loading...

लिंग (लंड) खड़ा करने का उपाय हिंदी में

ling khada karne ke upay in hindi lund khada nahi hota to ling ko khada kaise kare batao aise kai log bolte hai isiliye janenge lund khada karne ke upay hindi me.

लिंग खड़ा करने का उपाय

लिंग खड़ा करने का उपाय

लिंग खड़ा करने का उपाय

पेनिस (लिंग) में इरेक्शन होने के लिए हमारे दिमाग में एक सेक्स का विचार करने वाला सेंटर होता है जिसमे हमारे दिमाग में सेक्स के खयाल आने के बाद लिंग की नसों में खून दौड़ने लगता है और इसी कारण आपका लंड खड़ा होता है.
मगर कई लोगो का सेक्स करने के वक़्त लंड खड़ा होने में समय लगता है या खडा नहीं होता. ऐसा अगर आपके साथ होता है तो आम बात है की आप डिप्रेशन में चले जायेंगे क्यूंकि आपकी गर्लफ्रेंड उसके बॉयफ्रेंड पर या पत्नी अपने पती पर नाराज तो होगी ही मगर इसके कारण आपको नामर्द ना समज ले इसके लिए आप काफी तनाव में जा सकते हो.

इसको इंग्लिश में erectile dysfunction भी बोलते है. इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए कई कारण हो सकते है.इरेक्टाइल डिसफंक्शन कोई बीमारी नहीं है दोस्तों इसको सिर्फ आप को अपने मन पर काबू पाना है बस बाकि कुछ नहीं.

कई लोग अपने हनीमून के पहले सेक्स टेबलेट जैसे की viagra लेना पसंद करते है सम्भोग करने से पहले की आपका अपने पार्टनर को सेक्स करने के लिए मजा दिया जाये और नामर्दी से बच पाए मगर आम तौर पर viagra का ज्यादा सेवन करने से भी आपको अगर erectile dysfunction की समस्या नहीं होगी फिर भी आपको ये समस्या हमेशा के लिए हो सकती है.

लिंग खड़ा कैसे उत्तेजित होता है (लंड कैसे खड़ा होता है) ?

  • जब आपका सेक्स हारमोंस उत्तेजित होते है तो एक संदेश आपके लिंग की तरफ जाता है इसके कारन शरीर में खून का प्रवाह बढ़ जाता है.
  • पूरे शरीर में लंड में रक्त का प्रवाह सबसे ज्यादा तेज होता है.इसी के कारण से लिंग में उत्तेजना ओर स्त्रियों की योनि (चूत) में गीलापन आता है.
  • पेनिस के इरेक्शन के लिए सेक्स हॉर्मोन का होना जरूरी है.
  • आमतौर पर पुरुषों में ६० साल के बाद और औरतो में ४५ साल के बाद शरीर में सेक्स हॉर्मोन की कमी होने लगती है.

इरेक्टाइल डिसफंक्शन का मतलब क्या है ?

इरेक्टाइल डिसफंक्शन मतलब सेक्स (संभोग) के दौरान या उससे पहले पेनिस में इरेक्शन (तनाव) होना खत्म हो जाना इसको नपुंसकता भी कहते हैं. लिंग में तनाव नहीं आने के कई तरह का हो सकता है.हो सकता है, कुछ लोगों को बिल्कुल भी लिंग में तनाव न हो, कुछ लोगों को सेक्स के बारे में सोचने पर लिंग का तनाव हो जाता है, लेकिन जब सेक्स करने की बारी आती है, तो लिंग में ढीलापन आ जाता है.
इसी तरह कुछ लोगों में लिंग को योनी के अंदर डालने के बाद भी लिंग का तनाव में  कमी हो सकती है.इसके अलावा, चूत में घर्षण होने के दौरान भी अगर किसी का लंड में तनाव  कम हो जाता है, तो भी यह इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की निशानी है

लिंग में उत्तेजना ना आने के कारण (इरेक्टाइल डिसफंक्शन reasons in hindi):

  • लिंग खड़ा नहीं होने के कई कारण होते है सबसे महत्वपूर्ण कारण है की आपके दिमाग की सोच.
  • शराब करने की वजह से.
  • स्मोकिंग यानी सिगरेट ,बीडी या अन्य नशीली चीजों को इस्तमाल करने से.
  • शुगर की समस्या होने से.
  • स्ट्रेस किसी चीज़ का तनाव की वजह से.
  • हॉर्मोंस डिस्ऑर्डर्स से भी आपके लिंग का तनाव कम होता है.
  • नर्वस सिस्टम में किसी तरह की गड़बड़ी होने से भी हो सकता है लंड में तनाव की समस्या.
  • आपके मन में सेक्स करने से पहले से ही एक शक होता है कि कहीं आप ठीक तरह से चुदाई कर भी पाएंगे या नहीं.कहीं लिंग धोखा न दे जाए. मन में ऐसे विचार आने से भी इरेक्टाइल डिस्फंक्शन होता है.और इस वजह से हमेशा आप सेक्स से मन चुराने लगता है और आपकी सेक्स करने की इच्छा में कमी होने लगती है.

लिंग की नसों में ढीलापन दूर करने के लिए आपको लिंग का मसाज करना जरुरी है.

loading...

जानिए लिंग की मालिश कैसे करते है.

लिंग खड़ा करने की समस्या का इलाज:

सेक्स हॉर्मोन थेरपी : अगर लिंग का तनाव में  कमी की वजह सेक्स हॉर्मोन की कमी है तो सेक्स हॉर्मोन थेरपी की मदत से इसे 2-३ महीने के अंदर ठीक कर दिया जाता है.इस ट्रीटमेंट का कोई साइड इफेक्ट नहीं होता.

 ब्लड सप्लाई : जब कभी लिंग में नसों की ब्लॉकेज की वजह से ब्लड सप्लाई में कमी आती है, तो दवाओं की मदद से इस ब्लॉकेज को खत्म किया जा सकता  है.इससे लंड में ब्लड की सप्लाई बढ़ जाती है और इसी के कारण लिंग में तनाव आने लगता है.

वैक्यूम पंप, इंजेक्शन थेरपी और viagra :

वैक्यूम पंप, इंजेक्शन थेरपी और वायग्रा जैसे ड्रग्स के इस्तमाल से भी लिंग में तनाव की कमी को दूर किया जा सकता है.
Vaccum pump : आजकल बाजार में कई तरह के vaccum pump मौजूद हैं.रोज अखबारों में इसके तमाम ऐड आते रहते हैं.इसकी मदद से बिना किसी साइड इफेक्ट के लिंग का तनाव में  कमी का हल निकाला जा सकता है.vaccum pump एक छोटा सा इंस्ट्रूमेंट होता है.इसकी मदद से लिंग के चारों तरफ 100 एमएम (एचजी) से ज्यादा का वैक्यूम बनाया जाता है जिससे लंड में ब्लड का फ्लो बढ़ने लगता है, और तीन मिनट के अंदर उसमें पूरी तरह सख्त हो जाता  है.लगभग 80 फीसदी लोगों को इससे फायदा हो जाता है.चूंकि इसमें कोई दवा नहीं दी जाती है, इसलिए इसका कोई साइड इफेक्ट भी नहीं है. वैक्यूम पंप आमतौर पर उन लोगों के लिए है जो 50 की उम्र के आसपास पहुंच गए हैं.युवा लोगों को इसकी सलाह नहीं दी जाती है, फिर भी जो भी इसका इस्तेमाल करे, उसे डॉक्टर की सलाह अवश्य लेनी चाहिए.

वियाग्रा का इस्तमाल से  : लिंग का तनाव में  कमी के लिए viagra का इस्तेमाल अच्छा ऑप्शन है, लेकिन इसका इस्तेमाल किसी भी सूरत में बिना डॉक्टरी सलाह के नहीं करना चाहिए. viagra में मौजद तत्व उस केमिकल को ब्लॉक कर देते हैं, जो पेनिस में होने वाले ब्लड फ्लो को रोकने के लिए जिम्मेदार है.इससे पेनिस में ब्लड का फ्लो बढ़ जाता है और फिर इरेक्शन आ जाता है.viagra लिंग में तनाव की कमी को ठीक करने में फायदेमंद तो साबित होती है.

लिंग का आकार बढ़ने का आयुर्वेदिक घरेलु नुस्खा.

erectile dysfunction treatment in hindi ,ling me tanav ke upay ,ling ka dhilapan upay in hindi,ling ki naso me kamzori,ling ki nason ka ilaj in hindi

देसी घरेलु उपाय हिंदी में जानकारी
पेट के रोग वशीकरण के उपाय
चेहरे की सुंदरता नौकरी लगने के टोटके
बालों का इलाज लड़की को पटाने के तरीके
 यौन रोगों का इलाज सपनो का अर्थ स्वप्नफल
प्रेगनेंसी की टिप्स खाने के फायदे
मासिक धर्म(पीरियड्स) दिमाग तेज कैसे करे?
 मोटापा कम करे भगवान की पूजा
 दांत के उपाय स्मोकिंग की आदत से छुटकारा
 बाबा रामदेव योगा लाल किताब के टोटके

One Response

  1. tashwani kumar January 24, 2017

Leave a Reply