कैसे करे

Kaise Kare in Hindi

मासिक धर्म क्यों बंद होता है और इस समय में इतना दर्द क्यूँ होता है ? जाने पीरियड्स में दर्द का घरेलु इलाज

(Last Updated On: September 29, 2018)

मासिक धर्म के समय दर्द होना मासिक धर्म में देरी होना मासिक धर्म का न आना और मासिक धर्म का बंद हो जाना ऐसे कई सरे माहवारी के बारेमे उपाय घरेलु नुस्खे के बारेमे जानकारी हिंदी में|

मासिक धर्म में दर्द की जानकारी

मासिक धर्म फोटो

मासिक धर्म फोटो

English name : Menstural Cycle or MC ,period Problems|

loading...

Hindi name : मासिक धर्म,पीरियड समस्या ,माहवारी ,रजोधर्म

marathi name : मासिक पाळी ,मासिक चक्र |

मासिक धर्म क्या होता है ?

मासिक धर्म क्या होता है

मासिक धर्म क्या होता है

10 से 15 साल की उम्र के लड़की के अंडाशय में हर महीने एक विकसित डिम्ब (अण्डा) उत्पन्न करना शुरू कर देता हैं यही अंडा अण्डवाहिका नली (फैलोपियन ट्यूव)से नीचे जाता है यही नली अंडाशय को गर्भाशय से जोड़ती है और जब वो अंडा गर्भाशय में पहुंचता है तब उसका भाग रक्त और अन्य तरल पदार्थ से गाढ़ा हो जाता है , बच्चे के जन्म के लिए उसके भाग में विकसित हो सकता है और यदि उस डिम्ब का पुरूष के वीर्य से ना मिले तो वह रक्तस्राव बन जाता है जो कि योनि की मदत से बहार निकलता है और उसी खून के स्राव को पीरियड या मासिक धर्म, रजोधर्म या माहवारी (Menstural Cycle or MC) कहते हैं|

मासिक धर्म के समय का दर्द क्या होता है ?

मासिक धर्म के समय का दर्द क्या होता है

मासिक धर्म के समय का दर्द क्या होता है

आमतौर पर महिलाओं को मासिक धर्म के आने से पहले कुछ दिनों पहले पेट के निचले वाले हिस्से में दर्द होने लगता है और इसी दर्द को मासिक धर्म का दर्द कहा जाता है | कई बार यह दर्द महिलाओं को असहनीय होता है और इसलिए कारण महिलाओं का मूड ठीक नहीं रहता है|

तो आज हम जानेंगे मासिक धर्म के समय दर्द का कारण क्या है और इस दर्द से छुटकारा कैसे पाया जाता है, महिलाओ के पीरियड समस्या की जानकारी हर लडके लडकियों को पता होनी चाहिए|

अनियमित माहवारी के कारण क्या है ?

अनियमित माहवारी के कारण

अनियमित माहवारी के कारण

जब पीरियड समस्या अनियमित रूप में जल्दी-जल्दी होता है तो उसके कुछ कारण हो सकते है जैसे कीअण्डकोष की पुष्टि होने से भी जल्दी जल्दी मासिक धर्म आता है |कई बार अनियमित पीरियड कारण पता नहीं चलता तब इसलो महिला को अपक्रियात्मक गर्भाषय रक्तस्राव है कहा जाता है|महिला के योनी में पीड़ा यानिकी योनी में दर्द होता है और बार बार जल्दी रक्त स्राव (खून निकलना) होता है|
दबाव के कारण भी ऐसा होता है |

मासिक धर्म के समय दर्द होने का प्रमुख कारण क्या है ?

मासिक धर्म के समय दर्द होने का प्रमुख कारण

मासिक धर्म के समय दर्द होने का प्रमुख कारण

  • मासिक धर्म में आने वाली समस्याएं महिलाओं के प्रजनन तंत्र पर भी निर्भर करती है, क्योंकि गर्भाशय के बाहर गर्भाशय का उत्तक मौजूद होना भी मासिक धर्म का कारण हो सकता है |
  • अगर किसी महिला के प्रजनन अंगों में संक्रमण हुआ है, तो उस महिला को मासिक धर्म में ज्यादा दर्द होता है |
  • अंडाशय में गांठ होने के कारण भी मासिक धर्म में दर्द ज्यादा होता है |
  • महावारी के समय दर्द का प्रमुख कारण संकुचित गर्भाशय ग्रीवा भी होता है, इसके कारण भी महावारी के समय ज्यादा दर्द होने लगता है|

पीरियड के समय दर्द होने के लक्षण क्या है ?

पीरियड के समय दर्द होने के लक्षण

पीरियड के समय दर्द होने के लक्षण

अगर आपको पीरियड के समय दर्द हो रहा है, तो आपको कुछ लक्षण दिखाई देंगे | अगर आप इन लक्षण को ठीक तरह से पहचानते हैं, तो आपको इस से राहत पाने का इलाज भी मिल जाएगा |

  • माहवारी में दर्द का प्रमुख लक्षण है पेट के निचले वाले हिस्से में दर्द होना |
  • पीरियड्स आने से पहले महिलाओं के पैरों में दर्द होने लगता है |
  • कई सारी महिलाओं का जी मचलने लगता है |
  • उल्टी दस्त सिर दर्द ऐसी कई सारी परेशानियों का सामना हमें करना पड़ सकता है |
  • अगर महिला पतली है और उसने ताकत की कमी है तो उस महिलाओं को कमजोरी आ सकती है और कई सारी महिलाओ में ऐसा पाया गया है, कि वह बेहोश हो जाती है |

मासिक धर्म के समय दर्द के घरेलू उपाय :

मासिक धर्म के समय दर्द के घरेलू उपाय

मासिक धर्म के समय दर्द के घरेलू उपाय

खाने पर ध्यान रखना जरुरी है:

खाने पर ध्यान रखना

खाने पर ध्यान रखना

अगर आपको पीरियड के समय पर दर्द ज्यादा होता है तो इसका मतलब ये भी हो सकता है की आपने पिछले मासिक धर्म के दौरान अपने खाने पिने पर ध्यान नहीं रखा है ऐसा भी हो सकता है | आपको मासिक धर्म का बंद होने से बचने के लिए मासिक चक्र नियमित करने वाले फलो और सब्जियों को खाना चाहिए जैसे की अजवाइन की पत्तियाँ ,दूध के साथ बादाम , जीरा, सुगन्धित सौंफ़ ,मेथी के बीज ,औषधीय तुलसी ऐसे चीजों का इस्तमाल करना चाहिए|

गरम पानी से नहाना चाहिए:

गर्म पानी से नहाना

गर्म पानी से नहाना

अगर आपके पीरियड में खून निकलने से दर्द हो रहा है या नहीं निकर रहा है तो आपको गरम पानी से नहाना सबसे बेहतर तरीका है मासिक धर्म दर्द कम करने के लिए| गरम पानी से नहाने से आपके योनी से खून रक्त निकलने में तकलीफ नहीं होती है क्यूँकी गरम पानी से नहाने से आपके बॉडी का तापमान बढ़ता है इससे आपको माहवारी में दर्द कम होता है और तकलीफ भी नहीं होती है|

पानी का सेवन ज्यादा करे:

पानी का सेवन ज्यादा करे

पानी का सेवन ज्यादा करे

माहवारी में आराम पाने के लिए गुनगुना पानी यानि गरम पानी पीना चाहिए| इसके अलावा आप ग्रीन टी को पिने से इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स आपके बॉडी में चर्बी कम करने में मदत करती है|

पेट पर मालिश कर सकते है:

पेट पर मालिश

पेट पर मालिश

पेट के ऊपर हलके हाथो से मसाज करने के तेल को गरम करके मालिश करने से आपके योनी के ऊपर मालिश कर सकते हो ऐसा करने से सुजन कम होने में मदत होती है|

मासिक धर्म में दर्द हो रहा है, तो इसका इलाज क्या है ?

मासिक धर्म में बहुत दर्द हो रहा है तो आपको कुछ इलाज करना चाहिए जैसे कि –

मासिक धर्म में दर्द हो रहा है

मासिक धर्म में दर्द हो रहा है

  • महावारी के समय पेट के निचले हिस्से में दर्द हो रहा है तो आपको पीठ और पेट को निचले हिस्सों में अच्छी तरह से मसाज करना चाहिए, हो सके तो आप अपनी किसी नजदीकी व्यक्ति से मसाज करवा सकते हो |
  • अगर महिलाएं अपनी सेहत की तरफ अच्छी तरह से ध्यान देती है और रोजाना विटामिन b1 और कैल्शियम जैसी गोलियों का डॉक्टर की सलाह से सप्लीमेंट लेती है, तो उन्हे पीरियड्स में ज्यादा दर्द नहीं होता है |
  • पीरियड्स आने से पहले अगर आप रोजाना कुछ समय तक योग क्रिया और व्यायाम करती है, तो पीरियड्स में आपको दर्द नहीं होता है |
  • महिलाओं को नहाते समय हल्के गुनगुने पानी से नहाना चाहिए जिससे कि हमारे शरीर का तापमान संतुलित रहता है और हमारा शरीर का फैलाव अच्छी तरह से हो सकता है | इसीलिए महिलाओं को दिन में से दो से तीन बार गुनगुने पानी से नहाना चाहिए |
  • पीरियड्स के दर्द से छुटकारा पाने के लिए महिलाओं को अपने शरीर को जैतून का तेल से या नारियल का तेल से मालिश करनी चाहिए, जिससे उन्हें आराम महसूस होता है |
  • अधिक मात्रा में पानी का सेवन करना महिलाओं के लिए लाभदाई होता है, इसीलिए महिलाओं को पीरियड्स आने से पहले गुनगुने पानी का सेवन करना चाहिए |

माहवारी में पेट दर्द का आयुर्वेदिक इलाज कैसे किया जाता है ?

माहवारी में पेट दर्द का आयुर्वेदिक इलाज

माहवारी में पेट दर्द का आयुर्वेदिक इलाज

  • ज्यादातर महिलाएं पीरियड्स में दर्द होने की समस्या से छुटकारा पाने के लिए आयुर्वेदिक दवा या फिर से छुटकारा पाने के लिए पतंजलि रामबाण दवा के बारे में खोजती रहती है, इसीलिए आपको पीरियड्स में दर्द का इलाज करने के लिए, आप एक चम्मच पतंजलि शहद में एक चम्मच हल्दी पाउडर लेकर उसमें थोड़ा सा जीरा मिला लें और इस मिश्रण में एक गिलास गुनगुना पानी डाल दे और इस मिश्रण को अच्छी तरह से उबालें जब तक यह गाढ़ा होने लगता है, तब गाढ़ा होने के बाद आप इसे एक कप में डालकर इसका सेवन कर ले |

अगर आप इस आयुर्वेदिक मेडिसिन को दिन में से दो से तीन बार पीती है तो आपको पीरियड्स में पेट दर्द की समस्या से आयुर्वेदिक तरीके से छुटकारा मिल जाएगा |

पीरियड्स में ज्यादा दर्द हो रहा है, तो क्या करें ?

पीरियड्स में ज्यादा दर्द हो रहा है

पीरियड्स में ज्यादा दर्द हो रहा है

  • अगर आपको पीरियड के दौरान अधिक मात्रा में दर्द हो रहा है, तो आपको एक चम्मच हल्दी का पाउडर एक गिलास दूध के साथ मिलाकर पीना चाहिए | क्योंकि हल्दी का सेवन करने से हमारे शरीर में गर्मी बढ़ने लगती है जिससे हमें हमारे शरीर में गर्माहट पैदा होने लगती है और यह पीरियड्स के दौरान बहुत फायदेमंद है, इसीलिए आपको हल्दी का पाउडर गरम दूध के साथ लेना चाहिए इससे आपकी पीरियड्स के दौरान ज्यादा दर्द हो रहा है कि समस्या से छुटकारा मिल जाएगा |

अनियमित पीरियड्स के लिए घरेलु नुस्खे

loading...

The Author

कैसे करे

कैसे करे

दोस्तों हम सभी जानकारी केवल आपके लिए ही दे रहे है , आप हमें सहायता करेंगे और आपका साथ हमेशा देंगे इसकी उम्मीद करते है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कैसे करे © 2018