संतरा (orange) खाने के फायदे हिंदी में जानकारी

    0
    78
    संतरा खाने के फायदे
    संतरा खाने के फायदे

    संतरा खाने के फायदे

    संतरा खाने के फायदे
    संतरा खाने के फायदे

    संतरा ग्रीष्म त्रुतु का फल है | इसमें विटामिन ‘सी’ अधिक होता है | संतरे का रस तथा छिलका दोनों गी प्रयोग में लिए जाते है |
    संतरे को इंग्लिश में ऑरेंज कहते है|

    ऑरेंज बेनेफिट्स इन हिंदी में जानते है संतरे के गुण. संतरे को खाने का सही टाइम समय ऐसा कुछ नहीं है| संतरे की खेती किसान को अच्छा उत्पाद पैदा कर देती है|
    प्रतिदिन संतरा खाने से संक्रमक रोगों से बचाव होता है तथा रोग प्रतिरोधक शक्ति बढती है | इसे खाली पेट खाने से ज्यादा लाभदायक होता है|

    इसका रस पाचक होता है | इसमें विटामिन ‘ए ‘ और ‘बी ‘ साधारण मात्रा में तथा विटामिन ‘सी ‘ विशेष रूप में पाया जाता है |

    यह प्यास का शमन करने वाला , तरावट लाने वाला तथा बढ़ी हुई उष्णता को संतुलित करने वाला फल है |

    पीलिया , ज्वर , ह्रदय रोग तथा दंत रोगों में संतरा बहुत फायदेमंद है | यह आमाशय एव आंतों की सफाई तथा रक्त को शुद्ध करता है |

    घरेलू उपाय :

    दुर्बलता का इलाज है सन्त्रा :

    छोटे शिशु को संतरे का रस प्रतिदिन पिलाने से शरीर हष्ट-पुष्ट होता है , शरीर का विकास अच्छा होता है , हडिडयां मजबूत होती है व् रक्त शुद्ध रहता है |

    पीलिया रोग में आराम दिलाने वाला :

    २५० ग्राम रस में शक्कर व् पानी डालकर शरबत बना ले | इसमें संतरे का छिलके को दबाकर उसकी २-४ बूंदे डाल दे तथा १ ग्राम मीठा सोडा डालकर पी जाए | प्रतिदिन सेवन करने से मेदे की सूजन व् पीलिया रोग दूर होता है |

    अपचन से छुटकारा  :

    संतरे की छले हुई फानको पर सौंठ व् काला नमक डालकर खाने से एक सप्ताह में ही अपच रोग दूर हो जाता है |

    बच्चो के दांत :

    संतरे का रस कुनकुना कर पिलाने से बच्चो के दांत आसानी से निकलते है |

    गर्भवस्था में उल्टी :

    २५ ग्राम रस में शहद मिलाकर या एक कप रस में मिश्री मिलाकर हर दो घंटे में पीने से उल्टी बंद हो जाती है |

    मुहासे-झाई :

    संतरे के छिलके पीसकर चेहरे पर लगाने से मुहासे , झाई तथा चेचक के दाग मिट जाते है |

    अतिसार में राहत :

    संतरे के छिलके सुखाकर बारीक पीस ले इस चूर्ण को चाटकर उपर से संतरे का रस पीने से गर्भवती को वमन और आतिसार में लाभ होता है |

    जलोदर रोग का इलाज :

    संतरे की शिकंजी बनाकर पीने से जलोदर रोग ठीक हो जाता है|

    जी मिचलने का उपचार :

    संतरे की फांक चूसने से जी मचलाना बंद होता है |

    नेत्ररोग :

    संतरे का रस और शहद समभाग मिलाकर २-२ बूंद सुबह और रात को सोते समय आँख में डालने से खुजली , धुंध और कुकरे का रोग दूर होता है |

    खाँसी :

    प्रतिदिन २-४ चम्मच संतरे का रस पिलाने से बच्चो की खाँसी दूर हो जाती है |

    कब्ज :

    रात को सोते समय संतरे और सुबह खाली पेट १-२ संतरे खाने से कब्ज की शिकायत दूर होती है |

    एसिडिटी का इलाज :

    एक गिलास संतरे के रस में भुना जीरा , सेंधा नमक मिलाकर पीने से अम्लपित्त या एसिडिटी में लाभ होता है | रस का सेवन सुबह-शाम खाली पेट करे |

    हड्डी पसली का दर्द

    संतरे की फांक छीलकर छाया में सुखा ले | पीसकर कपड़े से छानकर चूर्ण बना ले | पानी के साथ इसका सेवन करने से १-२ बार के प्रयोग से लाभ होता है|

    सौंदर्यवर्द्धक :

    संतरे के ताजा छिलके तथा चिरौंजी पीसकर लेप बना ले | सोते समय यह चेहरें पर लगाए , सूखने पर छुड़ा दे | सुबह चेहरा धोने से कुछ ही दिनों में मुहांसे ठीक होकर त्वचा का रंग निखरता है |

    क्या आपको यह लेख पसंद आया ?

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here