बवासीर से छुटकारा पाने का आसान तरीका

, , Leave a comment

नमस्ते दोस्तों, आज हम आपको बवासीर से छुटकारा पाने का आसान तरीका बताने वाले हैं | बहुत सारे लोगों को बवासीर होने के कारण उनकी जिंदगी पूरी तरह से खराब हो जाती है, क्योंकि जिस इंसान को पाइल्स, मलद्वार में मस्से की समस्या होती है उस इंसान को ऐसा महसूस होता है कि जीने की जगह हमने मर जाना चाहिए |

बवासीर से छुटकारा पाने का आसान तरीका
बवासीर से छुटकारा पाने का आसान तरीका

दोस्तों सचमुच यह बीमारी इतनी खतरनाक है कि इस बीमारी का सामना करते करते इंसान पूरी तरह से थक जाता है | इस आधुनिक दुनिया में हर किसी की लाइफस्टाइल पूरी तरह से बदल गई है, जिसके कारण हर किसी को विभिन्न प्रकार के रोग होते ही रहते हैं | जिन लोगों को बवासीर होता है उन लोगों को इस रोग से छुटकारा पाने में सालों लग जाते हैं | बवासीर अगर होता है तो सबसे पहले आपने बवासीर क्यों होता है, यह जान लेना चाहिए | जिन लोगों को बवासीर क्यों होता है यह पता नहीं होता है उन लोगों को इस रोग से छुटकारा पाने में काफी दिन लग सकते हैं | जबतक आप बवासीर के बारे में पूरी जानकारी नहीं जान लेते हो तब तक बवासीर से छुटकारा पाना नामुमकिन है | इसलिए आज हम आपको बवासीर के बारे में आपके मन में जो भी सवाल आते हैं उनके जवाब देने वाले हैं इस जानकारी को अगर आप अपनाकर देखते हो तो आसानी से आप बवासीर से छुटकारा पा सकोगे |

बवासीर क्या होता है ?

बवासीर क्या होता है
बवासीर क्या होता है
  • देखा जाए तो बवासीर के दो प्रकार होते हैं एक होता है खूनी बवासीर और दूसरा होता है बादी बवासीर | खूनी बवासीर जिस व्यक्ति को होता है उस इंसान को किसी प्रकार की तकलीफ नहीं होती है, लेकिन जिस इंसान को खूनी बवासीर होता है उस इंसान के मलद्वारा से खून निकलते रहता है | कुछ लोगों को खूनी बवासीर इतना ज्यादा हो जाता है कि टॉयलेट करते समय उनके मेल द्वारा पिचकारी की तरह खून बाहर आने लगता है | इसलिए खूनी बवासीर काफी दर्दनाक हो सकता है, जिन लोगों का खूनी बवासीर बहुत ही पुराना हो जाता है उन लोगों को रोजाना सुबह टॉयलेट करते समय बहुत ही दर्द का सामना करना पड़ता है |
  • बवासीर का दूसरा प्रकार होता है, बादी बवासीर | जिन लोगों को बादी बवासीर होता है उन लोगों के पेट में हमेशा कब्ज रहते है, मतलब उनका पेट हमेशा खराब रहता है | जिन लोगों का पेट हमेशा खराब रहता है उन्हें पेट में जलन,पेट में दर्द, पेट में खुजली, शरीर में बेचैनी, ऐसी समस्याओं का भी सामना करना पड़ता है | इसलिए बादी बवासीर भी काफी दर्दनाक होता है, बादी बवासीर का उपचार आसानी से किया जाता है इसलिए बादी बवासीर से छुटकारा पाना कोई मुश्किल काम नहीं होता है |

बवासीर के शुरुआती लक्षण क्या है ?

बवासीर के शुरुआती लक्षण क्या है
बवासीर के शुरुआती लक्षण क्या है
  • जिन लोगों को बवासीर होता है उन लोगों को पहले के कुछ दिनों में समझ में नहीं आता है कि हमें बवासीर हो चुका है, क्योंकि बवासीर धीरे-धीरे होता है | पहले पहले जब बवासीर होता है तब हमारा पेट पूरी तरह से खराब हो जाता है. जिन लोगों के पेट में हमेशा कब्ज होते हैं उन लोगों ने समझ जाना है कि उन्हें आगे चलकर बवासीर होने की संभावना ज्यादा है | कई बार बवासीर के कारण बहुत सारे लोगों को टॉयलेट जाने की इच्छा नहीं होती है, क्योंकि बवासीर के शुरुआती के कुछ दिनों में लैट्रिन करते समय काफी दर्द महसूस होने लगता है | लैट्रिन करते समय दर्द महसूस होने के कारण लोग लैट्रिन जाते ही नहीं है, जिसके कारण बवासीर और ज्यादा बढ़ने लगता है | बवासीर के लक्षण अगर आपको समझना है तो जिस दिन आपने मसालेदार खाना खाया है उस दिन आपके लैट्रिन के साथ साथ खून बाहर निकलेगा, जिस दिन ऐसा होता है उस दिन आपने समझ जाना है कि आपको बवासीर हो चुका है | कई बार खाने पीने की गलत आदतों के कारण भी बवासीर होता है, किसी दिन अगर आपको लेट्रिन की जगह पर तेज दर्द होने लगता है और तुरंत लैट्रिन की जगह से खून बाहर निकलता है तो यह बवासीर का सबसे बड़ा लक्षण है |

बवासीर में क्या खाना चाहिए ?

बवासीर में क्या खाना चाहिए
बवासीर में क्या खाना चाहिए
  • आमतौर पर जिन लोगों को बवासीर होता है उन लोगों की जीवनशैली पूरी तरह से गलत होती है | बवासीर होने पर आपने आपके खाने पीने की आदतों को बदलना बहुत ज्यादा जरूरी होता है, बवासीर में हरी पत्तेदार सब्जियां खाना फायदेमंद होता है | हरे पत्तेदार सब्जियों में बहुत सारे पोषक तत्व और एंटी ऑक्सीडेंट होता है जो आपके पाचनतंत्र को सुधारने के साथ साथ बवासीर से छुटकारा पाने में आपकी मदद करता है | बवासीर में आप पालक, पत्तागोभी, शतावरी, ब्रोकली, प्याज, गाजर, फुल गोबी, इन सब्जियों का सेवन कर सकते हो |
  • बवासीर में ईसबगोल खाना काफी फायदेमंद होता है, इसबगोल में फाइबर की मात्रा बहुत ज्यादा होती है जो आपके पेट में किसी प्रकार का कब्ज नहीं रहने देता है | ईसबगोल खाने से आपका डाइजेशन ठीक तरह से होगा और बवासीर से छुटकारा पाने में मदद होगी |
  • जिन लोगों को बवासीर होता है उन लोगों ने सुबह के वक्त मसालेदार चीजों का सेवन ना करते हुए ताजा फल खाना चाहिए | ताजा फल खाने से आपके शरीर को काफी मात्रा में फाइबर मिलेंगे और विटामिन, खनिज भी मिलेंगे जिससे आपकी पाचनशक्ति मजबूत होगी | बवासीर में स्ट्रॉबेरी, अंगूर, पपीता, संतरा, अंगूर, इन फलों का सेवन करें |
  • खाना खाते समय इन दिनों में ज्यादा मसालेदार चीजों का सेवन बिल्कुल ना करें, इन दिनों में आपने अंकुरित अनाज और साबुत अनाज खाना चाहिए | अंकुरित अनाज में विटामिन सी, प्रोटीन, कैलशियम, ज्यादा होते हैं जिससे बवासीर का इलाज होने में आपको फायदा होगा |

बवासीर में क्या खाना नहीं चाहिए ?

बवासीर में क्या खाना नहीं चाहिए
बवासीर में क्या खाना नहीं चाहिए
  • खासकर बवासीर में आपने मसालेदार चीजों का सेवन बिलकुल नहीं करना चाहिए, इन दिनों में आपने फैटयुक्त चीजों का भी सेवन नहीं करना चाहिए | अधिक मात्रा में फैटयुक्त चीजों का सेवन करने से बवासीर का इलाज करने में समस्या आ सकती है |
  • बहुत सारे लोगों को धूम्रपान करने की आदत होती है, दोस्तों जल्द से जल्द अगर आपको बवासीर से छुटकारा पाना है तो धूम्रपान करना पूरी तरह से छोड़ दे | अगर आप धूम्रपान भी करोगे और बवासीर का इलाज भी लोगे तो बवासीर से छुटकारा पाना नामुमकिन है |
  • बवासीर में आपने शराब भी नहीं पीना चाहिए, बवासीर में शराब पीने से आपके लैट्रिन के साथ साथ खून बाहर निकलेगा जिससे आपके शरीर में संक्रमण होने की संभावना ज्यादा होती है | बवासीर में शराब पीने से पाचन तंत्र पूरी तरह से खराब हो सकता है |
  • जो लोग लंबे दिनों से बवासीर का उपचार ले रहे हैं उन लोगों ने इन दिनों में कैफीन युक्त चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए | कैफीनयुक्त चीजों में कॉफी, चाय शामिल है इसलिए इन दिनों में कॉफी चाय बिल्कुल ना पिए और चॉकलेट भी ना खाएं |
  • बवासीर होने पर आपने अधिक मात्रा में प्रोटीन युक्त पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए | डाइजेशन होने के लिए प्रोटीन युक्त चीजें मददगार नहीं होती है | अधिक मात्रा में प्रोटीन खाने से बवासीर की समस्या और बढ़ने की संभावना होती है |
  • सबसे महत्वपूर्ण मतलब बवासीर में आपने बिल्कुल भी मसालेदार चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए | मसालेदार चीजों का सेवन करने से बवासीर तो बढ़ेगा ही लेकिन आपको और बीमारी होने की भी संभावना होती है इसलिए मसालेदार चीजों का इन दिनों में सेवन ना करें |

पाइल्स का इलाज कैसे किया जाता है ?

पाइल्स का इलाज कैसे किया जाता है
पाइल्स का इलाज कैसे किया जाता है
  • हमारे शरीर में जब निदान होता है कि हमें पाइल्स हो चुका है तब सबसे पहले कुछ घरेलू उपाय इस्तेमाल करके आप पाइल्स का इलाज कर सकते हो | कुछ लोग घर पर विभिन्न प्रकार के उपाय इस्तेमाल करके डॉक्टर की सलाह लेते हैं | घरेलू तरीकों का इस्तेमाल करके अगर पाइल्स काबू में रहता है तो आप घरेलू तरीकों का इस्तेमाल करना शुरू रख सकते हो | लेकिन घरेलू उपाय का इस्तेमाल करने के बाद भी अगर पाइल्स काबू में नहीं रहता है तो आपने किसी अच्छे डॉक्टर की सलाह लेना जरूरी है | बहुत सारे लोग पाइल्स का इलाज लेने के लिए डॉक्टर के पास जाते हैं और डॉक्टर को कहते हैं कि हमें पाइल्स से छुटकारा पाना है | लेकिन पाइल्स का उपचार लेते समय अगर आप पाइल्स में जो चीजे नहीं खाते हैं वह अगर आप खाते हो तो पाइल्स का इलाज जिंदगी भर करने के बाद भी नहीं हो सकेगा | क्योंकि पाइल्स का इलाज करते समय आपका आपके शरीर पर और आपके मन पर काबू होना जरूरी है | उपरोक्त उपायों के पश्चात भी अगर रक्तस्त्राव शुरू रहता है तो आपने ऑपरेशन का निर्णय लेना चाहिए, पाइल्स का ऑपरेशन करने से पाइल्स से छुटकारा पाने में काफी मदद होती है |

पुराने बवासीर का इलाज कैसे करें ?

पुराने बवासीर का इलाज कैसे करें
पुराने बवासीर का इलाज कैसे करें
  • पुराने बवासीर का इलाज अगर डॉक्टर की सलाह से कर देखो तो कोई बात नहीं है, लेकिन ऐसा कहते हैं कि पुरानी बवासीर का इलाज हम घर के उपाय इस्तेमाल करके भी कर सकते हैं | ऐसे बहुत सारे घर के उपाय हैं जिनका इस्तेमाल करने से पुरानी बवासीर से हम छुटकारा पा सकते हैं | बहुत सारे एलोपैथिक डॉक्टर ऐसे हैं जो पुरानी बवासीर का इलाज आसानी से कर सकते हैं | पुरानी बवासीर का इलाज जब आप करते हो तब आपने खुद के खाने पीने पर काबू रखना सबसे ज्यादा जरूरी होता है | पुरानी बवासीर का इलाज करते समय अगर आप खान-पान पर काबू नहीं रखोगे तो इलाज करके कोई फायदा नहीं है | क्योंकि पुरानी बवासीर को जड़ से निकालने के लिए खाने पीने की आदतों को लगाम रखना सबसे महत्वपूर्ण बात होती है | इसलिए पुरानी बवासीर का इलाज करते समय डॉक्टर की सलाह ले या किसी गुरु जी की सलाह ले |

केले से बवासीर का इलाज कैसे करें ?

केले से बवासीर का इलाज कैसे करें
केले से बवासीर का इलाज कैसे करें
  • प्राचीन काल से कहा जाता है कि केले से बवासीर का इलाज कर सकते हैं, कुछ लोग ऐसे भी हैं जो केले का इस्तेमाल करके बवासीर का इलाज करते हैं | जिन लोगों को हमेशा मसालेदार चीजों का सेवन करने की आदत होती है उन लोगों से केले से बवासीर का इलाज करना बिल्कुल भी संभव नहीं है | क्योंकि जब आप केले से बवासीर का इलाज करते हो तब आपने १ दिन के लिए कुछ नहीं खाना होता है, जिस दिन आप किसी गुरुजी से या किसी अन्य से बवासीर का इलाज लेते हो तब आपने सिर्फ केले का सेवन करना होता है | दिन भर में दो-तीन केले का सेवन करने से हमारे शरीर में जो भी अतिरिक्त कब्ज है वह निकल जाते हैं | इसलिए केले से बवासीर का इलाज गुरुजी की सलाह से ही करें, केले का जब आप सेवन करते हो तब थोड़ी मात्रा में अगर आप शहद का सेवन करते हो तो आपको काफी फायदेमंद असर मिलेगा |

एलोवेरा से बवासीर का इलाज कैसे करते हैं ?

एलोवेरा से बवासीर का इलाज कैसे करते हैं
एलोवेरा से बवासीर का इलाज कैसे करते हैं
  • एलोवेरा से बवासीर का इलाज करते समय एलोवेरा रोजाना सुबह नाश्ता करने के बाद खाना चाहिए | जो लोग रोजाना सुबह नाश्ता करने के बाद एलोवेरा का सेवन करते हैं उन लोगों को बवासीर से छुटकारा पाने में कुछ ही दिन लगते हैं | जिन लोगों के लेट्रिन की जगह से हमेशा खून बाहर निकलता है उन लोगों ने लेट्रिन जाने के बाद लैट्रिन की जगह पर एलोवेरा लगाना चाहिए जिससे आपके लैट्रिन की जगह हमेशा मुलायम रहेगी और आपको किसी प्रकार का दर्द नहीं होगा | बहुत सारे लोग ऐसे होते हैं जो एलोवेरा का जूस रोजाना पीते हैं, दोस्तों हम आपको बताना चाहते हैं कि हमेशा और रोज एलोवेरा का जूस पीने से बवासीर की समस्या और ज्यादा बढ़ने की संभावना होती है क्योंकि एलोवेरा काफी मात्रा में गर्म होता है इसलिए अधिक मात्रा में एलोवेरा का सेवन बिल्कुल ना करें | डॉक्टर की सलाह से अगर आप एलोवेरा का सेवन करते हो तो बहुत ही अच्छी बात है |

बवासीर में मस्सों के लिए मलहम का इस्तेमाल कैसे करें ?

बवासीर में मस्सों के लिए मलहम का इस्तेमाल कैसे करें
बवासीर में मस्सों के लिए मलहम का इस्तेमाल कैसे करें
  • जिस तरह से हमने ऊपर देखा कि बवासीर सिर्फ दो प्रकार के होते हैं जिन लोगों को सूखी बवासीर होती है उन लोगों को लैट्रिन करते समय लैट्रिन के साथ साथ खून आने की समस्या ज्यादा होती है | जिन लोगों को लैट्रिन करते समय बहुत ज्यादा मात्रा में खून आने की समस्या होती है उन लोगों ने रात को सोने से पहले लैट्रिन की जगह पर मलहम का इस्तेमाल करना चाहिए | मलहम का इस्तेमाल करने से आपके लैट्रिन की जगह पर जो भी खून आता है वह आना बंद हो जाएगा | जिन लोगों को बवासीर में मस्सों की समस्या ज्यादा होती है उन लोगों ने डॉक्टर की सलाह से मलहम का इस्तेमाल करना बहुत ज्यादा जरूरी है | अगर आप मस्सों पर मलहम नहीं लगाओगे तो मस्सों की संख्या और ज्यादा बढ़ेगी जिसके कारण बवासीर बढ़ने में ज्यादा वक्त नहीं लगेगा | इसलिए बवासीर को कंट्रोल में रखने के लिए मस्सों पर मरहम लगाना बहुत ही जरूरी है |

बवासीर के लिए योगासन ?

बवासीर के लिए योगासन
बवासीर के लिए योगासन
  • पाइल्स यानी कि बवासीर के लिए बहुत सारे योगासन है, अगर आप रोजाना योगासन करते हो तो बवासीर में आपको किसी प्रकार की तकलीफ नहीं होगी और आसानी से आप बवासीर से छुटकारा पा सकते हो | बवासीर होने पर आपने रोजाना शीर्षासन और सर्वांगासन करना चाहिए, शीर्षासन और सर्वांगासन करने से बवासीर से होने वाले दर्द से आप आसानी से छुटकारा पा सकते हो |
  • बवासीर होने पर पवनमुक्तासन करना जरूरी है, पवनमुक्तासन करने से बवासीर की परेशानी कम होने के साथ-साथ आपके पेट में जो भी समस्या है वह हल होने में काफी मदद होती है | जिन लोगों को गर्दन में और पीठ में काफी दर्द होता है उन्होंने पवनमुक्तासन करना जरूरी है |
  • पश्चिमोत्तानासन और मत्स्यासन करने से रीड की हड्डी सीधी रहती है और बाकी के समस्याओं से भी आप आसानी से हल मिला सकते हो | जिन लोगों को हमेशा पश्चिमोत्तरआसन करने की आदत होती है उन्हें बवासीर से छुटकारा पाने में कुछ ही दिन लग सकते हैं |
  • मत्स्यासन पाइल्स ट्रीटमेंट के लिए बहुत ही कारगर होता है, जिन लोगों के पेट में डाइजेशन की प्रॉब्लम होती है उन्होंने यह सारे आसन कर्न्ने चाहिए जिससे कुछ दिनों के अंदर अंदर ही आप पाइल्स से छुटकारा पा सकते हो |

बवासीर की अचूक पतंजलि दवा ?

बवासीर की अचूक पतंजलि दवा
बवासीर की अचूक पतंजलि दवा
  • बवासीर के लिए पतंजलि ने बहुत सारी दवाइयां निकाली है, जैसे कि अगर आप रोजाना दिव्य सर्वकल्प और दिव्य कायाकल्प पीते हो तो बवासीर से छुटकारा पाने में आपको बहुत ही मदद मिलेगी |
  • बाजार में पतंजलि की दिव्य अर्शकल्प वटी यह टैबलेट मिलती है,इस टैबलेट का इस्तेमाल करने से बवासीर में होने वाले दर्द से आप छुटकारा पा सकते हो | बाजार में मुलेठी तथा कायाकल्प से बनी हुई दिव्य सप्तशती औषधि मिलती है |
  • बवासीर से छुटकारा पाने के लिए अभयरिश्ता, उदरकल्प, कायाकल्प, दिव्य त्रिफला चूर्ण, दिव्य मुलेठी चूर्ण, दिव्य अर्शकल्प वटी, यह सारी दवाइयों का अगर आप सेवन करते हो तो आसानी से आप बवासीर से छुटकारा पा सकते हो |

गोक्षुरा का सेवन करने के फायदे

 

Leave a Reply