Home » फायदे और नुकसान » मौसमी फल मौसंबी के फायदे

मौसमी फल मौसंबी के फायदे

मौसमी के गुण

मौसमी के फायदे

मौसमी के गुण
मौसमी के गुण

रोगी के लिए मौसमी एक आदर्श फलाहार माना जाता है | इसमें विशेष गुण होते है | सभी अवस्थाओं में इसका सेवन लाभप्रद है |

यह भी संतरे की तरह किसी भी स्थिति में हानि न करने वाला स्वास्थ्यदायक फल है | मौसंबी एक पोष्टिक गुणों से भरपूर है |

बिमारी में इसका प्रयोग बेखटके किया जा सकता है |यह हरे या पीले रंग का फांक वाला मधुर रस से भरपूर स्वादिष्ट व् ताजगी देने वाला पुष्टिकारक फल है |

मौसमी के गुण :

मौसमी का रस पीने से जीवनीशक्ति बढती है , रोग- प्रतिकारोधक क्षमता का विकास होता है , दांत मजबूत होते है , कब्ज दूर होता है |मौसंबी का रस रक्त की अम्लता भी दूर करता है |

यदि कोई व्यक्ति मौसंबी का ठंडा रस न ले सके तो उसे रस का हल्का- सा गरम क्र लेना चाहिए | इसमें बार=बार सर्दी लगना और जुकाम होना खत्म हो जाता है |

इसमें धोड़ा-सा अदरक का रस मिलकर पीने से इसका गुणकारी प्रभाव बढ़ जाता है |
मौसंबी में विटामिन ‘सी ‘ पर्याप्त मात्रा में होता है |

इसमें स्वास्थ्यवर्द्धक खनिज भी भरपूर मात्रा में होता है |इसका सेवन से मूत्र खुलकर आता है और पेट भी साफ हो जाता है | इसका रस धातुवर्द्धक व रक्तशोधक होने के साथ-साथ चर्म में भी लाभकारी है |

मौसंबी में केल्शियम , फास्फोरस आदि तत्व काफी मात्रा में होते है |
मौसंबी का उपयोग प्राय: रस के रूप में किया जाता है | लेकिन कुछ लोग इसकी फांका पर मसाला लगाकर भी खाते है |

इसका रस बच्चो से लेकर बड़ो तक सभी के लिए उपयोग है |मूत्र अधिक आने , दस्त तथा सर्दी-जुखाम में मौसमी का सेवन नही करना चाहिए|

मौसमी के छिलके से सुगंधित तेल भी निकाला जाता है | यह त्वचा के लिए बहुत लाभदायक है |

मौसंबी के फायदे घरेलु उपाय :

गर्भावस्था में :

गर्भवती स्त्री को मौसमी का रस पीने से लाभ होता है | मोसमी के रस में कैल्शियम की मात्रा अधिक होने के कारण गर्भस्थ शिशु को पोष्टिक आहार मिलता है |

खाँसी-दमा :

मौसंबी का रस हल्का-सा गरम करके उसमे नमक , भुना जीरा अदरक का रस मिलाकर पीने से आराम मिलता है |

टायफाइड :

टायफाइड के रोगी को मौसमी का रस विशेष लाभ होता है |

बच्चो का सिरदर्द :

मौसमी का तेल बच्चो के ज्वर तथा सिरदर्द को दूर करता है | बच्चो के शरीर पर मालिश के लिए यह तेल उपयोगी है |

जुखाम :

मौसमी के एक गिलास रस में ५-६ बुँदे अदरक का रस मिलाकर व जरा-सा नमक मिलाकर पीने से जुखाम में लाभ होता है |

अनिद्रा :

मौसंबी का रस पीते रहने से अनिद्रा रोग दूर होता है |

थकान :

नियमित रूप से मौसंबी का रस पीने से शारीरिक थकान दूर होती है |

रक्तशोधक :

मौसंबी का रस रक्तशोधक है , जिससे ह्रदय को बल मिलता है |

ज्वर :

सभी प्रकार के ज्वरो में जब ठोस भोजन देना निषिध्द होता है , तब मौसमी के रस में नमक मिलाकर पिलाने से लाभ होता है |

कब्ज :

संतरा और मौसमी का रस मिलाकर पीने से कब्ज दूर होता है और शरीर से विषैले तत्व आसानी से बाहर निकल जाते है | इसका रेशा कब्ज को दूर करता है |

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!