गठिया रोग होने के कारण और गांठ के घरेलु उपचार हिंदी में

गठिया रोग

गठिया रोग का इलाज
गठिया रोग का इलाज

दर्द  तो कोई भी हो,बडा पिडादाई होता है | जोडो के दर्द की तकलीप असहनीय होती है |

गठिया होने  वाली पिडा को  तो इसका सेहेन करने  वाला ही अच्छे से जान सकता है | जब यह शुरू होता है तो मरीज का एक डग रखना भी दुभर हो जाता हे |

गठिया होने के कारण –

यह रोग खून की कमी, शारीरिक कमजोरी तथा बुढे लोग में  हड्डीया की चिकनाई कम होणे के कारण होता है |
रक्त मे युरिक एसिड नाम का पदार्थ तयार होकर गाँठो में  जमा हो जाता है और गाँठो मे दर्द का  कारण बनता है |

घुमने से उटने बेटने में  दर्द होता हे| कभी कभी तो सुजन भी हो जाती है |

loading...

 गठिया रोग का घरेलू उपचार :

आयुर्वेदिक में इसके अनेक घरेलू उपचार है |

  • 10 ग्राम सोंट का चूर्ण, ५ ग्राम काली मिर्च ,५ ग्राम  बायबिडंग तथा ५ ग्राम सेंथा नमक -सबको कूट -पिसकर चुर्ण बनाकर एक शिशी में भर ले |
    इस चुर्ण  में से आधा चम्मच चुर्ण शुध्द शहद के साथ चांटे |इससे घुटनो को  दर्द को  आराम मिलेगा |
  • घुटने पर कच्चे आलु को पिसकर उसकी  पुठली बांधे |
  • कच्चा करेला ले |इसका रस निकलकर गरम  करे और इससे मोलीश करे |
  • नागकेसर के बिजो का तेल लेकर रस निकलकर गरम करे और इससे मोलीश करे |
  • यदि फालसे की जड मिल जाए तो इसका काढा तैयार करे |इसे पीने से रोग जल्दी शांत होगा |
  • गठिया के रोगी को टमाटर या इसका सूप सेवन करते रहना चाहिए  |
  • प्याज का रस तीन चम्मच निकाले | इससे ३ चम्मच राई का तेल डाले | दोनो मिलाकर धीरे धीरे मालिश करे | गठीया रोग मे बहुत फायदा होता हे |
  • एक चम्मच मेथी को पिसकर चूर्ण बना ले | फिर इसे दोपहर के भोजन के बाद ताजा पानी  के साथ सेवन कारे | इसका ४० दिन सेवन करणे के बाद घुटनों का दर्द जाता है
  • गठिया रोग को जड से मिटाने के लिया असगंध के पंचाग का रस एक कप पी ले | इसें कुछ दिनो तक नियमित पिते रहें |
  • सुबह को  नित्य क्रिया से निपटने के बाद भूक पेट ३ ग्राम अखरोट की गिरी ,५ ग्राम पीसी हुई सोंठ तथा एक चम्मच अरुंड  का तेल ,
    तीनो चीजे एक साथ गुनगुने पानी से ले |
  • दोनो घुटनो पर रात को मिटटी  की पट्टी बांधे तथा गरम पानी  स्नान करे|
  • हर दुसरे दिन अरंडी के पत्ते पर तेल चूपडकर गरम करके घुटनो पर बांथे |
  • तुलसी के पत्तो उबाले |भाप उठने दें |प्रभावित अंग पर यह भाप पडने दें |
    बाद में इसका पानी जब सहन करणे योग्य गरम रह जाए.
    तो इससे प्रभावी अंग को शेकाई करे ,धोएं ,इससे पुरा आराम मिलेगा |
  • त्रिफला,पिपलामूल ,सोंठ , काळी मिर्च, पिपल-सबको 10-10 ग्राम की मात्रा में लेकर, पीसकर चुर्ण बना ले |इससे से दो चुटकी चुर्ण रोज सुबह शाम शहद के साथ सेवन करे |
  • हिंग को घी में मिलाकर हाथ,पैर में मालिश करे, जोडो के दर्द में आराम मिलेगा |
    यह तेल स्नयुओ को मजबूत बनता है |
  • १०० ग्राम कपूर तथा ४०० ग्राम तिल का तेल एक बरतन में बंद कर के  धूप में रखे |
    जब ठीक प्रकार से मिल जाए तो गठिया के दर्द वाले हिस्से पर मालिश करें,आराम अवश्य मिलेगा |
  • सरसों के तेल में सेंधा नमक मिलाकर गठिया में मालिश करने से भी आराम मिलता है |
  • लहसून के रस में कपूर मिलाकर मालिश करने से भी गठिया तथा वात रोग में आराम मिलता है |

दांतों में दर्द का इलाज घरेलु उपाय हिंदी में

Pet ka Gas kaise kam kare Gharelu Ilaj in Hindi

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...