पीपल का पेड़
पीपल का पेड़

Last Updated on

पीपल का पेड़ के गुण

पीपल का पेड़
पीपल का पेड़

पीपल का पेड़ को इंग्लिश में Sacred fig कहते है और मराठी में पिंपळ च झाड कहते है |

पीपल के वृक्ष की छाया शीतल होती है | पीपल का पेड़ छाया देने वाले वृक्षों में इसे सर्वश्रेष्ट वृक्ष माना जाता है | पीपल का वृक्ष  के सभी अवयव उपयोगी होते है | आयुर्वेदिक में इसके पांचो अंगो को गुणकारी बताया गया है | बरगत और गूलर के वृक्ष की भांति इसके पीपल का पुष्प भी गुप्त रहते है | पीपल का वृक्ष दीर्घायु होते है पीपल का वृक्ष वायुमंडल को शुध्द करता है |

पीपल का पेड़ शीतल , भारी , कसैला , रुखा , वर्ण को उत्तम करने वाला , पित्त , कफ घाव तथा रक्त विकार को नष्ट करने वाला है |

पीपल का पेड़ के घरेलू उपाय :

उल्टी :

पीपल के पीले रंग के पत्तो को जलाकर उसकी राख बना ले | इस राख को गरम पानी में भिगो दे | एक घंटे बाद निथारकर पानी से उल्टिया से मुक्ति प्राप्ति होती है |

दमा :

पीपल के पके फलों को छाया में सुखाकर पीस ले | सुबह-शाम 3 ग्राम चूर्ण पानी के साथ सेवन करने से दमा का रोग से छुटकारा मिल जाता है |

सूजन :

पीपल के पत्तों पर तेल चुपड़कर गरम क्र बांधने से सूजन दूर हो जाती है |

सुजाक :

पीपल के पत्तो को उबालकर छान ले | इस पानी में बकरी का दूध मिलाकर सेवन करने से छुटकारा मिलता है |

पेट की जलन :

१ तोला पीपल के फल को घोटकर थोड़ी-सी कालीमिर्च मिलाकर पीने से पेट की जलन में आराम मिलता है |

पेटदर्द :

पीपल के दो पत्तों को बारीक पीसकर गुड के साथ खाने से पेट दर्द दूर हो जाता है |

नासूर :

पीपल की छाल को घीसकर के रस में घिसकर रुई को रस भिगोकर नासूर में रखने से नासूर कुछ ही दिनों में ठीक हो जाता है |

दमा :

पीपल के पके फलों को छाया में सुखाकर पीस ले | सुबह-शाम 3 ग्राम चूर्ण पानी के साथ सेवन करने से सुजाक छुटकारा मिलता है|

नजला-जुकाम :

पीपल के पुराने फल को छाया में सुखाकर चूर्ण बना ले | 3 ग्राम शहद की मात्रा मिलाकर गाय के दूध के साथ सेवन करने से लाभ होता है |

सफेद दाग :

सफेद कपड़े को शहद भिगोकर , पीपल के दूध में तर कर जलाकर राख बना ले | राख को सिरके में मिला ले | सफेद दाग को गरम पानी से धोकर उक्त लेप को लगाने से कुछ ही दिनों में सफेद दाग ठीक हो जाता है |

कोढ़ :

पीपल के पत्तों को पानी में 3 बार उबालकर हररोज इस पानी से स्नान करने से लाभ होगा |

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here