सौंफ के औषधीय गुण

0
83
सौंफ के औषधीय गुण
सौंफ के औषधीय गुण

सौंफ के औषधीय गुण

सौंफ के औषधीय गुण
सौंफ के औषधीय गुण

आज हम सौंफ के औषधीय गुण के बारेमे जानकारी देने वाले है दोस्तों | सौंफ की तासीर ठंडी होती है| यह हाजमा ठीक करती है| यह वायु निकालने वाली, कमजोरी दूर करने वाली तथा नेत्र ज्योति बढ़ाने वाली दीपन, पाचन, कफ निकालने वाली तथा रुचिवर्धक होती है|

सौंफ के औषधीय गुण प्रयोग:

नाभि खिसकना:

दो चम्मच पीसी सौफ को दूध में मिलाकर 1 सप्ताह तक प्रतिदिन देने से नाभि का अपनी जगह से खिसकना बंद हो जाता है|

हाथ-पांव की जलन:

सौफ का चूर्ण व खाड़ी मिलाकर भोजन के आधा घंटा बाद दो चम्मच सेवन करने से हाथ-पांव की जलन तथा शरीर का भारीपन दूर होता है|

मुंह की दुर्गंध:

भोजन के बाद प्रतिदिन सौफ खाने से मुह की दुर्गन्ध दूर होती है तथा पाचन क्रिया ठीक होती है|

मुंह के छाले:

एक गिलास पानी में 40 ग्राम सौफ उबाले| पानी आधा रह जाए तब भुनी फिटकरी जरा सी मिलाकर दिन में दो-तीन बार गरारे करने से मुंह के छाले ठीक हो जाते हैं|

बदहजमी:

एक चम्मच सौफ को पानी में उबालकर पानी को छानकर पिलाने से बदहजमी की शिकायत दूर होती है|

गर्भपात:

गर्भवती स्त्री यदि ६० ग्राम पीसी सौफ व ३० ग्राम गुलकंद पानी में मिलाकर प्रतिदिन सुबह-शाम सेवन करें तो गर्भपात नहीं होता|

मेदे की तकाद:

सुबह एक चम्मच सौंफ का चूर्ण सेवन करने से आमाशय की शक्ति प्राप्त होती है|

पागलपन:

250 मिली गाय के गर्म दूध में 75 ग्राम सौंफ का तेल मिलाकर पीने से गर्मी से होने वाला पागलपन दूर हो जाता है|

सीने का दर्द:

15 ग्राम सौफ, 5 ग्राम पीपल को एक गिलास पानी में, चौथाई पानी होने तक उबाले| छानकर पानी में एक चुटकी सेंधा नमक डालकर पीने से सीने का दर्द दूर हो जाता है|

अतिसार:

भुनी व कच्ची सौफ का समभाग चूर्ण दो चम्मच दिन में चार बार मट्ठे के साथ लेने से लाभ होता है|

चर्म रोग:

सौफ और धनिया समभाग पीसकर, डेढ़ गुना मिश्री मिला ले| 30 ग्राम की मात्रा सुबह-शाम सेवन करने से चर्म रोग नष्ट होता है|

जी घबराना:

जी घबराना या उल्टी होने पर सौफ और पुदीना पानी में उबालें| पानी आधा रह जाने पर दिन में तीन बार इसी प्रकार पानी तैयार करके पिलाए|

पेट का भारीपन:

नींबू के रस में भुनी सौफ भोजन के बाद खाने से पेट का भारीपन दूर होता है| सौंफ को भूनकर चबाने से पेट दर्द कम हो जाता है|

नेत्र-ज्योति:

सौफ को पीसकर समभाग खोड मिलाकर सोते समय गाय के दूध के साथ लेने से आंखों की रोशनी तेज होती है|

नाक से खून आना:

75 ग्राम सौंफ में 10 ग्राम धनिया 5 काली मिर्च पीसकर एक गिलास पानी में मिश्री का शरबत बनाकर मिला दे |दिन में 3 बार इस शर्बत का सेवन करने से नाक से खून गिरना बंद हो जाता है|

क्या आपको यह लेख पसंद आया ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here