loading...

पीपली के फायदे हिंदी में

पीपली (पिप्पली) के फायदे

पीपली Indian long pepper

पीपली Indian long pepper

इसे आम बोलचाल की भाषा में ‘ पिप्पली‘ या  पीपल भी कहा जाता है | पीपली का उपयोग औषधि में स्वतत्रं  व मिश्रित दोनों ही रूपों में किया जाता है | यह पीपल के वृक्ष  से भिन्न है | इसका पौधा छोटा होता है , जिस पर 1 इंच लंबे तथा गोल फल लगते हैं |

इसके पत्ते दो से 3 इंच लंबे पान के आकार होते हैं ,और छोटे और बड़े दोनों प्रकार के होते हैं , जिन्हें छोटी  पीपल तथा बड़ी पीपल के नाम से जाना जाता है | इन फूलों का स्वाद चरपर व तेज  होता है | छोटी पीपल के लिए लाभकारी होती है | यह रक्त शोधक तथा मूत्रल होती है और वायु व कफ विकारों का नाश करती है |

पीपली का उपयोग ज्यादा समय तक नहीं करना चाहिए , क्योंकि यह पचने में भारी होता है | लगातार अधिक मात्रा में पीपली का सेवन दोषों का संचय करती है | पीपल उदर कृमियों  के लिए प्रभावकारी औषधि है |औषधि में एक वर्ष पुरानी पीपल ज्यादा लाभदायक होती है |

पीपली का घरेलू उपाय :

 पेचिस :

छोटी पीपली को पीसकर चूर्ण बना लें | 1 ग्राम चूर्ण एक कप गर्म दूध में सुबह शाम खाने से पेचिस रोग में लाभ होता है|

दमा-खांसी:

20 ग्राम पीपली का चूर्ण 100 ग्राम शहद में मिलाएं| एक चम्मच मात्रा में दिन में तीन बार चाटने से दमा खांसी तथा अपने लाभ होता है|

सिर दर्द :

पीपल , सोंठ , कालीमिर्च ,मुलहटी 1-1 ग्राम पीसकर गाय के मक्खन में पकाकर सूंघने से सिरदर्द दूर होता है |

लीवर :

पीपल, दंतमूली, सौंठ 10-10 ग्राम , 20 ग्राम हरड़, 5 ग्राम वायडिंग का चूर्ण बनाकर 2 ग्राम चूर्ण सुबह-शाम लेने से जिगर की खराबी दूर होती है|

दंतरोग  :

पीपल व सेंधा नमक को 10 -10 ग्राम बारीक पीसकर शहद मिलाकर दांतों पर मलने से दांत दर्द , दांत का हिलना  व कीड़ा आदि रोग दूर होते हैं|

ह्रदय की दुर्बलता  :

1 ग्राम पीपल का चूर्ण शहद के साथ सेवन करने से ह्रदय की दुर्बलता दूर होती है|

गर्भाधारना :

पीपली , सौंठ , कालीमिर्च ,नागकेसर 10 -10 ग्राम लेकर बारीक पीस ले| इस चूर्ण का सुबह शाम देशी घी के साथ 6 माह तक  सेवन करने से बांझ स्त्री को भी गर्भ ठहर जाता है|

मोटापा :

पीपली , सोंठ , कालीमिर्च , 200 ग्राम सूखा धनिया , काला जीरा 10 ग्राम ,काला नमक , सेंधा नमक ,लाहौरी नमक 5-5 ग्राम व लाल मिर्च 1 ग्राम का बारीक चूर्ण बनाकर भोजन के बाद रोज 2 ग्राम चूर्ण खाने से मोटापा और शरीर की बादी दूर होती है|

गैस –अफरा :

सौंठ –पीपल , सौंफ व  काला नमक समभाग मिलाकर पीस ले | १ चम्मच चूर्ण भोजन के बाद सुबह-शाम सेवन करने से पेट की गैस व अफरा दूर होता है|

देसी घरेलु उपाय हिंदी में जानकारी
पेट के रोग वशीकरण के उपाय
चेहरे की सुंदरता नौकरी लगने के टोटके
बालों का इलाज लड़की को पटाने के तरीके
 यौन रोगों का इलाज सपनो का अर्थ स्वप्नफल
प्रेगनेंसी की टिप्स खाने के फायदे
मासिक धर्म(पीरियड्स) दिमाग तेज कैसे करे?
 मोटापा कम करे भगवान की पूजा
 दांत के उपाय स्मोकिंग की आदत से छुटकारा
 बाबा रामदेव योगा लाल किताब के टोटके

Leave a Reply