती है |

खूनी दस्त :

बेलगिरी के चरणों में गुड मिलाकर 10 ग्राम की मात्रा दिन में तीन बार सेवन करने से लाभ होता है |

देसी घरेलु उपाय हिंदी में जानकारी
पेट के रोग वशीकरण के उपाय
चेहरे की सुंदरता नौकरी लगने के टोटके
बालों का इलाज लड़की को पटाने के तरीके
 यौन रोगों का इलाज सपनो का अर्थ स्वप्नफल
प्रेगनेंसी की टिप्स खाने के फायदे
मासिक धर्म(पीरियड्स) दिमाग तेज कैसे करे?
 मोटापा कम करे भगवान की पूजा
 दांत के उपाय स्मोकिंग की आदत से छुटकारा
 बाबा रामदेव योगा लाल किताब के टोटके

Leave a Reply