loading...

धातु रोग गुप्त रोग हिंदी में इलाज

Dhatu rog ka ilaj hindi me  धातु रोग के घरेलू उपाय धातु रोग का देसी इलाज आयुर्वेदिक इलाज क्या है हिंदी में धातु रोग की दवा पतंजलि रामदेव बाबा जी ने बनायीं है .

धातु रोग क्या है हिंदी में ?

धात गिरने को ही घातु रोग कहते है,इसको शुक्रमेह भी कहा जाता है (Dhatu girne ko Shukrameh bhi kahte hai) .  धातु रोग का मतलब यही होता है की लडको का पुरुष का वीर्य यानिकी धात मूत्र निकलते वक़्त बह जाता है . इसके कारण मर्दों का स्पर्म काउंट कम हो जाता है .

हस्तमैथून करने के फायदे जानिए हिंदी में .

तो जानते है

धात रोग क्या होता है :

धातु रोग कोई बीमारी नही है दोस्तों . इस में बस जब आप ज्यादा कामुक हो जाते हो या कामुक भावना में रहते हो तब आपका लिंग (लंड) खड़ा हो जाता है .

तब आपके लिंग को हिलाने के या सेक्स न करने के बिना ही लिंग से सफ़ेद वीर्य की तरह या पानी की तरह धारा सी आती है और ये धारा बहुत कम होने की वजह से ये आपके लिंग के बहार नहीं आपाती मगर जब आपका लिंग बोहोत समय से खड़ा है तो वो धारा पानी जैसी आपके लिंग से बहार आती है .

इसी के कारण आपका विर्य की मात्रा कम होने लगती है और ये आपकी यौन समस्या बन जाती है.

धातु रोग होने के कारण :

धात रोग होने के कई सरे रीज़न है दोस्तो आज कल के इन्टरनेट वाले ज़माने में लड़के लडकिया ज्यादा सेक्सी विडियो देखती है और अश्लील किताबे पढ़ती है .

इसी के कारण उनमे वासना भरी पड़ी है इसीलिए वो अकेले की अकेले कुछ न कुछ सोचते बैठते है लड़के तो खयाल ही खयाल में लड़की को या किसी आंटी को चोदने के बारे में सोचते रहते है और लडकिया भी कई बार लड़के के लिंग के बारेमे सोच कर अपना पानी की धारा बहार निकाल देती है .

इसी कारण उनको कई सारे प्रॉब्लम हो आगे बढ़कर सामना करना पड सकता है . इसको शुक्रमेह कहते है .

पढ़े

सेक्स करने का सही तरीका क्या है .

धात रोग का प्रमुख कारण क्या है?

Causes of Discharge Weakness in hindi

  1. दिमागी कमजोर होने से आपको अपने आप पर कंट्रोल करना मुश्किल होता है.
  2. हमेशा किसी न किसी गलत बातो का सोचना .
  3. मर्दों का वीर्य पतला होना .
  4. अधिक मात्रा में यानिकी ज्यादा हस्तमैथून करने से .
  5. किसी बीमारी के समय पर ज्यादा दवाई लेने से .
  6. विटामिन्स की कमी होने के कारण.

धातु रोग के घरेलू उपाय

धातु रोग धात गिरने का उपचार हिंदी में

धातु रोग धात गिरने का उपचार हिंदी में

धात रोग के आयुर्वेदिक घरेलु उपाय

(dhatu rog treatment in hindi) 

  • तुलसी अश्वगंधा की मदत से :
    तुलसी से धात गिरने का उपचार

    तुलसी से धात गिरने का उपचार

     तुलसी की जड़ को अच्छी तरह सुखाकर उसका चूर्णं बनाकर इस चूर्णं को एक ग्राम की  मात्रा में ले और एक ग्राम अश्‍वगंधा का चूर्णं में मिक्स कर के  खाएं और ऊपर से दूध पी जाएं इससे आपको बहुत फायदा होगा .

  • इलायची तुलसी और मिश्री की मदत से :
    इलायची से धात गिरने का उपचार

    इलायची से धात गिरने का उपचार

     इस आयुर्वेदिक उपाय के लिए आपको ५० ग्राम इलायची लेकर और १५ से २० तुलसी के पत्तो को  व १० ग्राम मिश्री का क्‍वाथ बनाकर इसको पीने से धातु रोग का इलाज होता है.

  • इलायची और हिंग की मदत से :
    हिंग से धात गिरने का उपचार

    हिंग से धात गिरने का उपचार

     इलायची के दाने और सेंकी हुई हींग की  लगभग तीन रत्‍ती चूर्णं को घी और दूध के साथ मिलकर पीने से पेशाब में धातु का स्राव बंद हो जाता है.

  • गिलोय के इस्तमाल से: 
    गिलोय के इस्तमाल से धात की बीमारी का इलाज

    गिलोय के इस्तमाल से धात की बीमारी का इलाज

    घर पर ही धात रोग से बचने के लिए आपको 2 चम्मच गिलोय के पत्तो का रस निकाल कर गिलोय के रस में 1 चम्मच शहद (honey) मिलाकर लेना चाहिए.

  • उड़द की दाल से धातु रोग उपचार :

    उड़द दाल से धात की बीमारी का इलाज

    उड़द दाल से धात की बीमारी का इलाज

  1. बीस ग्राम उड़द की दाल का आटा करके उस आटे को गाय के दूध में उबाल ले  और फिर इसमें थोडी मात्रा में घी मिक्स करके कुनकुना ही पीना है और इसका सेवन रोज करने से पेशाब की नली से धातु का स्राव का इलाज पूरी तरह से हो जाएगा.
  2.  उड़द की दाल को पीसकर उसे खांड में भुन लिया जाए और खांड में मिलाकर खाएं तो भी जबरदस्त लाभ जल्दी ही मिलता है.
  3. उड़द की दाल सेक्‍स पॉवर बढ़ाने और उसकी समस्‍या को दूर करने में बहुत सहायक होती है.
  • आंवला से घरेलु उपाय के तरीके :

    आंवला से धात की बीमारी का इलाज

    आंवला से धात की बीमारी का इलाज

  1. रोज सुबह आंवले का जूस यानिकी आंवला का रस खली पेट 2 चम्मच आंवले के रस को शहद के साथ मिलाकर पिने से जल्द ही धात रोग ठीक होने लगता है .
  2. सुबह शाम आंवले के चूर्ण को दूध में मिला कर लेने से भी धात रोग में बहूत लाभ मिलता है!

धात रोग के लक्षण :

Dhat Rog Penis (पेनिस रोग) rog Ke Lakshan Kya Hai hindi me :
  • वीर्य का पतला होना.
  • लिंग के मुह से लार टपकती है .
  • शरीर में कमजोरी होती है .
  • हमेशा नर्वस रहना .
  • पेट साफ़ न होना कब्ज का होना.
  • शरीर का हिस्सा कापने लगता है कमजोरी के कारण .
  • चक्कर आने लगता है.
  • पेशाब के वक्त वीर्य निकलना.

लडकिया कैसे करती है हस्तमैथून घर पर .

देसी घरेलु उपाय हिंदी में जानकारी
पेट के रोग वशीकरण के उपाय
चेहरे की सुंदरता नौकरी लगने के टोटके
बालों का इलाज लड़की को पटाने के तरीके
 यौन रोगों का इलाज सपनो का अर्थ स्वप्नफल
प्रेगनेंसी की टिप्स खाने के फायदे
मासिक धर्म(पीरियड्स) दिमाग तेज कैसे करे?
 मोटापा कम करे भगवान की पूजा
 दांत के उपाय स्मोकिंग की आदत से छुटकारा
 बाबा रामदेव योगा लाल किताब के टोटके

6 Comments

  1. Dr. Rehman May 4, 2017
  2. Mukeshkumar June 17, 2017
    • Dr Rehman July 20, 2017
      • Shavez August 18, 2017
  3. Pushpendra Kumar July 6, 2017
  4. mithilesh kumar August 20, 2017

Leave a Reply