हल्दी के फायदे औषधीय गुण हिंदी में

0
163
हल्दी के फायदे
हल्दी के फायदे

हल्दी के फायदे

हल्दी के फायदे
हल्दी के फायदे

Haldi ke fayde kai sare hai dosto apko pata hi hai aur apkisi ki batao aisa keh bhi nahi sakte isliye aaj hum aapko haldi ke gun kya kya hai batayenge vo bhi hindi me.

हल्दी की खेती करने के लिए गीली और उष्ण जगह लगती है.हल्दी के औषधीय गुण बहुत है. हल्दी के इस्तमाल से आप चेहरे की रंगत निखर सकते हो,हल्दी के उपयोग से आप भूख बढ़ा सकते हो,हल्दी दूध के फायदे कई सरे है जैसे की हल्दी का दूध पिने से आपको शक्ति(ताकत) मिलती है,सर्दी जुकाम का इलाज होता है.

वैसे हल्दी को अलग भाषा में अलग अलग नाम से जाना जाता है मराठी में हळद,इंग्लिश में turmeric,spanish में curcuma.

हल्दी के औषधीय गुण:

  1. ताजा हल्दी का रस त्वचा(स्किन) के ऊपर जमे हुए कीटाणु और जीवाणु को ख़त्म करता है.
  2. सर्दी जुकाम के लिए दूध में हल्दी मिलाकर फायदा होता है.
  3. गले की खराश के लिए आयुर्वेदिक नुस्खे की तरह इस्तमाल.
  4. टोंसिल की सुजन कम करने के लिए.
  5. कफ विकार से मुक्ति पाने के लिए.
  6. खून के रोगों से बचाता है हल्दी का इस्तमाल.
  7. पीलिया,यकृत दोष,अतिसार,संग्रहणी,घाव और नेत्र रोग के लिए फायदेमंद है turmeric powder.

हल्दी के फायदे हिंदी में :

  • मधुमेह में हल्दी का इस्तमाल:

    एक चम्मच हल्दी का चूरन रोज सुबह शाम लेने से मधुमेह की बीमारी में आराम मिलता है.

  • चोट की सुजन कम करने के लिए:

    चोट आने पर या मोच लगने पर चुना और हल्दी को एक समान भाग में लेकर पिस कर चोट वाले हिस्से में लगाने से सुजन कम होती है.
    अगर आपको अन्दर चोट लगी है इसको मुक्का मार भी बोलते है मराठी में इसके लिए आपको हल्दी दूध पिने से आराम मिलता है.

  • मुंह में छाले का इलाज:

    एक लीटर पानी में 2 तोला हल्दी पाउडर लेकर उबालकर सुबह शाम गारारा करने से मुंह के छाले ठीक होने लगते है.

  • बवासीर में आराम:

    तीन ग्राम हल्दी चूर्ण को दिन में दो तिन बार गुदा पर लगाने से आपके बवासीर का दर्द कम होता है.

  • खुनी बवासीर का इलाज:

    १ ग्लास बकरी का दूध लेकर इसमें ३-४ ग्राम हल्दी का चूर्ण डालकर 2 हप्ते तक पिने से खुनी बवासीर में फायदा होता है.

  • गले का घाव ठीक करने के लिए:

    एक लीटर पानी में 50 ग्राम हल्दी उबाल कर छान के दिन में 2-3 बार गरारे करने से गले का घाव ठीक होता है.

  • पुरानी  खांसी का आयुर्वेदिक इलाज:

    1 चुटकी भर के हल्दी लेकर इस को भुनकर शहद में मिलाकर दिन में ३-४ बार सेवन करने से
    पुरानी खांसी का इलाज होता है.

  • सर्दी का इलाज:

    हल्दी की धुनी लेने से सर्दी का इलाज होता है और हल्दी का दूध पिने से भी छुटकारा मिलता है.

  • सिरदर्द का आयुर्वेदिक उपाय:

    कुनकुने पानी के साथ हल्दी का चूर्ण लेने से सिरदर्द में जल्द ही आराम मिलता है.

  • मूत्र रोग:

    आपको मूत्र रोगों में हल्दी का काढा पिने से आराम मिलता है.

  • मूत्र नली का घांव होने पर:

    अगर आपके मूत्र नली में घाव हुआ है तो पुरुषो के लिंग में और औरत की योनी में दर्द होने लगता है तब हल्दी का
    चूर्ण पानी के साथ लेने से मूत्रनली का घांव ठीक होता है.

  • स्तनों में गाँठ होने पर:

    ग्वारपाठे मतलब एलोवेरा के रस मे हल्दी चूर्ण मिक्स करके गरम करके ठंडा होने के बाद स्तन(ब्रैस्ट) पर लेप करने
    से ब्रैस्ट में गांठ कम होती है और सुजन दूर होती है.

  • पिम्पल्स हटाने के लिए :

    नीम के पत्ते को अच्छी तरह पीसकर  में हल्दी मिला के चेहरे पर लगाने से पिम्पल्स गायब हो जायेंगे और आप के चेहरे के पिम्पल कम हो जाएँगे.

क्या आपको यह लेख पसंद आया ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here