पेठा कद्दू के गुण हिंदी में

पेठा कद्दू के गुण हिंदी में

पेठा कद्दू के गुण
पेठा कद्दू के गुण

भारत में सर्वत्र उप्लब्ल्ध पेठा मुलतः सब्जी है परंतु मिठाई के रूप में इसका प्रयोग अधिक किया जाता है | पेठा मस्तिष्क के लिए बलवर्द्धक है | वैसे यह केवल दिमाग के लिए ही नही अपितु अनेक रोगों में लाभदायक है |

पका हुआ पेठा सर्वदोषहर माना गया है | इसका फल , बिज तथा बिज का तेल सभी उपयोग है | इसमें प्रोटीन , शर्करा , क्षार , तथा बीजो में तेल होता है |इसके फल की १०-२० ग्राम , बिज चूर्ण की ३-६ ग्राम तथा तेल की ५-१० मी.ग्रा मात्रा औषधि रूप में प्रयोग की जाती है |

loading...

पेठे का रस मधुर , गुण सामान्य एव मधुर , वीर्य , शीत है | पका पेठा झारिय होता है | वात-पित्त शामक होने से इसका प्रयोग वात- पित्त विकारों में तथा मस्तिष्क के लिए बलदायक होने से उन्माद आदि मनोविकारों में व मस्तिष्क दुर्बलता में किया जाता है | इसके प्रयोग से पुराना बुखार जाता है | इसके बिज कृमिनाशक होते है |इसके सेवन से खाँसी , ज्वर तथा दाह शांत होते है |यह सामन्य दुबलता , कृशता तथा ह्रदय के लिए टॉनिक का काम करता है |

घरेलू उपाय :

  • मूत्ररोग :

    इसका गूदा एव बीज रुक- रूककर मूत्र आने , द र्द के साथ मूत्र आने तथा पथरी में उपयोग है |

  • सिरदर्द :

    सभी प्रकार के सिरदर्द में इसके बीजों का तेल सिर में लगाने से लाभ होता है |

  • आग से जलना :

    आग से जलने के स्थान पर इसके गूदे के साथ पत्तो के रस का लेप करने से जलन शांत होती है |

  • जलन :

    शरीर के अंगो में जलन होने पर इसके गूदे का लेप करने से लाभ होता है |

  • नकसीर :

    पेठे की मिठाई को रातभर पानी में भिगोकर सुबह खाने के बाद पानी पीने से कुछ दिनों के प्रयोग से नाक से खून बहना बंद हो जाता है | दिमाग को शांति मिलती है और गर्मी दूर होती है |

  • गर्भपात :

    पेठा खाने से बार -बार होने वाले गर्भपात से बचा जा सकता है |

  • तपेदिक :

    पेठे का उपयोग तपेदिक में करने से फेकड़ो तथा सारे शरीर को बल मिलता है |

  • शुक्रदौर्बल्य :

    पेठा सेवन करने से शुक्राणु की कमी में लाभ होता है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *