loading...
 

देसी घरेलु नुस्खे

घरेलु उपाय / तरीका

शादी के टोटके प्यार पाने के तरीके
मोटापा का इलाज नौकरी चाहिए ?
६ पैक बनाये तुरंत लड़की का चक्कर
सपने में देखना गलती से प्रेग्नंट हो ?
आंटी को पटाना है ? चुदाई के लिए लड़की चाहिए ?
रंडी के साथ सेक्स ? किसी के भी साथ सेक्स करना है ?
लड़की के ब्रैस्ट पुरुष का लिंग
loading...
loading...

लोध्र (लोध) के गुण हिंदी में जानकारी

लोध्र (लोध) के गुण हिंदी में जानकारी

लोध्र पठानी लोध

लोध्र पठानी लोध

लोध्र का रुख से उत्तरी तथा पूर्वी भारत में पाया जाता है | इसके फल सुगंधी और पीले रंग के होते हैं | इसमें लगने वाला फल अंडाकार और आधा इंच लंबा होता है | इसकी छाल धूसर रक्तवर्ण की होती है | इसकी छाल व पत्तों में रंग निकला जाता है |

इसकी छाल शीतल ,कसैली ,पाचन में हल्की ,नेत्रों और मसूड़ों के रोगों में लाभकारी होती है | कफ , पित्त , अतीसार रक्तपित्त ,सूजन पुष्प रोग , गर्भपात ,प्रदर रोग तथा गर्भस्राव में यह उपयोगी है | त्वचा रोगों में  लोध्र का उपयोग किया जाता है |अतिसार और रक्तातिसार में इसका प्रयोग किया जाता है |

लोध्र का घरेलू उपाय :

आंखों की सूजन ;

सूजन और लाली दूर करने के लिए आंखों की पलकों पर पठानी लोध का लेप करने से लाभ होता है |

वर्ण :

लोध्र का चूर्ण वर्ण पर छिड़कने से वर्ण ठीक होकर शीघ्र नई त्वचा आ जाती है |

प्यास , आमातिसार :

लोध्र के पत्तों का कल्क बनाकर ,उसे घी में सेंककर तथा शक्कर मिलाकर उसकी पूरी बनाकर खाने से तृषा ,कास व आमातिसार रोग दूर होते हैं |

नेत्र विकार :

पठानी लोध की छाल के चूर्ण को घी में भूनकर के चारों और छुपाने से सभी प्रकार के नेत्र विकार दूर होते हैं |

श्वेत प्रदर :

श्वेत प्रदर में पठानी लोध का प्रयोग उपयोगी होता है |

कील मुंहासे :

लोध्र ,सरसों व व सेंधा नमक मिलाकर पानी के साथ पीसकर चेहरे पर लेप लगाकर कुछ देर बाद रगड़ कर छुड़ा दें | इससे कील-मुंहासे मिटते हैं |

गर्भपात :

गर्भपात की आशंका होने पर लोध्र और पीपल का चूर्ण 1 ग्राम शहद के साथ चाटने से लाभ होता है | सातवें तथा आठवें माह में गर्भपात का अंदाजा होने पर केवल पठानी लोध का चूर्ण शहद के साथ चाटने से लाभ होता है तथा गर्भाशय की शिथिलता दूर होती है |

योनिक्षत :

प्रस्तुति काल में योनि में क्षत हुआ हो तो तुम्बी के पत्रों का चूर्ण और पठानी लोध का चूर्ण समभाग लेकर योनी में लेप लगाए |

रक्तप्रदर :

पठानी लोध का चूर्ण और मिश्री 1-1 ग्राम मिलाकर ठंडे पानी के साथ तीन -तीन घंटे के अंदर में चार-पांच दिन तक लेने से रक्तस्राव बंद हो जाता है |

मसूड़े :

पठानी लोध का काढ़ा बनाकर इसे सुबह शाम कुल्ला करने से मसूड़ों से रक्त आना बंद हो जाता है |

सूजन घाव :

लोध्र का  बारीक पाउडर शहर में मिलाकर लगाने से सूजन और घाव ठीक हो जाता है |

loading...

Leave a Reply