Home » दिमाग के उपाय » माइग्रेन में क्या होता है ? माइग्रेन का इलाज घरेलु उपाय और होम्योपैथिक दवाई के साथ

माइग्रेन में क्या होता है ? माइग्रेन का इलाज घरेलु उपाय और होम्योपैथिक दवाई के साथ

माइग्रेन का इलाज

नमस्ते दोस्तों,  कैसे करे के माध्यम से हम आपको माइग्रेन क्या होता है ? और इस माइग्रेन का इलाज के लिए क्या करना चाहिए ? और ऐसे किन चीजों का परहेज करना चाहिए ? इसकी जानकारी देने वाले हैं। आजकल माइग्रेन की समस्या बहुत ज्यादा बढ़ गई है। यह ज्यादातर महिलाओं में होता है। यह 100 में से 75% लोगों को माइग्रेन की समस्या होती है। आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में लोगों को अपने आप का ख्याल रखने की टाइम नहीं होता है। काम के भाग दौड़ में लोग जो मिले वह खा लेते हैं, और यह नहीं सोचते हैं,  कि इसका परिणाम उनके शरीर पर क्या होगा ? अगर आप चाहते हैं कि आपका शरीर स्वस्थ और निरोगी रहे, तो आपको अपने खान-पान का ध्यान रखना बहुत जरूरी है। ऐसे फलों और आहार का सेवन करें जिसमें पोषक तत्व भरपूर मात्रा हो। माइग्रेन उन लोगों को होता है, जो ज्यादा सोचते हैं, और किसी भी चीज का तनाव लेते हैं। ज्यादा तनाव लेने से माइग्रेन की समस्या बढ़ती है।

माइग्रेन में बहुत तेजी से दर्द होता है, यह सिर के आधे हिस्से में होने लगता है। इसके चलते मरीज को चक्कर भी आने लगते हैं, और कभी-कभी अगर दर्द ज्यादा बढ़ जाए तो माइग्रेंट का मरीज बेहोश भी हो सकता है। दर्द इतना ज्यादा होता है, कि वह सहने की ताकत मरीज में नहीं होती है। माइग्रेन होने की वजह से लोगों को बहुत ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ता है। उनको अपना खान-पान का बहुत ज्यादा ध्यान रखना पड़ता है। यदि वह समय पर खाना नहीं खाते हैं,तो उनको सर दर्द होने लगता है। उसी प्रकार उनको नींद पूरी लेना बहुत जरूरी होता है। माइग्रेन के कारण और लक्षण भी होते हैं, और माइग्रेन में आपको कुछ चीजों का परहेज करना पड़ता है, तो चलिए जानते की जानकारी।

सूचि देखे :

माइग्रेन मैं क्या होता है ?

माइग्रेन
माइग्रेन

माइग्रेन क्यों होता है ? यह जानना बहुत जरूरी है। यदि आपको माइग्रेन के बारे में जानकारी चाहिए, तो माइग्रेन मस्तिष्क में जो रक्त की धमनिया होती है, उस में रक्त प्रवाह अचानक से ज्यादा होने की वजह से रक्त एक जगह पर जमा हो जाता है। जिसकी वजह से नसों में तनाव होने लगता है, इसकी वजह से मस्तिक में तेजी से दर्द होने लगता है। उसी के साथ साथ जो लोग बहुत ज्यादा तनाव लेते हैं, और बहुत ज्यादा सोचते हैं, उनको माइग्रेन की समस्या रहती है।

माइग्रेन में सिर का दाहिना या फिर बायें हिस्सा बहुत तेजी से दर्द करने लगता है, और इसके चलते माइग्रेन के मरीज को चक्कर आने लगते हैं, और उन्हें यह एक अटैक की तरह आता है, जो 1 से 2 घंटे तक रहता है। माइग्रेन के लिए किसी प्रकार की दवाई का यूज नहीं है। यह सिर्फ योगा या फिर अपने खान-पान और शारीरिक स्वास्थ्य का ध्यान रखने से ठीक किया जा सकता है।

माइग्रेन की समस्या होने से क्या होता है ?

माइग्रेन की समस्या
माइग्रेन की समस्या

 

माइग्रेन पीड़ित व्यक्ति को सिर के डाया या बाये साइड में बहुत तेजी से सर दर्द होता है। यह सर के किसी भी हिस्से में हो सकता है। ज्यादा करके सर के एक हिस्से में होता है। इसमें उल्टी जैसा महसूस होता है, और अगर सिर दर्द ज्यादा तेजी से होने लगे तो चक्कर भी आ सकते हैं, और इंसान बेहोश हो सकता है। माइग्रेन का दौरा अगर पड़ता है, तो यह 4 से 5 घंटे तक रहता है।

माइग्रेन पीड़ित व्यक्ति ज्यादा रोशनी बर्दाश्त नहीं कर सकता है, या ऐसी कोई सुगंध जो बहुत ज्यादा आ रही हो जैसे कि स्ट्रांग परफ्यूम। माइग्रेन पीड़ित व्यक्ति अगर नींद पूरी ना ले, तो इनको सिर दर्द शुरू हो जाता है। उसी के साथ साथ अगर यह समय पर खाना नहीं खाए, तो भी इनको सिर दर्द शुरू हो जाता है। पीड़ित व्यक्ति को अपने शरीर का और अपने नींद खाने पीने का बहुत ख्याल रखना पड़ता है।

क्या करने से माइग्रेन के दर्द में सहायता मिलती है ?

माइग्रेन के दर्द में सहायता

वैसे तो माइग्रेन का इलाज किसी भी दवा से नहीं किया जा सकता है, लेकिन यदि आप रोज़ाना मेडिटेशन या फिर योगा या प्राणायाम करते हैं, तो इससे आपको राहत मिलती है। उसी के साथ साथ अगर आपको ऐसा लगे कि आपको सर दर्द शुरू होने वाला है, उसी समय तुरंत कोई भी पेन किलर ले लिजीए। यह आपको अपने डॉक्टर की सलाह से लेनी है, क्योंकि कोई भी पेन किलर लेने से आपको तकलीफ़ हो सकती है। यह आपके शरीर के लिए हानिकारक हो सकती है। हर बार दवाई लेना भी उचित नहीं है। अगर आपको दर्द हो रहा है तो थोड़ी देर के लिए शांत बैठ जाए, कुछ काम ना करें यदि आप कहीं शोर शराबी वाली जगह में है, तो तुरंत वहां से निकल जाए, क्योंकि इससे बहुत ज्यादा सर दर्द होने लगता है।

अपने साथ कुछ भी चॉकलेट या मीठी चीज रखें, क्योंकि जब भी माइग्रेन होता है, चक्कर जैसा होने लगता है, तो तुरंत अपने मुंह में वह डाल ले। रोज़ाना समय पर खाना खाना और पूरे 8 घंटे की नींद लेना माइग्रेन के मरीजों के लिए बहुत जरूरी है, क्योंकि यदि वह अपने खाने-पीने का या फिर अपने नीद का पूरी तरह से ध्यान नहीं रखते हैं, तो उनको सर दर्द होगा। इसके लिए आपको इन चीजों का ध्यान रखना बहुत जरूरी है ।

माइग्रेन में क्या नहीं खाना चाहिए ?

माइग्रेन में क्या नहीं खाना

जिनको माइग्रेन की समस्या है, उनको ज्यादा चाय कॉफी यानी कि जिसमें ज्यादा मात्रा में कैफीन का प्रमाण है, वह चीज का सेवन नहीं करना चाहिए। माइग्रेन की शुरुआत होने पर आपको पनीर, चीज जैसे पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए, इससे आपका दर्द और ज्यादा बढ़ता है। ज्यादा दिन का पनीर भी आपको नहीं खाना चाहिए। आपको धूम्रपान और शराब का सेवन करना नहीं चाहिए, इससे आपका माइग्रेन और ज्यादा बढ़ता है। यदि आपको चॉकलेट खाने की बहुत ज्यादा आदत है, तो यह आदत आपको छोड़ने होगी, क्योंकि यह आपके लिए बहुत ही खतरनाक साबित हो सकती है। इसके चलते आपका माइग्रेन और ज्यादा बढ़ सकता  है। ज्यादा मसाले और तेल वाले पदार्थों का परहेज करें।

घर पर बना हुआ ही खाना खाए। बहार का खाना ना खाए, यह आपके शरीर में एसिडिटी बढ़ाता है, और इसके वजह से आपका माइग्रेन की समस्या और ज्यादा बढ़ने लगती हैं, इसके लिए इन चीजों का ध्यान रखें।

माइग्रेन में चक्कर आने पर क्या करें ?

माइग्रेन में चक्कर आने पर
माइग्रेन में चक्कर आने पर

माइग्रेन पीड़ित व्यक्ति को चक्कर आता है, तभी आपको तुरंत अपने सर पर ठंडा पानी डालना है। यदि संभव है तो एक गिलास पानी में चुटकी भर नमक डालकर उसमें एक चम्मच शक्कर डालकर उस पानी को पी लें। इससे आपका चक्कर तुरंत थम जाएगा, उसी के साथ कुछ बातों का ध्यान रखें। नारियल पानी रोज़ाना पीना चाहिए, और रात को सोते समय आंवले के पाउडर को पानी में मिलाकर पीना चाहिए।

चक्कर आए तो तुलसी के 3 से 4 पत्ते मुंह में जबाते रहे। उसी के साथ था आपको रात को बदाम भिगो कर रोज़ाना सुबह इसका सेवन करना चाहिए। या फिर सुबह काम पर निकलने से पहले बादाम और काजू का एक चम्मच पाउडर दूध में मिलाकर इसका रोज़ाना पिए। इससे भी आपके माइग्रेन में जो चक्कर आते हैं, इससे आपको राहत मिलेगी।

माइग्रेन में बाबा रामदेव के योगासन :

माइग्रेन में बाबा रामदेव के योगासन

माइग्रेन के लिए बाबा रामदेव के योगासन बहुत ही गुणकारी है, और यदि आप रोज योगासन करते हैं, तो आपकी माइग्रेन की समस्या पूरी तरह से खत्म हो जाएगी, और जो आपको माइग्रेन  में दर्द होता है उसे राहत मिलेगा। रोज़ाना सुबह आपको को अनुलोम विलोम, भ्रमरी प्राणायाम और सुबह 5 से 10 मिनट तक ओमकार का जप करें आंखें बंद करके, यदि आप यह तीन प्राणायाम भी रोज सुबह करते हैं, तो आपका माइग्रेन का दर्द बहुत जल्दी ठीक हो जाएगा ।

माइग्रेन में पेन किलर का इस्तेमाल :

माइग्रेन में पेन किलर

माइग्रेन में बहुत ज्यादा तेज दर्द होने की वजह से माइग्रेन पीड़ित व्यक्ति कोई भी पेन किलर खा लेता है, जो कि आपके सेहत के लिए बहुत ही हानिकारक हो सकता है। यह आपको फिलहाल के लिए तो आपका सर दर्द ठीक कर देता है, लेकिन यह आपकी किडनी तथा शरीर पर नुकसान करती है। कभी भी अगर आप पेन किलर ले रहे हैं, तो अपने डॉक्टर से सलाह लिए बिना किसी भी पेन किलर का सेवन ना करें। इससे आपके शरीर पर साइड इफेक्ट हो सकते हैं, तो इस बात का ध्यान रखें।

लेकिन ज्यादा दर्द हो रहा है तो डॉक्टर अक्सर माइग्रेन में राहत पाने के लिए गोली का नाम पर नुरोफेम माइग्रेन पैन किलर टेबलेट देते है |

माइग्रेन की रोगी को बोटोक्स का इंजेक्शन (Botox Injection) क्यों देते हैं ?

बोटोक्स का इंजेक्शन
बोटोक्स का इंजेक्शन

माइग्रेन पीड़ित व्यक्ति को बोटॉक्स का इंजेक्शन दिया जाता है। उनके दर्द से छुटकारा पाने के लिए इस इंजेक्शन से माइग्रेन पीड़ित व्यक्ति को दर्द से छुटकारा मिलता है। यह एक ट्रीटमेंट होती है, जो आप अच्छे डॉक्टर के सलाह से ले सकते हैं। इसमें टॉक्सिंस होता है, यह आपके शरीर में जाकर नसों को खोलने का काम करता है। इससे आपका दर्द कम होता है। यह ट्रीटमेंट के बाद आपकी माइग्रेन की समस्या थोड़ी-थोड़ी करके खत्म हो जाती है, लेकिन यह एक कोर्स है, जो आपको पूरा करना पड़ता है, आपके डॉक्टर की सलाह से।

माइग्रेन की होम्योपैथिक दवा की जानकारी :

माइग्रेन की होम्योपैथिक दवा
माइग्रेन की होम्योपैथिक दवा

माइग्रेन में होम्योपैथिक दवा बहुत ही फ़ायदेमंद होती है, यदि आप एंटीबायोटिक्स लेते हैं। माइग्रेन का दर्द कम करने के लिए, तो उसे बेहतर होम्योपैथिक दवा लेना बहुत फ़ायदेमंद हो सकती है, क्योंकि यह पूरी तरह से नैसर्गिक होती है। इससे आपके शरीर पर किसी भी तरह का नुकसान नहीं होता है इसके लिए।

बेलाडोना- belladonna

बेलाडोना
बेलाडोना

बेलाडोना दवा यह एक होम्योपैथिक दवाई है माइग्रेन पीड़ित व्यक्तियों के लिए यह माइग्रेन में होने वाले दर्द को कम करती है। यदि आप इस दवाई का सेवन करते हैं, तो आपको माइग्रेन में जो भी तकलीफ़ होती है, यानी कि चक्कर आना, उल्टी जैसा महसूस होना, और सिर में बहुत दर्द होना है, यह सब परेशानियां खत्म हो जाते हैं। यह दवाई अगर आप माइग्रेन में लेते हैं, तो बहुत ही गुणकारी साबित होती है। इसके किसी भी तरह के नुकसान नहीं है।

जेलसीमियम- gelsemium

gelsemium होम्योपैथिक मेडिसिन
gelsemium होम्योपैथिक मेडिसिन

जेल्सीमियम दवा यह होम्योपैथिक दवाई है। यह आपके माइग्रेन में होने वाले दर्द से छुटकारा दिलाती है, और यह आपकी थकान को दूर करती है। माइग्रेन में सिर दर्द होने की वजह से अगर नींद नहीं आती है, तो आपको इस दवाई के सेवन से अच्छे से नींद आती है। इस दवाई के सेवन से आप का दर्द ठीक हो जाता है, और उसी के साथ चक्कर आना भी बंद हो जाता है। यह दवाई का किसी भी तरह का नुकसान नहीं है, आपके शरीर के लिए। यह दवाई आप ले सकते हैं, लेकिन एक बार अपने डॉक्टर की सलाह जरूर ले। किसी भी दवाई का सेवन करने से पहले।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!