Home » चेहरे की देखभाल » आँखों की देखभाल » आँख पर फुंसी क्यों होती है और इसके कारण इलाज और होम्योपैथिक दवा का नाम

आँख पर फुंसी क्यों होती है और इसके कारण इलाज और होम्योपैथिक दवा का नाम

आँख में फुंसी का इलाज

नमस्ते दोस्तों, आज इस लेख के माध्यम से हम आपको आंखों पर होने वाली फुंसी की जानकारी देंगे| और उसके कारण, लक्षण और उस पर इलाज कैसे करें की जानकारी देंगे। आंखों की फुंसी होना एक आम बात है। लेकिन इसकी जानकारी होना बहुत जरूरी है। आंखों की फुंसी को गुहेरी, बिलनी, अंजनहारी के नाम से भी लोग जानते हैं। गुहेरी किसी को भी हो सकती है। यह ज्यादा करके आंखों के ऊपरी पलक पर या फिर आंखों के निचले हिस्से पर होती है। यह कोई बड़ी बीमारी नहीं है। यह एक सामान्य बीमारी है। जिसमें आंखों की पलकों पर एक गाठ के जैसी हो जाती है। जिसकी वजह से पीड़ित व्यक्ति को आंखों में जलन खुजली होने लगती है। यह बहुत परेशान करने वाली समस्या है।| जिस किसी व्यक्ति को फुंसी की समस्या हो जाती है, उनको बहुत ही ज्यादा दर्द होता है। और उनकी आँखें सूज जाती हैं। इसकी वजह से आंखों में जलन और खुजली होने लगती है। और यह बहुत ही पीड़ादायक स्थिति होती है। यह कुछ दिनों तक ठीक नहीं हो पाती है। इस लेख के माध्यम से हम आपको फुंसी के कारण और उसके कुछ घरेलू उपाय और टोटके बताएँगे।

फुंसी की वजह से आंखों में जलन होने के साथ-साथ आंखों में पानी भी आता है। यह एक गाठ की तरह होती है| उसके बीच में एक पीले रंग की छोटी सी गाठ होती है। यहां ज्यादातर आंखों के बाहरी पलकों के हिस्से में ही होती है। आंखों की फुंसी बैक्टीरियल संक्रमण के कारण होती है। यह आंखों के लिए बहुत ही नुकसान कारण होती है। जिसकी वजह से आँखें सूख जाती है।

Loading...

आंखों के हिस्से में बहुत ज्यादा दर्द और जलन महसूस होती हैं। सामान्य तौर पर तो यह समस्या छोटी लगती है। लेकिन यदि यह बढ़ जाए तो यह गंभीर समस्या भी बन सकती हैं। इसके लिए समय रहते फुंसी का इलाज करना बहुत जरूरी है। जब भी फुंसी पलकों पर विकसित होती है। तभी आंख यानी कि पलक सूज जाती है। और आंख लाल हो जाती है। और आंखों में दर्द होने के साथ-साथ खुजली भी होती है। कई बार यह समस्या बहुत दिनों के लिए रहती है। जिसके कारण पीड़ित व्यक्ति बहुत परेशान हो जाता है।

आंखों पर फुंसी क्यों होती है ?

आंखों पर फुंसी क्यों होती है
आंखों पर फुंसी क्यों होती है

फुंसी बैक्टीरियल संक्रमण के कारण होती है। हमारे शरीर में कहीं सारे बैक्टीरिया होते हैं। कभी-कभी बैक्टीरिया आंखों के अंदर अगर चले गए यानी कि आंखों की पलकों में एक तेल ग्रंथि होती है इससे इंफेक्शन होता है। अगर बैक्टीरिया आंखों के अंदर चला गया तो उसके कारण यहां फुंसी हो सकती है। यह ज्यादा करके स्टेफायलोकोकल  बैक्टीरिया की कारण होती है। लेकिन यह अन्य किसी बैक्टीरिया के कारण भी हो सकती है। कभी-कभी मेले हाथ आंखों पर लगाने से भी यह होती है। क्योंकि इससे बैक्टीरिया का संक्रमण जल्दी होता है। वही आपकी आंखों के लिए हानिकारक है। आम तौर पर चिकित्सक यह कहते हैं कि यह विटामिन ए और विटामिन सी के कमी के कारण भी हो सकती है।

गुहेरी  होने के कारण :

गुहेरी  होने के कारण
गुहेरी  होने के कारण

कभी-कभी हम अपने शरीर का ध्यान अच्छे से नहीं रखते हैं। जैसे कि अगर हम बाहर से आते हैं या कुछ काम कर रहे होते हैं और हमारे हाथ खराब यानी कि हमारे हाथों पर बैक्टीरिया होते हैं। अगर वही हाथ हम आंखों पर लगा ले तो इससे भी आंखों में बैक्टीरिया जाने की संभावना बढ़ जाती है। जिसकी वजह से फुंसी हो जाती है। इसके कई सारे कारण हो सकते हैं। जैसे कि हारमोंस में बदलाव के कारण, पोषक तत्वों की कमी के कारण, नींद के कमी के कारण, या फिर तनाव लेने के कारण, आंखों पर ज्यादा मेकअप लगाने के कारण, क्योंकि सौंदर्य प्रसाधनों में भी बहुत सारे केमिकल का समावेश रहता है। जो आपकी आंखों के लिए हानिकारक हो सकता है। तो इन सभी बातों का आपको अपने दैनिक दिनचर्या में ध्यान रखना चाहिए। या फिर शरीर के ग्रंथियों से बहुत ज्यादा मात्रा में तेल निकलना इत्यादि गुहेरी होने के कारण हो सकते हैं।

गुहेरी के लक्षण :

गुहेरी के लक्षण
गुहेरी के लक्षण

गुहेरी होने से पहले कुछ लक्षण होते हैं। जैसे कि,

  1. आंखे लाल होना
  2. आंखें सूज जाना
  3. आंखों में खुजली होना 
  4. पलके ऊपर नीचे करने में समस्या होना
  5. पलकों के कोने में जलन होना

गुहेरी का घरेलू इलाज कैसे करें ?

गुहेरी का घरेलू इलाज कैसे करें
गुहेरी का घरेलू इलाज कैसे करें

गुहेरी को ठीक करने के लिए कुछ घरेलू नुस्खे आज हम आपको इस लेख के माध्यम से बताएँगे। जिसके इस्तेमाल से आप अपनी आंखों पर हुई गुहेरी का इलाज आसानी से कर सकते हैं। तो चलिए जानते हैं गुहेरी से छुटकारा पाने के लिए सरल और आसान घरेलू नुस्खे।

गर्म पानी का सेक :

एक कटोरी में गुनगुना पानी ले लीजिए। उसमें किसी कॉटन के कपड़े को गिला करके अपनी आंखों पर जिस जगह पर गुहेरी हुई है वहां पर उस कपड़े की सहायता सेक करें। इस के इस्तेमाल से आपके आंखों में जो जलन है तकलीफ़ हो रही है वह खत्म होगी और जल्द से जल्द गुहेरी की समस्या खत्म हो जाएगी।

ग्रीन टी  बैग :

ग्रीन टी का जो बैग होता है, उसको गर्म पानी में छोड़कर उसको बाहर निकाल ले और उससे आंखों पर सिकाई करें। इससे आपको राहत मिलेगी और आंखों की सूजन भी कम होगी।

एलोवेरा जेल :

आंखों के पलकों पर जहां गुहेरी हुई है, वहा पर एलोवेरा जेल लगाएँ। और उस पर किसी कॉटन के कपड़े से सिकाई करें। इससे सूजन कम होगी। और जो दर्द हो रहा है, उससे भी राहत मिलेगी। आपके गुहेरी की समस्या बहुत जल्दी खत्म हो जाएगी।

हाथों की उंगली को घिसकर गुहेरी पर लगाए :

हाथों की उंगली को दूसरे हाथ पर रगड़कर उसे गर्म कर ले। यानी कि बार-बार दूसरे हाथ की हथेली पर घिसे और वह गुहेरी पर लगाएँ। आपकी समस्या दूर होगी और जब भी आपको टाइम मिले यह दिन में  चार से पांच बार करते रहिएइसके इस्तेमाल से जल्द से जल्द आपकी गुहेरी की समस्या खत्म हो जाएगी। और आप को इस समस्या से छुटकारा मिलेगा।

इमली के बीज :

इमली के बीज के छिलके निकालकर उसको चंदन की तरह घिस के जहां पर गुहेरी हुई है वहां पर लगाएँ। इससे गुहेरी की समस्या जल्द से जल्द ठीक हो जाएगी। और आपको जो दर्द हो रहा है उससे भी छुटकारा मिलेगा।

लौंग इस्तेमाल से करें गुहेरी का इलाज :

दो से तीन लौंग लेकर उसको किसी पत्थर पर घिसकर उसे थोड़ा सा पानी मिलाकर। अपनी आंखों पर जहां पर भी गुहेरी हुई है। उस जगह पर लगाएँ। ध्यान रखें यह मिश्रण आपकी आंखों में ना जाने पाए। क्योंकि इससे आपकी आंखों में तकलीफ़ हो सकती है। इसके लिए जहां पर भी गुहेरी हुई है वहां पर ध्यान से इस मिश्रण को लगाएँ। इससे आपकी  गुहेरी की समस्या जल्द से जल्द खत्म हो जाएगी।

गुहेरी का होम्योपैथिक इलाज करने की दवा  :

गुहेरी का होम्योपैथिक इलाज
गुहेरी का होम्योपैथिक इलाज

होम्योपैथिक दवा बिलोनी यानी की गुहेरी के लिए उपयुक्त होती है। इस लेख के माध्यम से हम आपको होम्योपैथिक दवा की जानकारी देंगे। जिसके इस्तेमाल से आप अपनी पलकों पर हुई गुहेरी से छुटकारा पा सकते हैं।

Staphysagria 30 CH होम्योपैथिक मेडिसिन से होगी फुंसी का इलाज :

Staphysagria 30 CH
Staphysagria 30 CH

यह बहुत ही गुणकारी औषधी है फुंसी से हुई सूजन को कम करने के लिए। और यहां होम्योपैथिक मेडिसिन होने के कारण इसका किसी भी तरह का नुकसान नहीं है। यह आपकी फुंसी की समस्या को दूर कर देगी।

Hepar Sulphur 30 CH होम्योपैथिक दवा फुंसी के लिए :

Hepar Sulphur 30 CH
Hepar Sulphur 30 CH

हैपर सल्फर  30 सी एच एक होम्योपैथिक दवा है। जो फुंसी को ठीक करने में आपकी मदद करेगी। इसका किसी भी तरह का नुकसान नहीं है। जो आंखों के पलकों पर फुंसी हो जाती है। उसमें बीच में एक पीले रंग की पिंपल जैसी परत होती है। उसको यह दवाई लगा कर ठीक किया जा सकता है। और उनकी वजह से जो आंखों पर सूजन हो जाती हो जाएगी इसके अलावा गुहेरी के कारण जो आंखों में दर्द होता है वह भी कम हो जाएगा।

होम्योपैथिक मेडिसिन बिलोनी के इलाज के लिए- Calcarea fluor. 6x :

Calcarea fluor. 6x
Calcarea fluor. 6x

अगर आपको बार-बार यह समस्या होती है और पलकों पर एक गाठ जैसी हो जाती है। तो उसके लिए यह Calcarea fluor. 6x होम्योपैथिक दवा बहुत ही गुणकारी औषधि है। इसके इस्तेमाल से इस समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। और यह एक होम्योपैथिक दवा होने की वजह से किसी तरह का नुकसान नहीं है।

Loading...

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!