loading...

शरीर में गर्मी तापमान अधिक होना घरेलु इलाज

शरीर में गर्मी तापमान अधिक होना घरेलु इलाज

शरीर में गर्मी

शरीर में गर्मी

शरीर में गर्मी बढ़ने का कारण :

 इस रोग को गर्मी के नाम से जाना जाता है। वैश्याएं अक्सर इस रोग से ग्रस्त रहती है। जिनके साथ संभोग करने या इस तरह के व्यक्ति के संपर्क में रहने, उसका झूठा भोजन करने, या उसके कपड़े पहनने से यह रोग होता है। इस रोग के लक्षण आमतौर पर चार पांच हफ्ते में प्रकट होती है।

शरीर में गर्मी के लक्षण :

पुरुष की जनन इंद्रिया के अग्रभाग पर चारों तरफ फुंसी उठाती है जो तीन चार दिन बाद फुंट जाती है तथा घाव हो जाता है। रोग के 3-4 सप्ताह बाद जांगो के जोड़ों में गांठ उठ जाती है। प्रारंभिक स्थिति के बाद तीन चार महीने में सारे शरीर पर छोटे छोटे दाने और लाल चकत्ते उठ जाते है। होठों पर घाव हो जाता है, हड्डियों में दर्द, गठिया, आदि शिकायतें पैदा हो जाती है और अंतः पीड़ित व्यक्ति अपाहिज हो जाता है।

शरीर में गर्मी का घरेलु उपचार :

  • नींबू: पानी में नीम की पत्ती उबालकर पोटेशियम परमैंगनेट का एक गाना घोल दे। इस पानी से घाव को दो तीन बार धो ले। इसके बाद और अरिठे का छिलका 50 ग्राम, 25 ग्राम सफेद कत्था, 15 ग्राम कलमी शोरा तथा तवे पर फुलाया 6 ग्राम नीला थोथा लेकर नींबू के रस में मिलाकर चने की आकार की छोटी छोटी गोलिया बनाले।  सुबह शाम एक एक गोली पानी के साथ लें। एक 2 महीने तक इस उपचार को अपनाने से काफी लाभ होता है।

पथ्य अपथ्य:

रोगी को संभोग बिल्कुल नहीं करना चाहिए। तले हुए, तेज मसालेदार पदार्थ, लाल मिर्च तथा गर्म प्रकृति के पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए। अगर रोगी संभोग करना चाहता है तो निरोध लगाकर करें। लेकिन जब तक संभव हो तब तक संभोग से दूर रहे। इससे रोग में काफी राहत मिलेगी।

ज्वर और उसके उपाय
पेशाब का रुकना कारण व इलाज उपचार.
देसी घरेलु उपाय हिंदी में जानकारी
पेट के रोग वशीकरण के उपाय
चेहरे की सुंदरता नौकरी लगने के टोटके
बालों का इलाज लड़की को पटाने के तरीके
 यौन रोगों का इलाज सपनो का अर्थ स्वप्नफल
प्रेगनेंसी की टिप्स खाने के फायदे
मासिक धर्म(पीरियड्स) दिमाग तेज कैसे करे?
 मोटापा कम करे भगवान की पूजा
 दांत के उपाय स्मोकिंग की आदत से छुटकारा
 बाबा रामदेव योगा लाल किताब के टोटके

Leave a Reply