Home » हिंदी में टिप्स » डायबिटीज के कारण लक्षण और आयुर्वेदिक घरेलु इलाज

डायबिटीज के कारण लक्षण और आयुर्वेदिक घरेलु इलाज

डायबिटीज

डायबिटीज/ शुगर/ मधुमेह

डायबिटीज
डायबिटीज

डायबिटीज क्या है ?(Diabetes in hindi)

डाइबिटीज एक काफी बिकट समस्या है, डाइबिटीज (मधुमेह) के ऊपर तो नियंत्रण किया जा सकता हैं, पर इसको जड़ से ख़त्म करना पॉसिबल नहीं है |सुगर को अगर नियंत्रित नहीं करा गया तो इसका असर किडनी पर,आँखों पर ,ब्लड प्रेशर के उपर पड़ने लगता है | शुगर की बीमारी में शरीर का ब्लड शुगर या ब्लड ग्लूकोज की मात्रा बढ़ जाती है| ऐसा जब शरीर में हारमोंस इन्सुलिन की कमी हो जाती है या इन हारमोंस का हमारे शरीर के साथ ताल मेल नहीं बैठ पाता तब होता है | शुगर की देशी दवा भी बन सकती है शुगर की देशी दवा के कारण आपको थोड़ी राहत मिलती है|

डायबिटीज को अलग अलग नाम से जाना जाता है:

इंग्लिश में : Diabetes, शुगर(सुगर), चीनी की बीमारी

मराठी में : मधुमेह

डायबिटीज होने के प्रमुख कारण क्या है ?

डायबिटीज होने के प्रमुख कारण
डायबिटीज होने के प्रमुख कारण

दोस्तों अगर आप अपनी सेहत की तरफ ध्यान नहीं देते हो, तो आपको डायबिटीज जैसी बड़ी बीमारियों का सामना करना पड़ सकता है | यदि आप डायबिटीज के प्रमुख कारण जान लेते हो| तो आपको डायबिटीज से बचने के लिए इन कारणों से बचना सबसे बढ़िया उपाय है |

शुगर की बीमारी में शुगर का लेवल कितना होना चाहिए ?

शुगर का लेवल
शुगर का लेवल

सामान्य तौर पर भूखे रहने की स्थिति में यानिकी कम से कम 8 घंटे तक खून में ग्लूकोज़ की मात्रा (Normal Fasting Blood Level) ७० से १०० मिली ग्राम प्रति १०० मिली लीटर रक्त में होती है|

और यही लेवल खाना खाने के आधे घण्टे बाद बढ़ जाती है और भोजन करने के दो घंटो के बाद इसका सामान्य स्तर ११० से १४० मिली ग्राम प्रति १०० मिली लीटर खून में होता है|

हाई बीपी होने के कारण :

हाई बीपी होने के कारण
हाई बीपी होने के कारण

अगर आपकी बीपी हाई हो जाती है यानी कि उच्च रक्तचाप का आपको प्रादुर्भाव हुआ है, तो आपको डायबिटीज होने के बहुत चांस है | इसलिए आपको अपनी हाई बीपी का इलाज जल्द से जल्द करवा लेना चाहिए और हाई बीपी के लिए जी चीजें जरूरी होती है उन्हें आजमाना चाहिए |

इंसुलिन की कमी के कारण :

इंसुलिन की कमी के कारण
इंसुलिन की कमी के कारण

अगर आपके शरीर में इंसुलिन की मात्रा कम है और शरीर में इंसुलिन की मात्रा कम बंद रही है, तो आपको मधुमेह होने के लक्षण हो सकते हैं इसीलिए आपको इंसुलिन की मात्रा सही रखनी चाहिए |

उचित खान-पान ना होने के कारण :

उचित खान-पान
उचित खान-पान

यदि आपका खान-पान अच्छे से नहीं हो रहा है और आप अपनी सेहत की तरफ ध्यान नहीं दे रहे हो, तो आपको डायबिटीज़ यानी कि शुगर जैसी बीमारियों का सामना करना पड़ सकता है | क्योंकि हमें खाने में इंसुलिन मिलता है और यदि हम खाने की तरफ ध्यान नहीं देते हैं तो हमें मधुमेह का सामना करना पड़ सकता है |

अधिक तनाव लेने के कारण :

अधिक तनाव लेने के कारण
अधिक तनाव लेने के कारण

यदि आपको हमेशा तनाव में रहने की आदत है, तो आपको समझ जाना चाहिए कि आपको आने वाले समय में शुगर की बीमारी हो सकती है, क्योंकि जो लोग ज्यादा तनाव देते हैं, उन्हें हाई बीपी की समस्या होती है और इसी के कारण उनका ब्लड लेवल हमेशा हाय रहता है और यह डायबिटीज होने के लिए काफी है |

नशा करने की आदत के कारण :

नशा करने की आदत के कारण
नशा करने की आदत के कारण

अगर आपको स्मोकिंग करना पसंद है, या ड्रग्स करना पसंद है, तो आपको डायबिटीज को पसंद कर लेना पड़ेगा क्योंकि ड्रग्स करना या स्मोकिंग करना डायबिटीज होने का कारण है |

डायबिटीज होने के लक्षण क्या है ?

डायबिटीज होने के लक्षण क्या है
डायबिटीज होने के लक्षण क्या है

अगर आपको डायबिटीज होने के कारण पता है और डायबिटीज के लक्षण क्या है, यह पता चल जाते हैं तो आपको वहां डायबिटीज के कारण से दूर रहना चाहिए और डायबिटीज के लक्षण क्या है ? यह जानने में चाहिए जिससे कि आप पहले ही पता चल जाएगा कि आपको डायबिटीज की समस्या हो रही है या नहीं |

  1. ज्यादा भूख लगना यह डायबिटीज का लक्षण माना गया है |
  2. अधिक मात्रा में नींद आने के कारण भी हमें डायबिटीज के लक्षण के बारे में पता चल जाता है |
  3. बार बार पेशाब आना यहां शुगर लेवल बढ़ने के लक्षण है |
  4. शरीर पर किसी घाव को भरने में बहुत समय लग रहा है, तो इसका मतलब यह है कि आपके शरीर में शुगर की बीमारी हो गई है |
  5. आंखों में रोशनी कम हो जाना यह मधुमेह का लक्षण माना गया है |
  6. अचानक से वजन कम होना मधुमेहा का नुकसान है |
  7. हमारे बॉडी को किसी भी चीज से जल्दी इंफेक्शन हो जाना यह डायबिटीज का लक्षण है |
  8. शुगर की बीमारी के कई सारे लक्षण है और अगर आपको निचे दिए हुए लक्षण आपके शरीर पर दिख रहे होंगे तो आपको अपना डायबिटीज का चेकअप करना जरुरी है| बिना किसी डॉक्टर की सलाह के किसी भी आयुर्वेदिक तरीको का इस्तमाल आपको अपने बॉडी पर नहीं करना है|
  9. शुगर के मरीजो को बार बार भूख लगती है और वो जितना भी खाना खाते है उनको उतना कम ही लगता है इसका मतलब आपको आम तौर में जितना खाते है उससे ज्यादा भूख लगती है|
  10. मधुमेह रोगी को दिन में बार बार पेशाब आती है कभी कभार तो १०-१५ बार दिन में पेशाब आता है|
  11. मधुमेह के पेशंट को थकान जल्दी आती है| कोई भी काम करने के बाद या काम करने के दौरान मधुमेह रोगी को जल्दी थकान मेहसूस होती है|
  12. शुगर के रोगी को अगर किसी चीज़ की वजह से अगर हाथ पैर को लग गया या अन्य किसी शरीर के भाग पर चोट लग गयी तो वो घाव जल्दी ठीक नहीं होता है और कई बार तो उस घाव में कीड़े पड़ने लगते है |
  13. मधुमेह में शुगर (चीनी) की मात्रा बढ़ने के कारण मरीज के मसूड़ों में सूजन आने लगती है | शुगर के रोगी को ज्यादा खाने के बाद भी उनका वजन अचानक से घटने लगता है|
  14. शुगर की बीमारी के कारन रोगी को आँखों की रौशनी कम होने लगती है और इस के कारण शुगर की बीमारी हुए रोगी को थोडा थोडा धुन्दला दिखाई देता है

मधुमेह होने के कारण (Causes of Diabetes in Hindi) :

मधुमेह होने के कारण
मधुमेह होने के कारण
  • रक्त वाहिका में रोग से (Blood vessel disease)
  • उच्च रक्त चाप होने से और उच्च कोलेस्ट्रोल लेवल जाने से (High blood pressure, high cholesterol)
  • प्री डायबिटिक भी है मधुमेह होने का कारण (Pre-diabetes or impaired fasting glucose)
  • सही खानपान नहीं होना|
  • दारु या अन्य ड्रग्स जैसे की स्मोकिंग (धुम्रपान)करना
  • शरीर का मोटापा (Diabetes due to Obesity): शरीर में मोटापा होने से भी मधुमेह का कारण हो सकता है

डायबिटीज में क्या ख्याल रखें हिंदी में टिप्स :

डायबिटीज में क्या ख्याल रखें
डायबिटीज में क्या ख्याल रखें
  • अगर हमें डायबिटीज के लक्षण हमारे शरीर में दिखाई दे रहे हैं, तो हमें हमारे शरीर की डायबिटीज की जांच हर हफ्ते करवानी चाहिए |
  • यदि आपको डायबिटीज जैसी बीमारी से दूर रहना है तो आपको संतुलित आहार लेना चाहिए जिससे कि आपके शरीर में इंसुलिन लेवल का स्तर उचित रहेगा |
  • रोजाना योग क्रिया करने से आपको शुगर जैसी बीमारियों का सामना नहीं करना पड़ेगा |
  • अगर आपको किसी चीज की दवाइयां चल रही है, तो आपको उन दवाइयों को नियमित लेना चाहिए जिससे आने वाले समय में आपको बड़ी बड़ी बीमारी का सामना नहीं करना पड़ेगा |
  • अपने वजन की तरफ आपको ध्यान रखना चाहिए वजन कभी भी जल्दी बढ़ना नहीं चाहिए और जल्दी घटना नहीं चाहिए, इसीलिए हमें वजन की तरफ ध्यान देकर मधुमेह से बचने के लिए फायदा हो सकता है |

हो सके तो आपको मधुमेह के समय क्या खाना चाहिए इन चीजों को जान जाना चाहिए, जिससे कि आपको मधुमेह से छुटकारा मिलने में जरूर मदद होगी |

शुगर का घरेलू इलाज :

शुगर का इलाज करने के लिए आपको कुछ घरेलु टिप्स निचे दिए गए है, जिसको इस्तमाल करने से आप शुगर का घरेलु इलाज कर सकते हो और शुगर से कैसे बचना चाहिए इसका भी आपको जवाब मिल जायेगा|

रोज सुबह एक घंटा योगा या एक्सरसाइज करनी चाहिए :

अगर आपको मधुमेह की बीमारी से बचना है तो आपको रोजाना सुबह योग करना है या आप किसी जिम में जाकर एक्सरसाइज कर सकते हो या बहार गार्डन में धुमने जाये | अगर आप योग करने का सोच रहे हो तो निचे दिए हुए योगासन को करने की जरुरत है|

मधुमेह के लिए योग आसन (Yog Aaasan for Diabetes) :

मधुमेह के लिए योग आसन
मधुमेह के लिए योग आसन
  • बालासन
  • प्राणायाम
  • सर्वांगासन
  • सेतुबंधासन
  • वज्रासन
  • सर्वांगासन

आप patanjali निर्माते बाबा रामदेव के बताये आसन कर सकते हो|

  • चिन्ता से मुक्त , तनाव से मुक्त, व्यग्रता से मुक्त रहें|
  • अपने घर में रोजाना मधुमेह का टेस्ट करें|खून में शुगर की लेवल मात्रा का ध्यान रखना चाहिए|
  • एक इन्सुलिन पम्प (Insulin Pump) हमेशा साथ में ही रखिये|
  • इन्सुलिन इंजेक्शन (Insulin Injetion) को खुद तैयार करना के साथ खुद को लगाना आना चाहिए|

डायबिटीज में क्या खाना चाहिए ?

डायबिटीज में क्या खाना चाहिए
डायबिटीज में क्या खाना चाहिए

अगर आपको डायबिटीज का इलाज करना है और डायबिटीज में राहत पाना है, जो आपको कुछ देसी इलाज आजमाने चाहिए जैसे कि –

  1. करेला का सेवन करने से आपको शरीर में इंसुलिन की मात्रा बढ़ती है और यह हमारे शरीर में डायबिटीज की बीमारी को नियंत्रित करने में सहायक होता है | यदि आप करेले का जूस निकालकर उसमें थोड़ा सा पानी मिला लेना हैं और इस जूस को रोजाना खाली पेट पीते हैं, तो आपको डायबिटीज की बीमारी में नियंत्रण मिल सकता है |
  2. एक चम्मच दालचीनी पाउडर को एक बूंद पानी में मिलाकर पीने से डायबिटीज में आपको बहुत जल्द ही आराम मिलता है |
  3. दो या तीन अमला लेकर आपको इसका पेस्ट बना रहना है और इसे एक कपड़े में लपेट कर निचोड़ लें जिससे कि इसका जूस निकल जाएगा, अगर आप रोजाना सुबह दो चम्मच आंवले के जूस को पीते हो तो आपको विटामिन सी की मात्रा बहुत मिलती है, जो आपको डायबिटीज में सहायक होता है |
  4. दो चम्मच मेथी को रात को एक कप पानी में भिगोकर रखना चाहिए और अगली सुबह खाली पेट उस मेंथी के पानी को पीना चाहिए, कुछ महीनों तक यह प्रिया लगातार करने से आपको शुगर की बीमारी में राहत जरूर मिलेगी |
  5. शुगर के लिए देसी रामबाण इलाज करने के लिए आपको भिंडी लेकर उसके दोनों साइड से काट ले और एक कांटे से उसमें छेद बना ले, इस भिंडी को एक गिलास पानी में डालकर रात भर रख दे अगर आप सुबह खाली पेट इस भिंडी के पानी का सेवन करते हो, तो आपको कुछ ही हफ्तों में शुगर में फायदा होता है |
  6. रोजाना ग्रीन टी पीने से भी आपको राहत मिल सकती है, इसलिए आपको शुगर के समय रोजाना ग्रीन टी का सेवन करना चाहिए |

मधुमेह का आयुर्वेदिक इलाज भी कर सकते हो डायबिटीज का आयुर्वेदिक इलाज करने से आपकी थोड़ी तकलीफ दूर होती है|

मधुमेह का आयुर्वेदिक इलाज :

मधुमेह का आयुर्वेदिक इलाज
मधुमेह का आयुर्वेदिक इलाज
  • दिन में एक बार में 2 चम्मच करेले का रस पीना चाहिए इसको शुगर की देशी दवा भी कहते है |
  • दिन में 2 वक्त १-१ चम्मच मेथी की पाउडर का सेवन पानी के साथ करना चाहिए |
  • 2 चम्मच कड़वी लौकी के रस को एक चम्मच आंवला के रस के साथ दिन में १ बार जरुर पीना चाहिये |

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!