Home » सेक्स लाइफ » महिलाओं के पीरियड्स » पीरियड प्रॉब्लम सलूशन Period Problem Solution in Hindi

पीरियड प्रॉब्लम सलूशन Period Problem Solution in Hindi

Period problem solution in hindi

आज हम आपको मासिक धर्म के दौरान क्या समस्या आती है ? और इस पीरियड प्रॉब्लम का सलूशन कैसे निकाला जाता है ? इस विषय में जानकारी देने वाले हैं |

पीरियड प्रॉब्लम क्या होते हैं ? यह जानने से पहले आपको मासिक धर्म क्या होता है ? यह जानना बहुत जरूरी होता है | देखा जाए तो जब लड़की एक महिला बनने जाती है तब उसके शरीर में बदलाव आना शुरू हो जाते हैं | सबसे बड़ा बदलाव तो यह होता है कि उसे अपना मासिक धर्म आना शुरू हो जाता है |

मासिक धर्म मतलब एक ऐसा चक्र शुरू हो जाता है जिस समय महिला के गर्भाशय के ऊपर कोशिकाओं की परत आना शुरू हो जाती है और महिला के शरीर में अंडे विकसित होना शुरू हो जाते हैं | यदि पुरुष का शुक्राणु का महिला के अंडो के साथ मिलन होता है, जब महिला के पेट में गर्भ विकसित होता है और यदि शुक्राणु का मिलन नहीं होता है तो वह अंडे फ़र्टिलाइज़ होकर महिला की योनि से बाहर निकलने लगते हैं जिन्हें हम मासिक धर्म का खून कहते हैं और इसे पीरियड कहा जाता है |

हर महिला को हर महीने मासिक धर्म आता है | किसी महिला को मासिक धर्म का आना शुरू हो जाना मतलब वह महिला गर्भवती होने के लिए तैयार है ऐसा माना जाता है |

पीरियड्स में क्या समस्याएं आती है ?

पीरियड्स में क्या समस्याएं आती है
पीरियड्स में क्या समस्याएं आती है

अक्सर महिलाओं को मासिक धर्म शुरू होने के समय या शुरू होने के बाद कई सारी समस्याओं से सामना करना पड़ता है | जब लड़की के पीरियड पहली बार आना शुरू हो जाते तब उसे अपने शरीर में दर्द महसूस होता है और तरह तरह की फीलिंग आने लगती है जैसे कि शरीर में थकान होना ना कमजोर महसूस करना या चिड़चिड़ापन महसूस करना | मासिक धर्म के शुरुआती दिनों में शरीर में बहुत दर्द होता है जिसे हम मेंस्ट्रूअल क्राइम भी कहते हैं | मासिक धर्म के दर्द के समय महिला के कमर में दर्द और पेट में दर्द ऐसी समस्याएं होने लगती है |

हर महिला को मासिक धर्म नियमित आना जरूरी होता है यदि उसका मासिक धर्म का चक्र में थोड़ा सा भी बदलाव आने लगता है तब उसे गर्भवती होने के लिए या फिर अपने रोजमर्रा के काम करने के लिए बहुत परेशानी होती है |

पीरियड में महिला को कोई प्रॉब्लम आते हैं जैसे कि –

  • मासिक धर्म जल्दी आना |
  • मासिक धर्म का देर से आना |
  • पीरियड में अधिक खून निकलना |
  • पीरियड में कम खून निकलना |
  • मेनोपॉज होना |
  • पीरियड में दर्द महसूस होना |

ऐसे कई सारे पीरियड प्रॉब्लम्स महिलाओं को आते हैं | अब हम देखते हैं कि इस पीरियड प्रॉब्लम का सलूशन क्या है ? |

मासिक धर्म जल्दी आना :

मासिक धर्म जल्दी आना

आमतौर पर महिलाओं को हर महीने मासिक धर्म आता है | मासिक धर्म कालचक्र 21 से 35 दिनों के बाद का होता है, और यह होना भी चाहिए | अक्सर महिलाओं को समय से पहले मासिक धर्म आने की समस्या होने लगती है और इसी समस्या के कारण उन्हें बच्चा पैदा करने में भी परेशानियां होती है |

कई लड़कियां बार बार मासिक धर्म आने की वजह से अपने पढ़ाई पर अच्छे से ध्यान नहीं दे पाती और उन्हें अपना रोजमर्रा का काम करने में भी तकलीफ होती है |

पीरियड जल्दी आने के कारण क्या है ?

पीरियड जल्दी आने के कारण

महिलाओं को अनियमित मासिक धर्म की समस्या होती है और यह समस्याएं उनको अक्सर :

  • हार्मोन में बदलाव की वजह से होती है |
  • तबीयत खराब होने की वजह से |
  • अधिक गोलियों का सेवन करने की वजह से |
  • मेनोपॉज का समय करीब आने की वजह से |
  • अधिक एक्सरसाइज करने की वजह से |
  • आप अपनी सेहत और खानपान पर ध्यान रखने की वजह से |
  • किसी चीज का अधिक तनाव लेने की वजह से |
  • अचानक से वजन बढ़ने के कारण और कम होने के कारण |
  • ज्यादा मात्रा में यात्रा होने की वजह से |
  • गर्भनिरोधक गोली का सेवन करने की वजह से |

यदि आप ऊपर दिए हुए किसी भी चीज को अधिक मात्रा में कर रहे हो तो इससे आपका पीरियड्स आने में जल्दी हो सकती है |

मासिक धर्म का देरी से आना :

मासिक धर्म का देरी से आना

महिलाओं को हर महीने मासिक धर्म आना चाहिए और यदि लड़की का मासिक धर्म का चक्र 35 दिनों के ऊपर देरी से आ रहा है तो मैं इसका मतलब यह हो रहा है कि उस महिला का मासिक धर्म देरी से आ रहा है | मासिक धर्म का देरी के आने की वजह से महिलाओं को मेंस्ट्रूअल क्राइम्स की समस्या होती है |

अधिक दिनों तक पेट में और कमर में दर्द होने की वजह से वह अपना काम ठीक से नहीं कर पाती |

पीरियड मिस होने के कारण क्या है ?

पीरियड मिस होने के कारण क्या है

जब आपके शरीर में अचानक से बदलाव महसूस होने लगता है, तो आपके हारमोंस में बदलाव आने लगता है इसी वजह से महिला के पीरियड मिस होते हैं |

जानिए पीरियड मिस होने के कारण क्या हो सकते ?

  • प्रेग्नेंट होने की वजह से पीरियड मिस होते हैं |
  • शरीर का वजन अचानक से कम होना |
  • शरीर का वजन अचानक से बढ़ना |
  • अधिक एक्सरसाइज करने की वजह से |
  • पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम की वजह से |
  • गर्भनिरोधक गोली का सेवन करने से |
  • अलग-अलग बीमारी की वजह से |
  • मेनोपॉज नजदीक आने की वजह से |
  • थायराइड की समस्या के कारण |

यदि आपको ऊपर में से किसी भी लक्षण अपने शरीर पर दिखाई दे रहे हैं तो इसका मतलब यह है कि आपका मासिक धर्म देरी से आने का कारण वही है |

अगर आपको मासिक धर्म से देरी की आने की समस्या से बचना है और इस पीरियड प्रॉब्लम का सलूशन चाहिए तो आप पीरियड मिस होने के कारण ध्यान से समझने हैं और उन चीजों से दूर रहना है |

मेनोपॉज होना :

मेनोपॉज होना
मेनोपॉज होना

जब महिला की उम्र 45 से 55 साल तक होती है तब उसका मासिक धर्म आना बंद हो जाता है और इससे आसान भाषा में मेनोपॉज कहा जाता है | मेनोपॉज आने के कुछ महीनों पहले महिलाओं को पीरियड्स अनियमित आना शुरू हो जाते हैं कभी कबार पीरियड्स में अधिक खून निकलता है तो कभी कब पीरियड में कम खून निकलता है | मेनोपॉज होना यह बिल्कुल नेचुरल क्रिया है, इसीलिए हम इस क्रिया के अंदर कुछ बदल नहीं कर सकते |

मेनोपॉज होने के कारण पीरियड्स आना बंद हो जाते हैं और मेनोपॉज होने के बाद महिला को कभी प्रेग्नेंट होने का खतरा नहीं होता है |

हल्के पीरियड आना :

हल्के पीरियड  आना
हल्के पीरियड आना

अक्सर लड़कियों में हल्के पीरियड आने की समस्या पाई जाती है क्योंकि हल्के पीरियड आने की वजह से उन्हें मासिक धर्म के बाद राहत नहीं मिलती है और बार बार उनका पेट दर्द होने लगता है | हल्के पीरियड आने की प्रॉब्लम की वजह से उन्हें गर्भवती होने में भी समस्या होती है |

देखा जाए तो जब लड़की को शुरुआती दिनों में पीरियड आना शुरू हो जाते हैं तब उसे कम ब्लीडिंग होता है, और यहां होना आम बात है इसीलिए शुरुआती दिनों में अगर आप को कम खून निकलने की समस्या आ रही है तो आप को डरने की जरूरत नहीं है |

पीरियड नियमित तरीके से आने के बाद कम बिल्डिंग की समस्या हो रही है तो यह हार्मोन बदलाव की वजह से होती है इसलिए डॉक्टर की सलाह लेनी आवश्यक है |

पीरियड में अधिक खून निकलना :

पीरियड में अधिक खून निकलना

हर लड़की को या महिला को पीरियड की परेशानी होती है और पीरियड कोई बीमारी नहीं है | मासिक धर्म के दौरान महिलाओं को दर्द अधिक होने की वजह से वह परेशान रहती है | और यदि इस समय अधिक खून निकलने की समस्या जाने की हेवी ब्लड फ्लो की समस्या हो जाए तो वह बिल्कुल कमजोर महसूस करती |

पीरियड में हैवी ब्लड फ्लो होने के कारण क्या है ?

पीरियड में हैवी ब्लड फ्लो होने के कारण
पीरियड में हैवी ब्लड फ्लो होने के कारण
  • महिलाओं के शरीर में एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन हार्मोन में असंतुलन आने की वजह से एबी ब्लड फ्लो की समस्या होती है |
  • गर्भनिरोधक गोली का अधिक मात्रा में सेवन करने ज्यादा ब्लड फ्लो की समस्या होती है |
  • प्रेगनेंसी के बाद मिसकैरेज हो जाने के कारण यह होता है |
  • वजाइना में इंफेक्शन होने की वजह से |
  • ओवरी का कैंसर होने की वजह से भी यह होता है |
  • गर्भाशय में गांठ बनने की वजह से यह हो सकता है |

पीरियड्स के दौरान ज्यादा ब्लीडिंग होने से रोकने के लिए क्या करें ?

पीरियड्स के दौरान ज्यादा ब्लीडिंग
पीरियड्स के दौरान ज्यादा ब्लीडिंग

यदि आपको मासिक धर्म के दौरान अधिक खून निकलने की समस्या हो रही है तो आप इस पीरियड प्रॉब्लम का सलूशन घरेलू तरीके से कर सकते हो | इसके लिए आपको –

  1. बर्फ के टुकड़े से सिकाई करना चाहिए |
  2. धनिया के बीज का पाउडर बनाकर एक गिलास पानी के साथ सेवन करें |
  3. रोजाना दो चम्मच सेब का सिरका पानी के साथ सेवन करना चाहिए |
  4. अपने खान-पान की तरफ ध्यान रखना बहुत जरूरी होता है इसलिए खाने में आयरन युक्त डाइट का सेवन करें |

 पीरियड में पेन होने का प्रॉब्लम सलूशन :

पीरियड में पेन होने का प्रॉब्लम सलूशन

अक्सर महिलाओं को पीरियड आने के शुरुआती दिनों में और पीरियड आने के बाद कमर में दर्द होने लगता है और पेट में दर्द भी होता है |

लड़की का पीरियड आना शुरू हो जाता है तब शुरुआती दिनों में एक या दो साल तक उससे अधिक दर्द होता है, इसे डिसमैनरिया कहा जाता है |

पीरियड में दर्द होने से बचने के लिए क्या करना चाहिए ?

पीरियड में दर्द होने से बचने के लिए
  • मासिक धर्म में होने वाले दर्द को कम करने के लिए खानपान की तरफ ध्यान रखना जरूरी है |
  • हर्बल टी का सेवन करना फायदेमंद होता है |
  • विटामिन b1 का सेवन और फिश ऑयल का सेवन करना चाहिए |
  •  एक्यूपंक्चर का इस्तेमाल कर सकती हो|
  • पतंजलि त्रिफला चूर्ण का सेवन करके दर्द से राहत मिल सकती है |

तो दोस्तो यह था पीरियड में दर्द का प्रॉब्लम सलूशन इन हिंदी |

नार्मल पीरियड्स होने के लिए क्या करना चाहिए ?

नार्मल पीरियड्स होने के लिए क्या करना

यदि आपको मासिक धर्म के समय अधिक खून निकलना, कम खून निकलना , पेट में दर्द, कमर में दर्द जैसे प्रॉब्लम सॉल्यूशन चाहिए तो आपको कुछ बातों का ख्याल रखना चाहिए | जैसे कि –

  1. पीरियड शुरू होने के बाद अपनी मां से बात करना चाहिए |
  2. अपनी सेहत की तरफ ध्यान रखना बहुत जरूरी होता है |
  3. पीरियड में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए इस बात का ख्याल रखना चाहिए |
  4. पीरियड आने से पहले और पीरियड आने के बाद पानी का अधिक मात्रा में सेवन करना चाहिए |
  5. मासिक धर्म के दौरान हाइजीन पर ध्यान रखना बहुत जरूरी होता है |
  6. मासिक धर्म के दौरान किसी भी चीज का नशा नहीं करना है |
  7. अपने वजन की तरफ ध्यान रखना जरूरी है |
  8. बाहर का तला हुआ खाना खाना नहीं चाहिए |
  9. किसी भी चीज का तनाव हो रहा है तो उसे तुरंत कम कर लेना चाहिए |
  10. पीरियड के दौरान यौन संबंध नहीं बनाना चाहिए |
  11. ठंडी में गाजर का रस पीने से मासिक धर्म समय पर आता है |
  12. मासिक धर्म टाइम पर आने के लिए कच्चा पपीता खाने चाहिए और इसे खाने से प्रेगनेंसी से भी मुक्ति मिलती है |
  13. कम समय में जब हमारा वजन बढ़ जाता है , तो आपकी मासिक धर्म में फरक पड़ता है
    और इससे मासिक धर्म देर से आता है | इसलिए हम अपना स्वास्थ्य का ध्यान रखना चाहिए |
  14. अंगूर का रस रोज पीने से अनियमित आने वाली मासिक धर्म से मुक्ति मिलती है |
  15. गरम और मसालेदार चीज़े कम खाए |
  16. चुकंदर और गाजर का रस पिने से पीरियड्स में राहत मिलती है |
  17. २-३ अंजीर पानी में उबाल क्र लीजे और उसका पानी पिए |
  18. दालचीनी का पाउडर और नींबू का रस एक साथ मिलाकर पिए इससे आराम मिलेगा |
  19. एलोवेरा का जूस और कच्चा पपीता पीने से दर्द काफ लाभदायक होता है |
  20. तिल का पाउडर दिन में दो बार खाइए |
  21. मासिक चक्र शुरू होने के एक हफ्ते सौंफ खाइए इससे मासिक धर्म टाइम पर आता है |
  22. मासिक धर्म शुरू होने के हफ्ते पहिले आलू , पिला मीट , बैंगन और पिला कद्दू ना खाए |
  23. मासिक धर्म के आखरी चक्र में कब्ज पैदा करने वाले पदार्थ से दूर रहे और फ्राइड फ्रूट , प्रोटीन से भरी दालों , खट्टे खाद्य पदार्थो का सेवन से दूर रहे |
  24. मासीक धर्म समय पर लाने के लिए गुड में जीरा पाउडर और तिल के बिज को एक साथ मिलाकर खाए |
  25. तुलसी के पत्ते और थोडा सा अदरक और ४-५ को मिलाकर चाय बनाकर पिए पीरियड्स में दर्द कम होता है |
  26. नियमित व्यायम करना चाहिए इससे अपना शरीर का तापमान कंट्रोल में रहता है और इससे मासिक धर्म नियमित आता है और दर्द भी कम होता है |
  27. सौंफ एक ग्लास पानी में उबालकर पीने से पीरियड्स में दर्द कम होता है|
  28. जब पीरियड्स आया हो तो गरम पानी से नहाना चाहिए , इससे दर्द कम होता है और स्त्राव बढ़ता है |
  29. पीरियड्स आने पर अंडे और मछली खाने से लाभ मिलता है |
  30. अननस खाने से भी आराम मिलता है |
  31. सुबह बिस्कुट और ब्रेड ना खाए इसके बदले तिल और गुड खानेसे नियमित पीरियड्स आते है और एनर्जी मिलती है |
  32. लौकी का जूस और बीट खाने से पीरियड्स में आरम दिलाता है |

दोस्तों यह था पीरियड प्रॉब्लम सलूशन इन हिंदी | अगर आपको कुछ सवाल अपने मन में आ रहे हैं तो आप नीचे कमेंट में लिख कर पूछ सकते हैं |

1 thought on “पीरियड प्रॉब्लम सलूशन Period Problem Solution in Hindi”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!