लौंग के उपाय हिंदी

0
93
लौंग के उपाय हिंदी
लौंग के उपाय हिंदी

लौंग के उपाय

लौंग के उपाय हिंदी
लौंग के उपाय हिंदी

लौंग के वृक्ष पर जो सुगंधित फूल लगते हैं, उनकी कलियों को तोड़कर सुखा लेते हैं| इन्हें ही लौंग कहते हैं| लौंग का उपयोग कफ का शमन करने के लिए और शीतवीर्य होने से पित्त का शमन करने के लिए किया जाता है|

लौंग सुगंधित, पाचक, वातनाशक, उत्तेजक, कफ नाशक, रक्त विकार नाशक, दुर्गंध नाशक है| लौंग का सेवन करने से आमाशय में पाचक रसों का स्त्राव होता है, जिससे पाचक शक्ति प्रबल होती है | लौंग का उपयोग पाचन क्रिया की वृद्धि के लिए भी किया जाता है|

लौंग के उपयोग:

दांत दर्द:

दात या दाढ़ में दर्द होने पर रुई के फाहे में लौंग का तेल लगाकर दर्द वाले मसूड़े पर रखने से दांतो का  दर्द दूर होता है|

अपच:

आधा कप पानी में दो लौंग पीसकर उबालें और ठंडा होने पर पी जाए| इस प्रकार दिन में तीन बार पीने से अपच और गैस में लाभ होता है|

जी मचलाना:

यदि मितली आ रही हो तो 4-5 लौंग चबाने से जी मिचलाना कम हो जाता है|

प्यास की तीव्रता:

पानी में लौंग उबालकर ठंडा करके पीने से बार-बार लगने वाली प्यास कम हो जाती है|

खांसी और दमा:

रात को सोने से पहले 8-10 बनी हुई लौंग खाने से कुछ ही दिनों में लाभ होता है|

हिचकी :

2 लौंग मुंह में डालकर चूसने से हिचकी में शीघ्र लाभ होता है|

सिर दर्द:

लौंग को पानी में पीस कर गर्म करके ललाट और कनपटी पर लेप करने से सिर दर्द व तनाव मिटता है|

ज्वर:

लौंग व चिरायता समभाग पानी में पीसकर शहद के साथ पिलाने से ज्वर उतर जाता है|

सर्दी-जुकाम:

एक बताशे या एक चम्मच शक्कर मैं दो बूंद लौंग का तेल टपकाकर खा लें तथा रुमाल में तीन-चार बूंद तेल टपकाकर दिनभर सूंघते रहे|

उदर विकार:

दो चम्मच लौंग का फाँट एक कप पानी में डालकर दिन में तीन बार पीने से अपच व उदरवायु ठीक होता है व पाचन क्रिया ठीक होती|

पेट दर्द:

अजीर्ण के कारण पेट दर्द होने पर एक चम्मच लौंग का चूर्ण गर्म पानी के साथ दिन में 3 बार लेने से आराम मिलता है|

जुकाम:

3 लौंग, 5 काली मिर्च व बताशे को पीसकर व उबालकर पीने से जुखाम ठीक हो जाता है|

नेत्रज्योति:

हर रोज सुबह और रात को भोजन के बाद लौंग का सेवन करने से नेत्र ज्योति बढ़ती है तथा भोजन भी शीघ्र पचता है|

क्या आपको यह लेख पसंद आया ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here