कान से कम सुनाई देने की समस्या से छुटकारा (बहरापन का इलाज)

0
48
कान से कम सुनाई देने पर
कान से कम सुनाई देने पर

आज हम आपको कान से कम सुनाई देने की समस्या से छुटकारा पाने के तरीके बताने वाले हैं | बहुत सारे लोगों को कम सुनाई आता है, जिसके कारण उन्हें आमतौर पर जिंदगी जीने में काफी समस्या का सामना करना पड़ता है | बहुत सारे लोग ऐसे होते हैं जिन्हें सिर्फ एक कान से सुनाई देता है और दूसरे कान से कुछ सुनाई नहीं देता है |

बहुत सारे लोग कान को बिल्कुल साफ नहीं करते हैं लेकिन फिर भी उनके कान से उन्हें कुछ सुनाई नहीं देता है | ऐसे वक्त बहुत सारे लोग कान से कम सुनाई देने के बावजूद भी इस समस्या को नजरअंदाज करते हैं |

दोस्तों हम आपको बताना चाहते हैं कि जब हमें कान से कम सुनाई देता है तब हमने खुद डॉक्टर के पास जाकर इस समस्या का निदान करना चाहिए | बहुत सारे मरीज ऐसे भी होते हैं जो काफी समय तक डॉक्टर से ट्रीटमेंट लेते हैं लेकिन सुनाई देने की समस्या हल नहीं होती है, ऐसे वक्त कुछ लोग ऑपरेशन करते हैं |

कुछ लोग कान का मशीन लगाकर सुनने की कोशिश करते हैं, इन सारे तरीकों का इस्तेमाल करने के बावजूद भी अगर आपको कान से कम सुनाई देता है तो आपने नीचे दिए गए हुए तरीकों का इस्तेमाल एक बार करके देखना चाहिए |

हर किसी का शरीर अलग अलग होता है, कुछ लोगों के शरीर के इंद्रिय अलग-अलग होते हैं तो कुछ लोग ऐसे होते हैं जिन्हें हमेशा के लिए बहरेपन की समस्या होती है, ऐसे वक्त आपने किसी अच्छे डॉक्टर से ट्रीटमेंट लेना जरूरी है |

कान से कम सुनाई क्यों देता है ?

कान से कम सुनाई क्यों
कान से कम सुनाई क्यों

सबसे पहले हम आपको बताना चाहते हैं कि जब कान से कम सुनाई देता है तब इस समस्या से पीड़ित जो भी रोग होते हैं, उन्हें सही चिकित्सक की सलाह लेना जरूरी होता है |

बहुत सारे लोग ऐसे होते हैं जो कान से कम सुनाई देने के बावजूद भी इस समस्या को नजरअंदाज करते हैं | इस समस्या को नजरअंदाज करने से यह समस्या काफी मात्रा में बढ़ सकती है, कई बार इस समस्या के कारण जीवन में अधूरापन महसूस होने लगता है |

हर किसी के शरीर की बनावट अलग अलग होती है, कुछ लोग ऐसे होते हैं जिनके शरीर का ठीक तरह से विकास नहीं हुआ होता है | शरीर का ठीक तरह से विकास ना होने के कारण कान कमजोर हो जाते हैं और उन्हें बहरेपन की समस्या का सामना करना पड़ता है |

बहुत सारे लोग चिकित्सक की देखभाल में कानों को ठीक करना चाहते हैं, लेकिन कानों को पूरी तरह से ठीक करना जोखिम भरा हो सकता है |

कान से कम सुनाई देने के लक्षण क्या है ?

कान से कम सुनाई
कान से कम सुनाई
  • कई बार देखा गया है कि बहुत सारे लोग किसी इंसान के पास में जाकर उसके कान में बोलते हैं, लेकिन फिर भी उसे कुछ सुनाई नहीं देता है | ऐसे वक्त आपने समझ जाना है कि आपको बहरेपन की समस्या है |
  • कुछ लोग ऐसे होते हैं जो खुद की आवाज भी सुन नहीं पाते हैं, जब आपको ऐसा महसूस होता है कि आपको आपकी खुद की आवाज ठीक तरह से नहीं आ रही है तो यह बहरेपन का लक्षण हो सकता है |
  • कई बार बहुत बड़ा आवाज कान में जाने के बावजूद भी कम सुनाई देता है, ऐसे वक्त आपने अच्छे चिकित्सक के पास जाकर चिकित्सक से इस समस्या के बारे में बात करना चाहिए जिससे आपको कम सुनाई देने के लक्षण समझ में आएंगे |
  • बहुत सारे लोग दिन भर हमेशा आवाज भरे माहौल में रहते हैं, जिसके कारण जोर जोर से आवाज आने के बावजूद भी उन्हें कुछ सुनाई नहीं देता है ऐसे कुछ कम सुनाई देने के प्रमुख लक्षण है |

कम सुनाई देने के नुकसान क्या है ?

कम सुनाई देने के नुकसान
कम सुनाई देने के नुकसान
  • कम सुनाई देने के कारण हम सामने वाले इंसान की बात ठीक तरह से सुन नहीं पाते हैं, जिसके कारण दूसरों के सामने हमारा गलत प्रभाव पड़ता है |
  • दैनिक जीवन में किसी भी काम को पूरा करते समय उस बात को अच्छी तरह से समझ लेना जरूरी होता है, जब कोई इंसान हमें कोई महत्वपूर्ण बात बताना चाहता है तब वह बात ठीक तरह से ना सुनने के कारण हम हमारे काम में एकाग्र नहीं हो पाते हैं |
  • कानों में जब बहरेपन की समस्या आती है, तब यह समस्या एकदम पता नहीं चलती है | सबसे पहले आपको कम सुनाई देने के लक्षण जानने होगे और फिर समझना होगा कि अगर यह समस्या जिंदगीभर रही तो आपके जिंदगी पर इसका क्या नुकसान होता है |
  • कम सुनाई देने के कारण कई बार जिंदगी में हम सामान्य तरीके से जिंदगी जी नहीं पाते हैं और हमें जीवनसाथी मिलना भी मुश्किल हो जाता है |

क्या खाने से कान से सुनाई देने की ताकत बढ़ती है ?

 कान से सुनाई देने की ताकत
कान से सुनाई देने की ताकत
  • बहुत सारे लोग ऐसे होते हैं जो अपने भोजन में पोषकतत्व शामिल नहीं करते हैं, शरीर में पोषक तत्व पर्याप्त मात्रा में ना होने के कारण शरीर के विभिन्न अंग का ठीक तरह से विकास नहीं हो पाता है |
  • जिन लोगों को ऐसा लगता है कि हमारे कान की ताकत बढ़ना चाहिए उन लोगों ने अपने भोजन में सरसों के तेल का सेवन करना चाहिए, सरसों के तेल में ऐसे तत्व होते हैं जो कान के इंद्रियों को मजबूत बनाते हैं |
  • अपने भोजन में रोजाना सफेद प्याज का रस मिलाएं, सफेद प्याज के अर्थ में कान के बहरेपन से छुटकारा पाने की ताकत होती है |
  • अगर रोजाना गाय का दूध पीते हो तो कान और आंखों की ताकत बढ़ती है, रोजाना रात को सोने से पहले गुनगुने गाय के दूध के साथ एक चुटकी हीरा हींग डालकर यह मिश्रण पिये |
  • अपने भोजन में लहसुन का सेवन ज्यादा से ज्यादा करें, लहसुन मैं औषधीयगुण ज्यादा से ज्यादा होते हैं जिससे शरीर के सारे अवयव ठीक तरह से काम करते हैं |
  • रोजाना या हफ्ते में से दो तीन बार मूली का रस पीने से बहरेपन से राहत मिलती है, बहरेपन से राहत दिलाने के लिए मूली का रस खाना खाते समय पिये |

कान का बहरापन दूर कैसे करें ?

कान का बहरापन
कान का बहरापन
  • बहुत सारे लोग ऐसे होते हैं जो दिन भर किसी ना किसी बड़ी आवाज में काम करते हैं, जो लोग हमेशा लगातार ज्यादा आवाज में काम करते हैं उन लोगों को बहरेपन की समस्या ज्यादा महसूस होती है |
  • इसलिए जिस जगह पर काफी ज्यादा मात्रा में आवाज होता है उस जगह पर जाना नहीं चाहिए खुद के कानों को सुरक्षित रखने की कोशिश करें |
  • कान के बहरेपन की समस्या को दूर करने के लिए रोजाना प्याज का सेवन करें, प्याज में एंटी ऑक्सीडेंट बहुत ज्यादा मात्रा में होते हैं |
  • शरीर में एंटी ऑक्सीडेंट बहुत ज्यादा मात्रा में होने के कारण कानों का ठीक तरह से विकास होता है और कान मजबूत होते हैं |
  • कान का बहरापन दूर करने के लिए सुनने की क्षमता को बढ़ाना चाहिए, सुनने की क्षमता को बढ़ाने के लिए रोजाना बादाम का सेवन करें | बादाम का सेवन रोजाना करने से हमारे शरीर में सारे पोषक तत्व शामिल होते हैं जिससे कानों के परदे धीरे धीरे मजबूत होने लगते हैं |
  • सुनने की क्षमता को बढ़ाने के लिए अपने पूरे शरीर की सरसों के तेल से मालिश करना चाहिए, सरसों के तेल से शरीर की मालिश करने से शरीर की सारी गतिविधियां संतुलित होती है जिससे बहरेपन की समस्या धीरे-धीरे कम होने लगती है |

कान के बहरेपन का इलाज घर पर कैसे करें ?

कान के बहरेपन का इलाज

कान के बहरेपन का इलाज घर पर करने के लिए सबसे पहले छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखना जरूरी होता है |

बहुत सारे लोग ऐसे होते हैं जो सुनने की समस्या आने पर किसी चिकित्सक से ट्रीटमेंट लेते हैं, चिकित्सक से ट्रीटमेंट लेते समय कानों के पर्दों को सुरक्षित रखना काफी जरूरी होता है | ट्रीटमेंट लेते समय अगर आप किसी डीजे में या बड़ी आवाज में लंबे समय तक रहते हो तो इससे कानो को चोट पहुच सकती है |

कई बार बहरेपन की समस्या लंबे समय तक महसूस होने के कारण बहुत सारे लोग अपने कानों में रोजाना तेल डालते हैं | कानों में रोजाना तेल डालने से इससे कानों की गतिविधियां कमजोर हो सकती है, किसी दिन अगर आप कानों में तेल डालते हो तो यह बात सामान्य है |

कान के बहरेपन का इलाज करते समय सुनने की योग्यता को पहचानने की कोशिश करें, बहुत सारे लोग ऐसे होते हैं जो किसी इंसान की बात आसानी से सुन सकते हैं लेकिन खुद को ऐसा महसूस करते हैं कि वह ठीक तरह से सुन नहीं पाते हैं ऐसे वक्त खुद के शरीर को संतुलित रखे |

कान का बहरापन दूर करने की पतंजलि दवा :

कान का बहरापन दूर करने की पतंजलि दवा
कान का बहरापन दूर करने की पतंजलि दवा

देखा जाए तो कान का बहरापन दूर करने की पतंजलि दवाई बहुत सारी है | लेकिन किसी भी पतंजलि दवाई का सेवन करने से पहले किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक की सलाह लेना जरूरी होता है |

कान का बहरापन दूर करने के लिए बाजार में पतंजलि की दवाई मिलती है, जिसमें बेल, नीम और तुलसी का मिश्रण होता है यह तीनों चीजे अच्छे से कान के बहरेपन को दूर करने के लिए काफी जरूरी होते हैं |

कान में रोजाना सुबह उठने के बाद नीम और तुलसी का रस डालने से कान की सारी गतिविधियां संतुलित हो जाती है | जो लोग हमेशा कम सुनाई देने की शिकायत करते हैं उन लोगों ने इस तरीके को अजमाना चाहिए |

अगर आप यह तरीके इस्तेमाल नहीं करना चाहते हो तो आपने तुलसी का रस कान में डालना चाहिए, तुलसी के रस को कान में डालने से कान के परदे मजबूत बनने लगते हैं |

सुनाई देने की क्षमता को बढ़ाने के लिए बाबा रामदेव के योग :

कान के बहरेपन बाबा रामदेव के योग
कान के बहरेपन बाबा रामदेव के योग

सुनाई देने की क्षमता को बढ़ाने के लिए ऊपर दिए गए हुए तरीकों का इस्तेमाल करने के साथ-साथ अगर आप रोजाना योग साधना करते हो तो बहरेपन की समस्या का निपटारा आप जल्द से जल्द करोगे |

सुनाई देने की क्षमता को बढ़ाने के लिए रोजाना भुजंगासन, भस्त्रिका प्राणायाम, अनुलोम विलोम, यह सारे सामान्य योग करना चाहिए |

योग साधना करने से आपका पूरा शरीर संतुलित रहता है और आप शरीर की सारी गतिविधियों को संतुलित रखने में मदद करते हैं |

जिन लोगों को योग साधना नहीं करते आती है उन लोगों ने बाबा रामदेव के योग अपनाकर इस समस्या से छुटकारा पाना चाहिए |

कम सुनाई देने की होम्योपैथिक दवा :

कम सुनाई देने की होम्योपैथिक दवा
कम सुनाई देने की होम्योपैथिक दवा

देखा जाए तो बाजार में कम सुनाई देने की बहुत सारी होम्योपैथिक दवाइयां मिलती है, लेकिन बहुत सारी होम्योपैथिक दवाइयां ऐसी है जिनका इस्तेमाल करने से इसका गलत असर हमारे शरीर पर हो सकता है |

इसलिए कम सुनाई देने पर अगर आप होम्योपैथी डॉक्टर की सलाह से दवाइयों का सेवन करते हो तो इससे आपके शरीर का ठीक तरह से विकास होगा और आप कम सुनाई देने की समस्या पर जल्द से जल्द छुटकारा पा सकोगे |

किसी भी दवाई का सेवन अगर हम किसी चिकित्सक की सलाह से करते हैं तो इसका सही परिणाम हमारे शरीर पर होता है, लेकिन अनचाहे तरीके से किसी भी दवाई का सेवन करने से हमारे शरीर की समस्या और भी बढ़ सकती है |

एक कान से कम सुनाई देने पर उसे कैसे ठीक करें ?

एक कान से कम सुनाई देने पर
  • एक कान से कम सुनाई देता है तब सरसों का तेल कानों में लगाना चाहिए | सरसों का तेल कानो में लगाते समय कानों के अंदर हल्के हाथों से मालिश करें जिससे कानों के परदे धीरे धीरे मजबूत होने लगेंगे |
  • बहुत सारे लोग ऐसे होते हैं जिनके शरीर में पोषक तत्व की काफी कमी होती है, शरीर में पोषक तत्वों की कमी के कारण भी यह समस्या आ सकती है ऐसे वक्त आपने अपने भोजन में सेब का सिरका पीना चाहिए | गर्म पानी में एक चम्मच सेब का सिरका और एक चम्मच शहद डालने से शरीर की यह सारी छोटी-छोटी गतिविधियां सामान्य तरीके से काम करने लगती है |
  • एक कान से जब काफी मात्रा में कम सुनाई देता है तब कान में चाबी या किसी प्रकार का अवजार ना डालें | बहुत सारे लोगों को कान में कुछ ना कुछ डालने की आदत होती है, दोस्तों इस आदत को जल्द से जल्द तोड़े नहीं तो आपके दोनों कानों को बहरेपन की समस्या हो सकती है |
  • बहरापन दूर करने के लिए दालचीनी और शहद एक फायदेमंद तरीका होता है | यह मिश्रण अपने भोजन में इस्तेमाल करने से बहरापन बिल्कुल कम हो जाएगा |
क्या आपको यह लेख पसंद आया ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here