दशमूलारिष्ट सिरप का सेवन करने के फायदे और नुकसान

, , Leave a comment

नमस्ते दोस्तों, आज हम आपको दशमूलारिष्ट सिरप का सेवन करने के फायदे और नुकसान बताने वाले हैं | देखा जाए तो दशमूलारिष्ट पोषण युक्त दवा है, जो महिलाओं को प्रेग्नेंसी के वक्त शक्ति देने का काम करती है |

प्रेग्नेंसी के समय महिलाओं का शरीर काफी कमजोर हो जाता है जिसके कारण महिलाओं के शरीर में बिल्कुल ताकत नहीं होती है | जिसके कारण बहुत सारे चिकित्सक प्रसव के वक्त दशमूलारिष्ट सिरप का सेवन करने के लिए महिलाओं को कहते हैं |

दशमूलारिष्ट सिरप में ५० से अधिक आयुर्वेदिक जड़ीबूटी है जो एक आयुर्वेदिक दवाई का मिश्रण होता है, बहुत सारी महिलाओं को प्रेग्नेंसी के समय काफी कमजोरी महसूस होती है | क्योंकि प्रसव के समय महिलाओं के शरीर में ऊर्जा नहीं होती है, इस वक्त अगर महिला के शरीर को तुरंत ऊर्जा प्राप्त होती है तो महिला अपने बच्चे को ठीक तरह से जन्म दे पाती है और खुद को भी सवार पाती है |

कई बार हम देखते हैं कि बच्चे को जन्म देते समय यदि मां का मृत्यु हो जाता है या बच्चे का मृत्यु हो जाता है ऐसे वक़्त मां का और बच्चे का ख्याल रखना काफी मुश्किल हो जाता है | इसलिए दशमूलारिष्ट की जानकारी जानकर आपने इस सिरप के उपयोग जान लेना चाहिए जिससे सामान्य जिंदगी में किसी भी समस्या का सामना करने के लिए आप मजबूत रहोगी |

दशमूलारिष्ट सिरप क्या है ?

दशमूलारिष्ट क्या है
दशमूलारिष्ट क्या है

दशमूलारिष्ट एक आयुर्वेदिक सिरप है जिसमें ५० से अधिक आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों का मिश्रण होता है | दशमूलारिष्ट सिरप का मुख्य काम महिलाओं के शरीर में शक्ति लाना होता है, क्योंकि प्रसव के वक्त महिलाओं को उबारने के लिए दशमूलारिष्ट सिरप सही काम करता है |

महिला जब बच्चे को जन्म देती है तब महिला के शरीर में काफी कमजोरी होती है, काफी अकड़न होती है जिसके कारण महिलाएं ठीक तरह से कोई भी काम नहीं कर पाती है |

इस दौरान महिला अगर दशमूलारिष्ट सिरप पीती है तो महिला के शरीर में तुरंत शक्ति आएगी और महिला को सुनिश्चित स्वास्थ्यलाभ महसूस होगा | दशमूलारिष्ट सिरप का सेवन सिर्फ महिलाओं ने ही करना चाहिए ऐसा नहीं होता है, अगर आप पुरुष हो तो भी आप चिकित्सक की सलाह से दशमूलारिष्ट सिरप पी सकते हो |

दशमूलारिष्ट टॉनिक का सेवन करने के फायदे क्या है ?

दशमूलारिष्ट टॉनिक का सेवन
दशमूलारिष्ट टॉनिक का सेवन
  • स्वाभाविक रूप से प्रसव के बाद महिलाओं में आने वाली कमजोरी को दूर करने का काम दशमूलारिष्ट टॉनिक करता है |
  • दशमूलारिष्ट सिरप में सारे पोषक तत्व होते हैं जिसके कारण शरीर का ठीक तरह से पोषण होकर हम ठीक तरह से सारी गतिविधियां पूरी कर सकते हैं |
  • दशमूलारिष्ट सिरप पूरी तरह से प्राकृतिक जड़ी बूटी से बनाई हुई होने के कारण हर कोई दशमूलारिष्ट सिरप का सेवन अपने अपने डॉक्टर की सलाह से कर सकता है |
  • दशमूलारिष्ट इस आयुर्वेदिक औषधि में द्राक्षा, अश्वगंधा,मंजूशता यह सारी जड़ी बूटी होती है जो हमारे शरीर को संतुलित रखने में मदद करती है |

डाबर दशमूलारिष्ट का सेवन कब करना चाहिए ?

डाबर दशमूलारिष्ट का सेवन
डाबर दशमूलारिष्ट का सेवन
  • अगर आप किसी हादसे से लेकर काफी परेशान हो, आपका शरीर ठीक तरह से विकसित नहीं हो रहा है तो इस वक्त डाबर दशमूलारिष्ट का सेवन करना बिल्कुल सही होता है |
  • दशमूलारिष्ट सिरप आमतौर पर हालत में सुधार लाने के लिए बनाया गया है, प्रसव के बाद महिलाओं के शरीर का ठीक तरह से विकास होने के लिए महिलाएं दशमूलारिष्ट सिरप पी सकती है जिससे महिलाओं का पूरा शरीर सामान्य रूप से काम करता है |
  • कई बार बहुत सारे लोग ऐसे होते हैं जो बिना डॉक्टर की सलाह से डाबर दशमूलारिष्ट का सेवन कर लेते हैं, दोस्तों डाबर दशमूलारिष्ट आयुर्वेदिक दवाई होने के कारण इस दवाई का सेवन डॉक्टर की सलाह से अगर आप करते हो तो आपको और भी अच्छे फायदे दिखेंगे |
  • डाबर दशमूलारिष्ट का सेवन करने से हमारे शरीर में शक्ति तो आती ही है लेकिन हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बिल्कुल सही तरीके से काम करती है |

बैद्यनाथ दशमूलारिष्ट सिरप लेने की विधि क्या है ?

बैद्यनाथ दशमूलारिष्ट सिरप लेने की विधि
बैद्यनाथ दशमूलारिष्ट सिरप लेने की विधि
  1. योग गुरु का कहना होता है कि बैद्यनाथ दशमूलारिष्ट सिरप का सेवन भोजन करने के बाद करना चाहिए | भोजन करने के बाद बैद्यनाथ दशमूलारिष्ट का सेवन करने से शरीर की सारी गतिविधियां संतुलित रहती है और हमारा शरीर काफी स्वस्थ रहता है |
  2. कुछ लोग ऐसे होते हैं जो कुछ ना कुछ थोड़ा बहुत खाना खाने के बाद तुरंत दशमूलारिष्ट का सेवन करते हैं | दोस्तों हम आपको बताना चाहेंगे की प्रॉपर खाना खाने के बाद ही दशमूलारिष्ट सिरप पिए जिससे शरीर की सारी गतिविधियां सही तरीके से काम करेगी और आपका शरीर संतुलित रहेगा |
  3. बहुत सारे डॉक्टर ऐसे होते हैं जिनका कहना होता है कि दशमूलारिष्ट का सेवन महिलाओं ने ही करना चाहिए, अगर आप पुरुष हो और आपको दशमूलारिष्ट का सेवन करना है |
  4. आपने अपने अपने डॉक्टर को इस बारे में पूछ लेना चाहिए फिर ही वैद्यनाथ दशमूलारिष्ट सिरप पीना चाहिए |
  5. बैद्यनाथ दशमूलारिष्ट सिरप खाना खाने के बाद गुनगुने पानी के साथ या नॉर्मल पानी के साथ आप पी सकते हो | इस सिरप में आप अगर थोड़ी मात्रा में शक्कर डालते हो तो कोई बात नहीं है लेकिन बिना शक्कर का वैद्यनाथ दशमूलारिष्ट सिरप पीने से ज्यादा फायदा होते हैं |

दशमूलारिष्ट सिरप से वेट लॉस करने के लिए कैसे उपयोग करें ?

दशमूलारिष्ट सिरप से वेट लॉस
दशमूलारिष्ट सिरप से वेट लॉस

जिन लोगों का शरीर काफी मोटा होता है वह लोग दशमूलारिष्ट सिरप का सेवन आसानी से कर सकते हैं क्योंकि वजन कम करने के लिए बैद्यनाथ दशमूलारिष्ट काढा योग गुरु द्वारा प्रमाणित किया गया है |

जब आप वजन कम करने के लिए दशमूलारिष्ट सिरप का सेवन करते हो तब आपने रोजाना इस सिरप का सेवन सुबह उठने के बाद गुनगुने पानी के साथ करना चाहिए |

गुनगुने पानी के साथ दशमूलारिष्ट का सेवन करने से शरीर की अतिरिक्त चर्बी पेशाब के रूप से बाहर निकल जाती है जिसके कारण वजन कम होने के साथ-साथ शरीर का मोटापा भी कम हो जाता है |

गर्भवती महिला अगर डाबर दशमूलारिष्ट का सेवन करना चाहती है तो गर्भवती महिलाओं ने अपने अपने शरीर की गतिविधियां पहचानकर या अपने फैमिली डॉक्टर से पूछ कर वैद्यनाथ दशमूलारिष्ट का सेवन करना चाहिए |

दशमूलारिष्ट काढ़ा ज्यादा पीने से क्या साइड इफेक्ट होते हैं ?

  • अगर आप बहुत ज्यादा मात्रा में दशमूलारिष्ट सिरप का सेवन कर लेते हो तो इससे आपका पाचनतंत्र प्रभावित हो सकता है, क्योंकि हर किसी का शरीर अलग अलग होता है खासकर छोटे बच्चे या प्रेग्नेंट महिलाएं जब दशमूलारिष्ट सिरप अधिक मात्रा में पी लेते हैं तो उन्हें डिसेंट्री की समस्या महसूस होने लगती है |
  • हमारे शरीर में खून की मात्रा सही तरीके से होने से हमारे शरीर की छोटी-छोटी गतिविधियां सही तरीके से काम करती है | लेकिन जब आप दशमूलारिष्ट यह आयुर्वेदिक दवाई अधिक मात्रा में पी लेते हो तो इससे शरीर में खून की मात्रा नहीं बढ़ पाती है इसलिए दशमूलारिष्ट का सेवन संतुलित मात्रा में करें और अपने शरीर के हैसियत को समझ कर करें |
  • बहुत सारे लोगों का पाचनतंत्र मजबूत नहीं होता है, पाचनतंत्र मजबूत ना होने के कारण दशमूलारिष्ट ठीक तरह से डाइजेस्ट नहीं हो पाता है | जिसके कारण खाना भी ठीक तरह से डाइजेस्ट नहीं होता है और यह दवाई भी ठीक तरह से डाइजेस्ट नहीं हो पाती है | ऐसे वक्त शरीर में कमजोरी आती है और हम कोई भी काम ठीक तरह से नहीं कर पाते हैं | इसलिए बैद्यनाथ दशमूलारिष्ट सिरप का सेवन डॉक्टर की सलाह से संतुलित मात्रा में करना चाहिए |

अगर आपको किसी भी प्रकार के मदत की जरुरत है तो आप निचे कमेन्ट में पूछ सकते है |

 

Leave a Reply