तिल के गुण
फायदे और नुकसान

तिल के गुण हिंदी में

तिल के गुण

तिल के गुण
तिल के गुण

शीत ऋतु मे शारीरिक शक्ति जठराग्नि को जागृत करने के लिए तिल तेल का उपयोगी है | तिल देखने में बहुत छोटा परंतु शक्तिदायक वह पोष्टिक गुणों से भरपूर होता है |

तिल के घरेलू उपाय :

तो जानते है तिल के गुण : तिल पाचनक्रिया को ठीक करने वाला केशव के लिए हितकारी ,दुग्धवर्धक वर्ण सिखाने वाला , कब्ज व दांत दर्द दूर करने वाला भूख बढ़ाने वाला व स्त्री रोगों में लाभदायक होता है|

मुंहासे :

तिल को सिरस की छाल और सिरके के साथ चेहरे पर लगाने से मुंहासे ठीक होते हैं|

खुजली :

तिल के बीजों को पीसकर खुजली पर लगाने से लाभ होता है|

नागफनी का कांटा :

नागफनी का कांटा चुभने पर उस पर लगातर तिल का तेल लगाने पर काँटा गलकर बाहर आ जाता है|

रुसी :

तिल के पत्तों को पीसकर सिर पर लगाने से रुसी साफ होती है|

फोड़ा :

तिल पीसकर गोमूत्र में पकाकर फोड़े पर लगाने से फोड़ा बैठ जाता है|

अतिसार :

तिल के पत्तों के रस को पानी में मिलाकर पीने से अतिसार आमातिसार तथा मुत्र नली के रोगों में लाभ होता है|

मासिक धर्म विकार :

काले तिल व अजवायन का काढ़ा बनाकर उसमें पूराना गुड मिलाकर पीने से मासिक धर्म अधिक आना ठीक होता है, वह बंद मासिक धर्म आ जाता है|

शक्तिवर्धक :

काले तिल , अजवायन , सौंठ व नारियल कूटले| इन्हें चबाकर खाने से प्रसूता स्त्री में नारी शक्ति का संचार होता है|

झाइयों  का इलाज :

तिल को पीसकर चेहरे पर लेप लगाने से झाइया दूर होती है|

वायुशूल :

तिल ,सौंठ व अखरोट की गिरी 4:1:2 के अनुपात में कूदकर पानी मिलाकर पीने से वायु का दर्द ठीक होता है|

सुझाव :

तिल के ताजा पत्तों को 12 घंटे पानी में भिगोकर रखें| इस पानी को रोगी को पीलाने से लाभ होता है |

जोड़ो का दर्द :

तिल का तेल लगाने से जोड़ों का दर्द ठीक होता है|

आग से जलना :

तिल को पानी में पीसकर जले पर लेप लगाने से जलन शांत होती है|

मोच :

तिल को पानी के साथ पीसकर गर्म करके मोच पर लगाने से दर्द दूर होता है|

दुर्बलता :

हर रोज तिल के लड्डू खाने से शरीर की दुर्बलता दूर होती है|

गर्भाशय की सफाई :

प्रसव के बाद यदि गर्भाशय ठीक से साफ न हुआ हो तो एक चम्मच तिल का गर्म दूध के साथ कुछ दिनों तक सेवन करने  से लाभ होता है|

घाव :

तिल को पीसकर घाव पर लगाने से कुछ ही दिनों में घाव ठीक हो जाता है|

बिस्तर में मूत्र :

जो बच्चे बिस्तर गीला करते हो उन्हें सोते समय 10-15 रेवडिया का एक तिल का लड्डू खिलाने से लाभ होता है|

दंतरोग :

तिल को चबाकर खाने से दांत मजबूत होते हैं|

सोयाबीन के फायदे हिंदी में.
मूंगफली के गुण हिंदी में.
कैसे करे
दोस्तों हम सभी जानकारी केवल आपके लिए ही दे रहे है , आप हमें सहायता करेंगे और आपका साथ हमेशा देंगे इसकी उम्मीद करते है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *