ज्योतिष्मती का तेल मालकांगनी फूल के गुण हिंदी में

ज्योतिष्मती का तेल मालकांगनी फूल के गुण

ज्योतिष्मती
ज्योतिष्मती

इसे  मालकांगनी भी कहते हैं| अनेक रोगों को दूर करने वाली यह लड़का समाप्त भारत में 3-4 हजार फीट की ऊंचाई पर होती है| इसकी झुकी हुई शाखाओं पर सफेद बिंदु होते हैं| इसके फल मटर के समान ,पीले तथा 3 खंड वाले होते हैं | स्मृति और बुद्धि तीव्र करने वाले रसायन के रूप में ज्योतिष्मती का विशिष्ट स्थान है| इसके बीज और मालकांगनी का तेल उपयोग में लिए जाते हैं | यह कड़वी , दस्तावर कफ और वायुनाशक वमनकारक , तीक्ष्ण, अग्नि वर्धक होती है|

ज्योतिष्मती का घरेलू उपाय :

सफेद दाग :

50 मिली मालकांगनी तेल 50 मिली .  बावची का तेल एक शीशी में मिलाकर दिन में दो तीन बार सफेद दाग पर लगाने से लाभ होता है|

अनिद्रा :

मालकांगनी के बीज ,शंखपुष्पी ,जटामासी और सर्पगंधा 25 -25 ग्राम, मिश्री 100 ग्राम , सबको पीसकर एक चूर्ण सोने के सोने से पहले गर्म दूध के साथ लेने से नींद अच्छी आती है| यह योग उच्च रक्तचाप को भी सामान्य करता है|

दमा :

20 -20 ग्राम मालकांगनी के बीज वह छोटी इलायची के दाने लेकर बारीक पीस ले | इसकी 2- 2 रत्ती मात्रा सुबह शाम शहद मिलाकर चाटने से लाभ होगा |

loading...

सिरदर्द :

ज्योतिष्मती व बदाम का तेल 25- 25 मिली. मिलाकर हर रोज खाली पेट एक बताशे में 2 बूंद तेल टपकाकर बताशा खाकर ऊपर से मिश्री मिलाकर दूध  जाए | एक महीने तक सेवन करने से पुराना सिर दर्द दूर हो जाता है |

दाद :

20 ग्राम ज्योतिष्मती के बीज ,10 ग्राम कालीमिर्च को पीसकर नारियल के तेल में मिलाकर लगाने से दाद ठीक हो जाते हैं|

अफीम  छुड़ाना:

दो चम्मच ज्योतिष्मती के पत्तों का रस दिन में तीन बार आधा कप पानी में डालकर पीने से कुछ ही दनों में अफीम से अरुचि हो जाती है| ताजा पत्ते  नहीं मिलने पर सूखे पत्तों का काढ़ा बनाकर इसी का प्रयोग  सेवन करें|

खूनी बवासीर:

इसके बीजों को पानी में पीसकर गुदा के मस्सों पर लेप करने से मस्सों से रक्त गिरना बंद हो जाता है|

स्वास्थ्य रक्षक :

इसके बीच , वच, शुद्ध गंधक 50 50 ग्राम लेकर चूर्ण बना ले| सुबह शाम दो रत्ती चूर्ण ताजा मक्खन में मिलाकर एक माह सेवन करने से शरीर पुष्ट और  संस्थान बलवान बनता है|

उदर रोग :

इसके बीज कातेल को प्रयोग दूध में मिलाकर प्रयोग करने से पेट साफ होकर कब्ज से छुटकारा मिलता है |

कब्ज :

इसके बीज व तेल का प्रयोग दूध में मिलाकर करने से दस्त होकर पेट के रोगों से छुटकारा मिलती है |

क्या आपको यह लेख पसंद आया ?
Free Download WordPress Themes
Free Download WordPress Themes
Download WordPress Themes
Premium WordPress Themes Download
free online course
download lenevo firmware
Download Best WordPress Themes Free Download
udemy paid course free download
loading...

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...