अमृतधारा के लाभ
फायदे और नुकसान

अमृतधारा के लाभ हिंदी में

अमृतधारा के लाभ

अमृतधारा के लाभ
अमृतधारा के लाभ

साधारण की देखने वाली यह औषधि रोग ग्रस्त के लिए वरदान है | यह औषधि शरीर में पहुंचते ही असर दिखाती है और रोगी का रोग दूर होकर राहत मिलती है |अमृतधारा सच में ही अमृत है | यह अनेकों बिमारियों की अनुभव घरेलू दवा है | इसकी मुख्य विशेषता यह है कि शरीर पर इसका कोई विशेष प्रभाव नहीं पड़ता | ग्रीष्म ऋतु के रोग जैसे अतिसार, लू लगना, जी मचलाना, उदरशूल, सिरदर्द, कीटनाशक, गैस, शोध मैं इसका प्रयोग करने से शीघ्र राहत मिलती है |

अमृतधारा के मुख्य घटक देशी कपूर ,अजवायन का तत्व तथा पिपरमिंट है | तीनों को संमभाग लेकर एक शीशी में रखकर ढक्कन लगा दे |यह शीघ्र तैयार होने वाली दवा है| इसकी मात्रा वर्ष के लिए तीन -चार बूंद रोगों की तीव्रता के समय 5-7 तथा 1 वर्ष से कम आयु के शिशु के लिए एक बूंद तथा 1 वर्षों से अधिक आयु के बच्चों को 1-2 बूंद दी जा सकती है |

Loading...

अमृतधारा के घरेलू उपाय :

दंतशूल :

दांत या दाढ़ में दर्द होने पर रुई के फाहे से अमृतधारा लगाएं |

दस्त :

5-7 अमृतधारा एक चम्मच अदरक के रस के साथ सेवन करने से लाभ होता है |

उल्टी :

5-7 अमृतधारा एक चम्मच अनार दाने के रस के साथ सेवन करने से उल्टी या जी मचलना में लाभ होता है |

हैजा :

हैजा तथा वमन की दशा में एक चम्मच प्याज के रस में दो बूंदे  अमृतधारा डालकर पीने से लाभ होता है |3 दिन में 3 बार इसका सेवन करें |

सिर दर्द :

दो बूंद से अमृत धारा ललाट पर मलने से सिर दर्द में लाभ होता है |

उदर रोग :

पेट दर्द अपच अफारा मंदकिनी खट्टी डकारे आदि रोगों में तीन -चार बूंद अमृत धारा पानी में डालकर सेवन करने से लाभ होता है |

खुजली :

10 ग्राम नीम के तेल में पांच बूंद अमृत धारा मिलाकर मालिश करने से सभी प्रकार की खुजली मिट जाती है |

बिवाई :

10 ग्राम वैसलीन में दो बूंदे अमृतधारा मिलाकर लगाने से फटे होंट और बिवाईया   ठीक हो जाती है |

दुर्बलता :

10 ग्राम गाय का मुख्यन व 5 ग्राम शहद में तीन बूंदे अमृत धारा मिलाकर प्रतिदिन खाने से शरीर की कमजोरी दूर होती है |

हिचकी :

एक -दो बूंद अमृत धारा जीभ पर रखकर अंदर की तरफ सूंघने से कुछ ही देर में हिचकी हो जाती है |

जोड़ों का दर्द :

जोड़ों का दर्द गठिया तथा कमर दर्द में अमृतधारा का 10 गुना तिल का तेल में मिलाकर मालिश करें |

छाले :

थोड़े से पानी में एक -दो बूंद अमृत धारा डालकर छालों पर लगाने से लाभ मिलता है |

Loading...
कैसे करे
दोस्तों हम सभी जानकारी केवल आपके लिए ही दे रहे है , आप हमें सहायता करेंगे और आपका साथ हमेशा देंगे इसकी उम्मीद करते है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *