पान के पत्ते खाने के लाभ फायदे हिंदी में

, , Leave a comment

पान के पत्ते खाने के लाभ

पान के पत्ते के लाभ
पान के पत्ते के लाभ

भारत में पान सर्वत्र उपलब्ध होता है | यह लता जाति की वन औषधी है | इसके पत्तो का आकर पीपल के पत्तो के समान होता है | पान का प्रयोग केवल मुख-सुगंधी के लिए ही नही , मांगलिक कार्यो और औषधि में भी किया जाता है |

पान रुचिकारक , गरम , कसैला , चरपरा , हल्का , बलदायक , रक्तपित्त कारक , कफ़ तथा मुख की दुर्गंधता , मल , वायु और श्रमनाशक है |

पान के पत्ते के घरेलू उपाय :

खाँसी :

पान के 2-3 पत्ते व् अदरक को 2 चम्मच पानी मिलाकर कूटे | इसे निचोड़कर अर्स निकाले | इस रस में 1 चम्मच शहद मिलाकर सुबह-शाम चाटने से खाँसी मिट जाती है |

पुरानी खाँसी :

पाने के 2-4 पत्ते तेल से चुपड़कर गले पर बांधने से नई और पुरानी खाँसी में आराम होता है |

गले का दर्द :

रात को सोते समय पान में 1 ग्राम मुलहटी का चूर्ण रखकर कुछ समय तक चबाए | धीरे-धीरे रस असर करेगा तथा सुबह तक आराम आ  जाएगा :

फोड़ा :

फोड़े पर व पान पर तेल लगाकर पान को गरम करके बांधने से फोड़ा ठीक हो जाता है |

पित्ती :

खाने वाले 3 पान और 1 चम्मच फिटकरी पानी के साथ पीसकर पित्ती निकली हुई जगह पर मालिश करने से पित्ती ठीक हो जाती है |

सुजन :

प्रसूता के स्तनों पर पान का सेंक व लेप लगाने से सुजन कम होती है |

सर्दी :

बच्चो को सर्दी होने पर पान के पत्ते पर तेल लगाकर गरम करके सीने पर बांधने से लाभ होता है |

दस्त :

बच्चो को पेट दर्द के साथ दस्त होने पर पान के डंठल पर तेल लगाकर गुदा द्वारा में प्रवेश करने से लाभ होता है |

पसली का दर्द :

बच्चो की साँस तेज चलने , छाती या पसली में दर्द होने पर पान पर सरसों का कुनकुना तेल लगाकर दर्द के स्थान पर रखकर पट्टी से बांधने से शीघ्र लाभ होता है|

अंकोल के गुण हिंदी में.
आक के गुण हिंदी में जानकारी.
 

Leave a Reply