बथुआ खाने के फायदे
बथुआ खाने के फायदे

Last Updated on

बथुआ खाने के फायदे

बथुआ खाने के फायदे
बथुआ खाने के फायदे

बथुआ पाचक तथा कब्ज दूर करना वाला होता है तथा गर्मी में इसका प्रयोग लाभदायक है | बथुआ का साग पेट साफ़ करता है | बथुए की तासीर गरम होती है | सर्दियों में बथुए का प्रयोग करने से शरीर में गर्मी बनी रहती है |

  इसमें केरोटिन तथा विटामिन ‘सी ‘ पाए जाते है | साथ ही इसमें आयरन ,सोना , पारा आदि कुछ क्षार तत्व पाए जाते है |बथुए में एक प्रकार का प्राकृतिक लवण होता है | किसी भी रूप में इसका प्रयोग करने से शरीर में लवणों की कमी नही होता | बथुए का प्रयोग चर्म रोगों में भी लाभ पहुचता है |

घरेलू उपचार : 

बथुआ के गुण क्या है जानते है :

  • जल जाने पर :

इसके पत्तो को पीसकर जले हुए स्थान पर लेप करने से जलन शांत हो जाते है |

  • सफेद दाग :

  बथुआ का रस दिन में ४-५ बार सफेद दागों पर लगाने से तथा साथ ही बथुए की सब्जी नियमित रूप से खाने से २-३ माह में सफेद दाग दूर हो जाते है |

  • कब्ज :

 कुछ सप्ताह तक नित्य बथुआ की सब्जी खाने से पुराना कब्ज भी दूर हो जाता है |

  • पथरी :

  बथुए के रस में शक्कर मिलाकर हररोज पीने से गुर्दे की पथरी दूर हो जाती है |

  • नेत्ररोग :

 हर रोज बथुआ का साग खाने से आँखों की सुजन , लाली तथा आँखों से पानी आना आदि रोग दूर होते है |

  • मासिक धर्म का बंद होना :

मासिक धर्म खुलकर न आता हो या रुका हुआ हो तो बथुआ के बीज पानी में उबालकर , छानकर पीने से लाभ होता है |

  • पेट के कीड़े :

 बथुए के रस में हल्का  सा नमक डालकर पीने से पेट के कीड़े मर जाते है |

  • चर्मरोग :

 बथुए के रस में तेल का तिल मिलाकर उबाले व पानी को जल जाने दे | इस तेल का चर्म रोगों पर लगाने से धीरे-धीरे लाभ होता है |

  • जुए :

बथुए को उबालकर इसके पानी से सिर धोने से जुए , लीखे तथा बालों की खुश्की दूर हो जाती है |

  • मूत्रवरोध :

नियमित रूप से बथुए का रस पीने से मूत्राशय के रोग खत्म होते है , और मूत्र खुलकर आने लगता है |

  • बवासीर :

 बथुए का रस या साग का सेवन करने से बवासीर के रोगी को  लाभ मिलता है |

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here