loading...

विलंबित प्रसव का देसी उपचार

विलंबित प्रसव का देसी उपचार

विलंबित प्रसव

विलंबित प्रसव

कारण व लक्षण :

प्रसव में विलंब एक गंभीर समस्या है प्रसव ऐसा समय होता है जब नारी को नया जन्मा मिलता है प्रसव में अधिक लंबा से गर्भ में पल रही संतान वह माता दोनों को खतरा हो सकता है| प्रायः प्रसव में विलंब मांसपेशियों की स्थिरता तथा गर्भस्थ शिशु की निष्क्रियता के कारण होता है।

विलंबित प्रसव का उपचार:

  • गन्ने: गन्ने का बना ताजा गुड़ तथा गरी खाने से प्रसव काल के दौरान होने वाली गर्भाशय की पीड़ा कम हो जाती है।
  • केला: कुछ लोगों का मानना है कि केले की गांठ को कमर में बांध देने से प्रसव शीघ्र होता है तथा प्रसव पीड़ा में कमीआती है।

विलंब रहित प्रसव के लिए गर्भवती स्त्री को उचित व्यायाम और हर रोज सुबह शाम एक-एक घंटा पैदल घूमना चाहिए। इससे प्रश्नों में विलंब नहीं होता और प्रसव आसानी से हो जाता है और पीड़ा रहित हो जाता है।

पीड़ा रहित प्रसव :

पीड़ा रहित प्रसव होना असंभव है क्योंकि शिशु को जन्म देने के लिए योनि का विस्तार आवश्यक है और विस्तार पैदा ही नहीं हो सकता किंतु उचित आहार विहार हो गया है वह के द्वारा प्रसव की पीड़ा को काफी हद तक कम किया जा सकता है मांसपेशियों को इतना मौजूद बनाया जा सकता है कि प्रसव पीडा कम से कम हो यहां दिए जा रहे उपचार के अलावा गर्भवती महिला को चाहिए कि सुबह शाम नियमित रूप से दो-दो घंटे पैदल को में इससे प्रसव पीड़ा बहुत कम होगी।

प्रसव में पीड़ा का उपचार:

  • निंबू:  यदि गर्भधारण के चौथे महीने से प्रसव काल तक गर्भवती स्त्री एक नींबू की शिकंजी हर रोज पिए तो प्रसव के दौरान होने वाली पीड़ा में काफी कमी हो जाती है। तथा प्रसव बिना कष्ट के संपन्न हो जाता है।
  • नारियल: नारियल का गोला और मिश्री को 25-25 ग्राम की मात्रा में मिलाकर हर रोज खाए। इससे प्रसव के दौरान ज्यादा तकलीफ नहीं होती और प्रसव सरलता से होता है।
गुर्दे के रोगों का घरेलू उपचार.
देसी घरेलु उपाय हिंदी में जानकारी
पेट के रोग वशीकरण के उपाय
चेहरे की सुंदरता नौकरी लगने के टोटके
बालों का इलाज लड़की को पटाने के तरीके
 यौन रोगों का इलाज सपनो का अर्थ स्वप्नफल
प्रेगनेंसी की टिप्स खाने के फायदे
मासिक धर्म(पीरियड्स) दिमाग तेज कैसे करे?
 मोटापा कम करे भगवान की पूजा
 दांत के उपाय स्मोकिंग की आदत से छुटकारा
 बाबा रामदेव योगा लाल किताब के टोटके

One Response

  1. Niteesh Kumar September 23, 2017

Leave a Reply