Kele ki Kheti Jankari केले की खेती

Kele ki Kheti Jankari

दुनिया भर मे केला एक महत्वपूर्ण फसल . भारत में लगभग 4.9 लाख हेक्टर में केले की खेती की जाती है.
जिनमे से 180 लाख टन उत्पादन प्राप्त होता है. kele ki kheti.

जानिए किस तरह से केले की वैज्ञानिक खेती की जाए पूरी जानकारी से साथ .

kele ki kheti kaise kare

kele ki kheti kaise kare

अगर आप केले (बनाना) की खेती करने के बारेमे सोच रहे है तो इस खेती के लिए वैज्ञानिक तकनीको को जानकार आपनाइये.
केले की खेती से किसानो को काफी फायदा हो सकता है. इस का कारण है की केला पका हुआ हो या फिर कच्चा बाज़ार में इन दोनों का अच्छे दाम मिल जाते है . केले का भरपूर उत्पाद के लिए कुछ बातों का खास ख्याल रखना होता है
जैसे की ज़मीन यानिकी भूमि का चयन और मिट्टी का चयन , पौधे की सिंचाई आदि तो आइये हम जानते है केले की खेती के बारेमे थोड़ी जानकारी.महाराष्ट्र राज्य में सबसे ज़्यादा केले का उत्पादन किया जाता है.
महाराष्ट्र के कुल केला क्षेत्र का 70 फीसदी अकेले जलगांव जिल्हे से प्राप्त होता .
केले को गरीबों का फल कहा जाता .kele ki kheti.
केला उत्पाद मे बहुत है : केला चिप्स, केला फिग, केला आटा, केला पापड, केला हलवा, केला जूस, केला पल्प, केला फल केनिंग, केला टाफी, केला मदिरा, केले का शेम्पेन इत्यादि चीज़े तैयार की जा सकती है.

जलवायुः केला उत्पादन के लिए उष्ण या आर्द्र जलवायु उपयुक्त होती
जहा पर टेंपरेचर 20 से 35 डिग्री के अनार रहता है ,वहाँ पर केले की खेती अछी तरह से की जा सकती है। वार्षिक वर्षा 150-200 से.मी. समान रूप से वितरित होना चाहिये। शीत एवं शुष्क जलवायु में भी इसका उत्पादन होता है। परंतु पाला एवं गर्म हवाओं (लू) आदि से काफी क्षति होती है।
भूमिः केले की खेती के लिए बलुई से मटियार दोमट भूमि उपयुक्त होती है। जिसका पी. एच मान 6.5-7.5 एवं उचित जल निकास का होना आवश्यक हैं। केले की खेती अधिक अम्लीय एवं क्षारीय भूमि में नही की जा सकती है। भूमि का जलस्तर 7-8 फीट नीचे होना चाहिये. kele ki kheti ki jankari.

 

 

loading...

Leave a Reply