छोटे बच्चे को नींद क्यों जरूरी है ?

, , Leave a comment

नमस्ते दोस्तों आज हम आपको छोटे बच्चे को नींद क्यों जरूरी है के बारे में जानकारी देने वाले हैं | हम देखते हैं कि बच्चे का जन्म होने के बाद बच्चा दिन भर में थोड़े थोड़े वक्त के बाद सोता रहता है | कई बार जब बड़े लोग बच्चे को देखते रहते हैं कि बच्चा थोड़े थोड़े देर के बाद सोता रहता है, सोने के बाद बच्चा फिर से उठता है, फिर से मस्ती करता है और फिर से सो जाता है |

बच्चे की इस क्रिया को देखकर बहुत सारे लोगों को सवाल होता है कि छोटे बच्चे को नींद जरूरी क्यों होती है | सबसे पहले हम आपको बताना चाहते हैं कि जिस तरह से हर किसी का जन्म होता है तब हर किसी के शरीर का विकास पूरी तरह से नहीं हुआ होता है |

छोटे बच्चे को नींद क्यों जरूरी है
छोटे बच्चे को नींद क्यों जरूरी है

जब हमारा जन्म हुआ था तो हम भी छोटे थे लेकिन जैसे-जैसे सालों बीतने लगे वैसे वैसे हमारे शरीर का साइज बड़ा और हमारे शरीर की ग्रोथ हो सकी |

लेकिन बहुत सारे छोटे बच्चे ऐसे होते हैं जिन्हें सुलाना बहुत ही मुश्किल होता है | देखा जाए तो बच्चे की नींद बच्चों के शरीर पर निर्भर होती है, लेकिन बच्चे का जब जन्म हुआ होता है तब हर बच्चे को नींद जरूरी होती ही है |

अगर आपके बच्चे का जन्म अभी-अभी हुआ है और फिर भी आपका बच्चा सोता नहीं है तो यह आपके बच्चे के सेहत के लिए बिल्कुल उचित नहीं है | इसलिए बच्चे की नींद के बारे में आज हम आपको पूरी जानकारी बताएंगे, इस जानकारी के तहत बच्चे की नींद के बारे में आपको सारे जवाब मिल जाएंगे |

छोटे बच्चों को सुलाना क्यों जरूरी है ?

छोटे बच्चों को सुलाना क्यों जरूरी है
छोटे बच्चों को सुलाना क्यों जरूरी है
  • छोटे बच्चे जब सोते हैं तब उनके शरीर का विकास होते रहता है, जिसके कारण छोटे बच्चों को सुलाना काफी ज्यादा जरूरी होता है |
  • मनुष्य के शरीर का विकास होने के लिए मनुष्य के शरीर में होने वाली कोशिकाएं व्यस्त रहना जरूरी होता है | जिसके कारण छोटा बच्चा जब सो जाता है तब बच्चे के शरीर में कोशिकाएं व्यस्त रहती है, जिससे बच्चे के शरीर का हर एक अंग विकासशील होता है |
  • जिस तरह से हम देखते हैं कि छोटे बच्चों को कुछ समझ में नहीं आता है क्योंकि छोटे बच्चों को अकल होती ही नहीं है | छोटा बच्चा जब नींद लेता है तब छोटे बच्चे का दिमाग अपने दाएं और बाएं और से विकसित होते रहता है |
  • कई बार हम देखते हैं कि बहुत सारे बच्चे बड़े होकर ठीक तरह से जिंदगी नहीं जी पाते हैं, क्योंकि कई बार उनके सिर में दर्द होते रहता है, लगातार पैरों में ऐंठन होते रहती है, पेट में कुछ ना कुछ समस्या होती है ऐसे वक्त आपने समझ जाना है कि बचपन में ही बच्चे का विकास नहीं हुआ है |
  • अगर आपको लगता है कि आपके बच्चे के शरीर का विकास पूरी तरह से होना चाहिए तो आपका बच्चा दिन भर में ज्यादा से ज्यादा नींद लेता है तो बहुत ही अच्छा है | कम उम्र में अच्छी नींद ना आने से बच्चों के शरीर का विकास रुक सकता है |

बच्चे की नींद पूरी होने से क्या फायदा मिलता है ?

बच्चे की नींद पूरी होने से क्या फायदा मिलता है
बच्चे की नींद पूरी होने से क्या फायदा मिलता है
  • बच्चे के शरीर को जितना ज्यादा आराम मिलेगा उतना ज्यादा बच्चे के शरीर में ब्लड सरकुलेशन बढ़ेगा | बच्चे के शरीर में ब्लड सरकुलेशन बढ़ने से बच्चे के शरीर की मांसपेशियों में ज्यादा से ज्यादा खून का संचार हो पाता है |
  • मांसपेशियों में रक्त पहुंचने के कारण बच्चे के शरीर में ताकत आती है जिससे बच्चे के शरीर की कोशिका धीरे-धीरे बढ़ने लगती है |
  • बच्चे का नींद का चक्र अगर मां-बाप समझ लेते हैं तो बच्चे के शरीर का विकास ठीक तरह से होने में मदद मिलती है |
  • जो बच्चे पूरी नींद लेते हैं उन बच्चों के मस्तिष्क की गतिविधियां सही रहती है जिसके कारण बच्चा अपने शरीर की सारी गतिविधियों को कंट्रोल में रख पाता है |
  • हम देखते हैं कि छोटे बच्चों को जब टॉयलेट लगती है तब वह किसी को भी बताते नहीं है कि उनको टॉयलेट लगी है |
  • देखा जाए तो उनको भी पता नहीं होता है कि अब हमें टॉयलेट आई है, इस उदाहरण से आपने समझ लेना चाहिए कि बच्चे का शरीर कम उम्र में उसके कंट्रोल में नहीं होता है | इसलिए पूरी नींद लेने से बच्चे का शरीर धीरे धीरे उसके कंट्रोल में आने लगता है|
  • बच्चे की नींद पूरी होने से बच्चे के दिल की धड़कने नियमित होती है, जिससे बच्चा सांस लेने में कोई तकलीफ महसूस नहीं करता है ऐसे बहुत सारे बच्चे की नींद पूरी होने के फायदे हैं |

बच्चों को कितना समय नींद लेना चाहिए ?

बच्चों को कितना समय नींद लेना चाहिए
बच्चों को कितना समय नींद लेना चाहिए
  • संशोधनकर्ताओं के मुताबिक अगर देखा जाए तो छोटे बच्चे को दिन भर में करीब करीब ११-१४ घंटे की नींद जरूरी होती है |
  • जिस बच्चे की उम्र ३ महीने के अंदर अंदर होती है उस बच्चे को २४ घंटे में से १४ से १७ घंटे की नींद जरूरी होता है | ३ महीने से कम जिस बच्चे की उम्र है उस बच्चे ने लगातार १-२ घंटे के बाद २ घंटे सोना जरूरी है |
  • नेशनल स्लीप फाउंडेशन के अनुसार जिस बच्चे की उम्र ४ महीने से ११ महीने तक है उस बच्चे ने २४ घंटों में से १२ से १५ घंटे नींद लेना जरूरी होता है, मतलब आधा दिन बच्चे का नींद में व्यस्त होना चाहिए |
  • जिस बालक की उम्र १ से २ साल है उस बालक की नींद दिन भर में ११ से १४ घंटे होना जरूरी है, जिससे बच्चे के हाथ पैर और बच्चे का मस्तिष्क विकसनशील होने में मदद मिलेगी |
  • जिन बच्चों की उम्र ३ साल से ५ साल होती है उन बच्चों ने रोजाना १० से १३ घंटे की नींद लेना जरूरी है जिससे बच्चे की कद बढ़ने लगेगी और बच्चे के शरीर की सारी गतिविधियां उसके कंट्रोल में रहेगी |
  • इस तरह से बच्चे के उम्र के मुताबिक बच्चे की नींद होना जरूरी होता है, जिससे आपका बच्चा हमेशा स्वस्थ और अच्छा महसूस करेगा |

छोटे बच्चों को कैसे सुलाये ?

छोटे बच्चों को कैसे सुलाये
छोटे बच्चों को कैसे सुलाये
  • छोटे बच्चों की नींद अगर पूरी नहीं होती है तो मां बाप ने जान लेना चाहिए कि छोटे बच्चों को कैसे सुलाना चाहिए होता है |
  • अगर आपका बच्चा लंबे समय तक सोना चाहिए ऐसा अगर आपको लगता है तो बच्चे को सुलाने से पहले बच्चे के पैरों में पैजामा पहनाये | जिससे बच्चे को ठंड नहीं लगेगी और बच्चा लंबे वक्त तक सो सकेगा |
  • बच्चे को सुलाते समय मां बाप ने उसे लोरी सुनाना चाहिए, अगर आपको लोरी नहीं आती है तो आपने बच्चे को पहले कुछ मिनटों में अच्छी अच्छी कहानियां सुनाना चाहिए जिससे बच्चे पर संस्कार होने के साथ-साथ बच्चा जल्दी सो सकेगा |
  • बच्चे को सुलाने से पहले मां ने बच्चे को दूध पिलाना चाहिए, बच्चे का पेट अगर भरा हुआ है तो बच्चा घंटों तक सो सकेगा और आप बिना किसी चिंता करे आपका काम पूरा कर सकते हो |
  • आपका बच्चा जब सोया हुआ होता है तब आपने उस कमरे का लाइट बंद कर देना चाहिए, जिससे बच्चे के आंखों पर रौशनी नहीं आएगी और बच्चा लंबे समय तक सो सकेगा |
  • अगर आपका बच्चा कुछ आवाज होती है तो उठ जाता है तो आपने बच्चे के कमरे के दरवाजे को बंद कर लेना चाहिए जिससे बच्चा लम्बे समय तक नींद ले सकेगा और बच्चे के शरीर का विकास अच्छी तरह से हो सकेगा |
  • बहुत सारे बच्चे भूख के कारण लंबे समय तक नहीं सो पाते हैं, इसलिए बच्चे को सोने से पहले कुछ ना कुछ खिलाना चाहिए या मां का दूध देना चाहिए जिससे बच्चा आजादी का अनुभव करेगा और चैन की नींद सो सकेगा |

बच्चे की नींद पूरी नहीं हुई तो क्या होता है ?

बच्चे की नींद पूरी नहीं हुई तो क्या होता है
बच्चे की नींद पूरी नहीं हुई तो क्या होता है
  • बच्चे की नींद अगर पूरी नहीं होती है तो बच्चे के शरीर का विकास ठीक तरह से नहीं हो सकेगा, इसलिए मां-बाप ने बच्चे को सुलाने से पहले बच्चे के बिस्तर को अच्छी तरह से सजाना चाहिए और बच्चे के कमरे को आवाज वाली जगह से बंद रखें जिससे बच्चे के नींद में किसी प्रकार की बाधा नहीं आएगी |
  • अगर मां अपने बच्चे के साथ सो सकती है तो आपका बच्चा लंबे समय तक सो सकता है, लेकिन जब मां-बाप अपने कामों में व्यस्त होते हैं तब बच्चे की नींद पूरी नहीं हो पाती है |
  • बच्चे की नींद अगर पूरी नहीं हो सकेगी तो बच्चा दिन भर रोएगा, बच्चा आपको चैन से किसी से बात नहीं करने देगा | जिसके कारण बच्चा हमेशा किसी ना किसी बात को लेकर रोना शुरू करेगा और यह बात बिल्कुल गंदी होती है |
  • बच्चे की नींद पूरी ना होने पर बच्चे को भूख नहीं लगती है, बच्चे को सोते समय डर लगता है, बच्चे को बहुत गर्म होता है, ऐसे कुछ लक्षण है जिनके कारण बच्चे की नींद नहीं हो पाती है |
  • जिन बच्चों को हाइपरएक्टिविटी नामक बीमारी होती है, अक्सर उन बच्चों के बौद्धिक क्षमता का विकास रुक जाता है क्योंकि जब तक बच्चे के शरीर का विकास नहीं हो सकेगा तब तक बच्चे के शरीर को आराम नहीं मिलेगा |

बच्चे को नींद आने के लिए क्या करें ?

बच्चे को नींद आने के लिए क्या करें
बच्चे को नींद आने के लिए क्या करें
  • सबसे पहले हम आपको बताना चाहते हैं कि बच्चे को नींद आने के लिए मां ने सोने से पहले अपने बच्चे को दूध या कोई ना कोई पदार्थ खाने के लिए देना चाहिए जिससे बच्चे का पेट भरा हुआ होगा और बच्चा चैन की नींद सो के सकेगा |
  • अगर आपके बच्चे को हमेशा थकान महसूस होती है तो आपने बच्चे को ज्यादा बाहर खेलने के लिए बाहर नहीं भेजना है या बच्चे को ज्यादा घुमाना नहीं चाहिए |
  • बहुत सारे बच्चों के शरीर को पूरी तरह से पोषक तत्व ना मिलने के कारण भी बच्चे चैन की नींद नहीं सो पाते हैं, इसलिए मां ने अपने बच्चे के डाइट पर पूरी तरह से ध्यान रखना चाहिए |
  • छोटे बच्चे का विकास ठीक तरह से होने के लिए बच्चे के शरीर में प्रोटीन, विटामिंस, कार्बोहाइड्रेट्स यह सारे पोषक तत्व होना जरूरी होता है | जिससे बच्चे के शरीर की कोशिकाएं मजबूत हो सकेगी और बच्चे की मांसपेशियां भी मजबूत होगी |
  • बच्चे को सुलाने से पहले बच्चे को टॉयलेट करने के लिए ले जाए, सोते वक्त अगर बच्चा पैंट में टॉयलेट कर देता है तो बच्चे की नींद खराब हो सकती है |
  • पहले से ही इन छोटी-छोटी बातों का अगर आप ध्यान रखोगे तो आपका बच्चा आसानी से लंबे समय तक नींद ले सकेगा और आपके बच्चे के शरीर का विकास भी ठीक तरह से होगा |
 

Leave a Reply