तुलसी का काढ़ा कैसे बनाया जाता है ? जानिये तुलसी के काढ़े को पिने से क्या फायदे होते है ?

तुलसी का काढ़ा 5000 सालों से ऋषि मुनि लोग सेहत का स्वास्थ्य बरकरार रखने के लिए इसका सेवन करते थे, यह एक आयुर्वेदिक काढ़ा की तरह काम करता है | इस तुलसी का आयुर्वेदिक काढ़े का इस्तेमाल अगर आप करते हो तो आपको सर्दी बीमारी जैसी समस्याओं से छुटकारा मिल जाता है |

आजकल के इस तनाव पूर्वक जीवन में हमें अपनी सेहत की तरफ ज्यादा ध्यान देने का समय नहीं होता है और कुछ दिनों बाद हमें हलकी सी थकान महसूस होने लगती है और हमारा जीवन एकदम सा रुक जाता है, इसके कारण हमें डॉक्टर की सहायता लेनी पड़ती है, यदि आप तुलसी का काढ़ा का नियमित सेवन करते हो तो आपको डॉक्टर की जरूरत कभी नहीं पड़ेगी क्योंकि यह एक नेचुरल और आयुर्वेदिक तरीके का अमृत है |

जब भी हमें और छोटे बच्चे में आपको सर्दी जुकाम के शुरुआती लक्षण दिखाई देते हैं और हम इसका सेवन करने लगते हैं, तो हमें सर्दी जुकाम से पहले ही राहत मिल जाती है | तो आइए जानते हैं क्या है इस तुलसी के गाड़ी के और महत्व और कैसे इसे बनाते हैं |

तुलसी का काढ़ा बनाने के लिए क्या सामग्री लगती है ?

Tulsi ka kadha banane ke Ingrediants:

  • २-३ तुलसी के पत्ते साफ किए हुए |
  • १/४ या १/८ हरे चाय की पत्ती छोटे छोटे टुकड़ो मे कटी हुई |
  • आधा पीस अद्रक का यानिकी २५ एमेम
  • १- १/४ गिलास पानी
  • ३/४ चम्मच जॅगरी मतलब गुल |

तुलसी का काढ़ा कैसे बनाते है ?

  • सबसे पेहेले तुलसी के पत्ते अद्रक और हरे चाय की पत्ती अच्छी तरह से धो ले |

    tulsi kadha in hindi
    tulsi kadha in hindi
  • अब आपको पानी को एक बर्तन मे लेकर उसे गॅस की आँच पर उबाल ले |

    tulsi ki chai in hindi
    tulsi ki chai in hindi
  • पानी जब उबलने लगेगा तब उस मे तुलसी के पत्ते ,हरी चाय की पत्तिया और आद्रक के छोटे टुकड़े उसमे डाल दे |

    basil leaves kadha ayurvedic
    basil leaves kadha ayurvedic
  • ३-४ मिनिट के बाद उस आयुर्वेदिक काढ़े मे गुल मिक्स कर दे |
    jaggery gur
    jaggery gur

    अच्छी तरह उसको मिक्स करने के बाद गॅस को बंद करदे |

  • इस काढ़े को एक मिनिट वैसे ही रेहेने दे | और इसको एक अच्छे ग्लास मे छान ले |

लो दोस्तो आपका आयुर्वेदिक तुलसी के पत्तो का काढ़ा तैयार है |

तुलसी का काढ़ा पीने के फायदे :

तुलसी का काढ़ा पीने के फायदे
तुलसी का काढ़ा पीने के फायदे

दोस्तों जैसे कि हमने आपको बताया तुलसी का इस्तेमाल हमारे शरीर के लिए बहुत ही लाभदायक है, ठीक इसी तरह तुलसी का काढ़े का रस पीने से हमें स्वास्थ्यवर्धक लाभ मिलते |

  • त्वचा के रोगो को दूर करती है |
  • दिल की बीमारी के लिए सेहतमंद है |
  • बॉडी का थकान दूर करने मे मदत करता है |
  • मायग्रैन जैसी समस्या के लिए फ़ायदेमंद है तुलसी का काढ़ा |
  • रोजाना एक चम्मच शहद के साथ तुलसी के काढ़े का सेवन करने से आप की पथरी की समस्या दूर होने लगती है |
  • तुलसी में थाइमोल मौजूद होने के कारण यदि आप इसका सेवन करते हो, तो आपको बरसात के मौसम में और सर्दी के मौसम में अपनी त्वचा की देखभाल करने की जरूरत नहीं है क्योंकि यह काढा आपकी त्वचा को तरोताजा रखता है |
  • अगर आपको कोलेस्ट्रॉल की समस्या है, तो यह कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए भी बहुत ही लाभकारी है |
  • अगर आप तुलसी के पत्तों के काढ़े में थोड़ा सा सेंधा नमक मिलाते हैं और इसका सेवन करते हैं, तो इससे आपका फ्लू रोग जल्दी ही ठीक होने लगता है | आमतौर पर डॉक्टर लोग भी तुलसी के काढ़े का सेवन करने का सलाह देते हैं |
  • गले में खराश होने की समस्या से निजात पाने के लिए आप तुलसी के काढ़े का सेवन कर सकते हो |
  • ठंड के दिनों में सर्दी होना और जुकाम होना आम बात है, इस समय यदि आप इस काढ़े का सेवन करते हो तो आपको बहुत ही राहत मिलती है |
  • यदि आपको सांस लेने में परेशानियां हो रही है, तो आप इस काढ़े का सेवन कर सकते हो |
  • तनाव से छुटकारा पाने के लिए और इससे दूर रहने के लिए यह काढ़े का रस आपके लिए बहुत ही लाभदाई है |
  • अपने शरीर में होने वाले रोग से बचाने वाले रोग निरोधक शक्ति को यह बढ़ाने में सहायता करता है |
तुलसी का काढ़ा कैसे बनाया जाता है ? जानिये तुलसी के काढ़े को पिने से क्या फायदे होते है ?
4 (80%) 1 vote
Download Best WordPress Themes Free Download
Download Nulled WordPress Themes
Download Best WordPress Themes Free Download
Download WordPress Themes
online free course
download xiomi firmware
Download WordPress Themes Free
online free course

2 Comments

  • Avatar

    thank you sir, aapke is article se mujhe kafi madad mili, kafi achhe se aur asan tarike se apne sab describe kiya he,

  • Avatar

    very nice

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *