काली खांसी के घरेलु आयुर्वेदिक उपाय हिंदी में

काली खांसी के उपाय

काली खांसी के उपाय

काली खांसी के उपाय

दोस्तों काली खांसी एक भयंकर रोग है | कफ वाली खांसी का इलाज|
इसे कुकर खांसी भी कहते है ,यह खांसी अगर बिगड़ जाए ,समय से उपचार न हुआ तो रोगी की जान तक चली जाती है |

कुकुर खांसी का इलाज आयुर्वेदिक दवाई का इस्तमाल करके.

यह इतना संक्रामक रोग है कि रोगी के कमरे मे स्वस्थ व्यक्ति कुछ समय रहे तो इसकी चपेट में आ सकता है |

काली खांसी के कारण व लक्षण :

  • इसके शुरू में सर्दी -जुकाम ,खांसी ,नाक से पानी आता है ,लेकिन बुखार नही आता |
  • काली खांसी के रोगी व्दारा छिकने ,खांसने से धुक के अंत्यत बारीक़ धुक हवा में फ़ैल जाते है ,यह बूंदे जीवाणुओं का फ़ैलाने का काम करती है |
  • काली खांसी होने पर तरुंत डॉक्टर से इलाज कराए ,जरा सी लापरवाही या देरी रोग को तीव्र कर देगी |
  • रोग बढ़ने पर खांसी तेज हो जाती है ,सोते -जागते दम निकालने वाली खांसी आती है |
    खांसी में चिकना-चिकना बलगम आता है |
    कभी-कभी लगता है दम घुट जाएगा ,नाक से अजीब सी आवाज निकलती है |

काली खांसी का घरेलू इलाज :

घरेलू नुस्खे काम में ला सकते है |

  • अदरक के रस में बराबर शहद मिलाकर तथा उसमे थोड़ी सी छोटी पीपर का चूर्ण मिलाकर दिन में तिन बार चांटे | खांसी में लाभ मिलेगा|
  • जुखाम , खांसी से पीड़ित होने पर गरम पानी का सेवन करे|
    पानी में अदरक का टुकड़ा तथा २-४ लौंग डालकर उबाले, दिन भर इस पानी को पिए |
  • बाजार से कोई आयुर्वेदिक सिरप ले , उसमे बराबर मात्रा में पानी मिलाकर दिन में 3 बार सेवन करे|
    यह सिरप कुकर खांसी में भी इस्तेमाल कर सकते है|
  • अधपका अमृत लेकर उसे राख या बालू में भुन ले , ठंडा होने पर इसका सेवन करे|
  • रात को खांसी जादा परेशान करती है तो, हलदी की गाँठ को भुनकर , उसका एक  टुकड़ा दाड में दबाकर धीरे धीरे चूसते हुआ सोये|
  • सुबह-शाम गरम पानी में नमक डालकर गरारे करे.
    इससे गला तथा श्वास नलिका को सेक लगेगी और खांसी में रहत मिलेगी|
  • लौंग, काली मिर्च, इलायची, अदरक एव लसुड़े के पत्तो का काढ़ा बनाये , उसे पुराना गुड डालकर मीठा करे, सुबह- शाम सेवन करे खांसी में राहत मिलेगी|

खांसी का घरेलु देसी उपचार हिंदी में.

Leave a Reply