काली मिर्च के औषधीय गुण

0
12
(Last Updated On: March 1, 2018)

काली मिर्च के औषधीय गुण

काली मिर्च के औषधीय गुण
काली मिर्च के औषधीय गुण

सारी दुनिया में काली मिर्च का उपयोग हजारो साल से किया जा रहा है | कालीमिर्च के प्रयोग से भोजन की किसी भी अप्रिय गंध को खत्म किया जा सकता है | कालीमिर्च की पत्तिया अंडकार व बड़ी होती है, सिरा नुकीला व किनारे चिकने होते है |

loading...

कालीमिर्च पर फल गुच्छे के रूप में लगते है , पकने पर इनका रंग लाल हो जाता है | सुखाने पर कच्ची कालीमिर्च का छिलका सिकुड़कर काला पड जाता है | औषधि के रूप में इसका व्यापक प्रयोग होता है|

काली मिर्च के औषधीय गुण :

खाँसी :

2-3 कालीमिर्च जरा से नमक व स्याव जीरे के साथ मुंह में रखकर चूसने से खाँसी में राहत मिलती है|

सीने की जलन :

1 चम्मच पीसी कालीमिर्च, निम्बू-पानी में घोलकर पीने से खट्टी डकारे तथा सीने की जलन में राहत मिलती है|

बुखार :

पौना चम्मच काली मिर्च और 2 चम्मच शक्कर पानी म घोलकर पीने से बुखार उतर जाता है|

दिमागी कमजोरी :

एक चुटकी पीसी कालीमिर्च ,शहद में मिलाकर सुबह-शाम चटने से दिमाग कमजोरी दूर होती है|

गला बैठना:

15-20 कालीमिर्च चबाकर ऊपर से कुनकुना पानी पीने से सर्दी के कारण बैठा हुआ गला खुल जाता है|

दंत रोग :

कालीमिर्च व नमक मिलाकर मंजन करने से मसुडो की सूजन सांस की दुर्गंध, पायरिया, दांत दर्द, कीड़ा लगना, दांत से ठंडा-गरम लगना आदि में लाभ होता है|

बवासीर :

कालीमिर्च व कालानमक सुबह दही में मिलाकर खाने से बवासीर का दर्द दूर हो जाता है|

नेत्र ज्योति वर्धक :

पिसी हुई कालीमिर्च व शक्कर ,घी  मिलाकर खाने से आंखों की कमजोरी दूर होती हैं तथा स्मरणशक्ति होती है|

सूजन :

5 कालीमिर्च जरा से मक्खन में मिलाकर बच्चों को चाटने से सूजन दूर होती है|

फुंसिया :

काली मिर्च को गर्म पानी में घिसकर छोटी-छोटी फुंसियों पर लगाने से फुंसियां ठीक हो जाती है|

जुखाम :

दही में शक्कर वह काली मिर्च का चूर्ण मिलाकर दिन में 2 बार सेवन करने से जुखाम ठीक हो जाता है|

मांसपेशियां का दर्द :

तिल के तेल में पिसी काली मिर्च को गर्म करके मांसपेशियों पर लगाने से दर्द ठीक हो जाता है|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here