बच्चा कैसे पैदा करे सही तरीका (पुत्र प्राप्ति करना)

आज हम आपको बच्चा पैदा कैसे करें के बारे में जानकारी देने वाले हैं | बहुत सारे कपल्स ऐसे होते हैं जो शादी करने के बाद हमेशा ऐसा सोचते हैं कि हमें बच्चा पैदा होना चाहिए |

बच्चा पैदा कैसे करें ?

दोस्तों सबसे पहले हम आपको बताना चाहते हैं कि यह सब पूरी तरह से गलत है, आपने कभी भी बच्चा और बच्ची में फर्क नहीं करना चाहिए | बच्चा बच्ची दोनों समान होते हैं, इस २१ वी सदी में अगर आप जैसी सोच रखोगे तो आपका विकास कभी भी नहीं होगा | लेकिन फिर भी आज हम आपको बच्चा पैदा कैसे करें के बारे में जानकारी देने वाले हैं, बच्चा पैदा करने के लिए सबसे पहले आपने जान लेना चाहिए कि बच्चा पैदा कौन-कौन से बातों से होता हें |

Ladki ko kaise tayar kare sex ke liye.

अगर आप गर्भ में लड़का चाहते है तो आपको सेक्स अंडे के गर्भाशय में आने के दिन करना होगा। मेल स्पर्म योनी में फीमेल स्पर्म से काफी तेजी से भागते है और स्त्री के अंडे तक फीमेल स्पर्म की तुलना में पहले पहुंच जाते है |

बच्चा कैसे पैदा करते है ?

बच्चा कैसे पैदा करते है
बच्चा कैसे पैदा करते है

हमारे पुराने आयुर्वेद ग्रंथों में पुत्र-पुत्री प्राप्ति हेतु दिन-रात, शुक्ल पक्ष-कृष्ण पक्ष तथा माहवारी के दिन से सोलहवें दिन तक का महत्व बताया गया है। धर्म ग्रंथों में भी इस बारे में जानकारी मिलती है।
यदि आप पुत्र प्राप्त करना चाहते हैं और वह भी गुणवान, तो हम आपकी सुविधा के लिए हम यहाँ माहवारी के बाद की विभिन्न रात्रियों की महत्वपूर्ण जानकारी दे रहे हैं।

  1. चौथी रात्रि के गर्भ से पैदा पुत्र अल्पायु और दरिद्र होता है।
  2. पाँचवीं रात्रि के गर्भ से जन्मी कन्या भविष्य में सिर्फ लड़की पैदा करेगी।
  3. छठवीं रात्रि के गर्भ से मध्यम आयु वाला पुत्र जन्म लेगा।
  4. सातवीं रात्रि के गर्भ से पैदा होने वाली कन्या बांझ होगी।
  5. आठवीं रात्रि के गर्भ से पैदा पुत्र ऐश्वर्यशाली होता है।
  6. नौवीं रात्रि के गर्भ से ऐश्वर्यशालिनी पुत्री पैदा होती है।
  7. दसवीं रात्रि के गर्भ से चतुर पुत्र का जन्म होता है।
  8. ग्यारहवीं रात्रि के गर्भ से चरित्रहीन पुत्री पैदा होती है।
  9. बारहवीं रात्रि के गर्भ से पुरुषोत्तम पुत्र जन्म लेता है।
  10. तेरहवीं रात्रि के गर्म से वर्णसंकर पुत्री जन्म लेती है।
  11. चौदहवीं रात्रि के गर्भ से उत्तम पुत्र का जन्म होता है।
  12. पंद्रहवीं रात्रि के गर्भ से सौभाग्यवती पुत्री पैदा होती है।
  13. सोलहवीं रात्रि के गर्भ से सर्वगुण संपन्न, पुत्र पैदा होता है।

व्यास मुनि ने इन्हीं सूत्रों के आधार पर पर अम्बिका, अम्बालिका तथा दासी के नियोग (समागम) किया, जिससे धृतराष्ट्र, पाण्डु तथा विदुर का जन्म हुआ।

महर्षि मनु तथा व्यास मुनि के उपरोक्त सूत्रों की पुष्टि स्वामी दयानंद सरस्वती ने अपनी पुस्तक ‘संस्कार विधि’ में स्पष्ट रूप से कर दी है। प्राचीनकाल के महान चिकित्सक वाग्भट तथा भावमिश्र ने महर्षि मनु के उपरोक्त कथन की पुष्टि पूर्णरूप से की है।

  1.  दो हजार वर्ष पूर्व के प्रसिद्ध चिकित्सक एवं सर्जन सुश्रुत ने अपनी पुस्तक सुश्रुत संहिता में स्पष्ट लिखा है कि मासिक स्राव के बाद 4, 6, 8, 10, 12, 14 एवं 16वीं रात्रि के गर्भाधान से पुत्र तथा 5, 7, 9, 11, 13 एवं 15वीं रात्रि के गर्भाधान से कन्या जन्म लेती है।
    2500 वर्ष पूर्व लिखित चरक संहिता में लिखा हुआ है कि भगवान अत्रिकुमार के कथनानुसार स्त्री में रज की सबलता से पुत्री तथा पुरुष में वीर्य की सबलता से पुत्र पैदा होता है।
  2. प्राचीन संस्कृत पुस्तक ‘सर्वोदय’ में लिखा है कि गर्भाधान के समय स्त्री का दाहिना श्वास चले तो पुत्री तथा बायां श्वास चले तो पुत्र होगा |यूनान के प्रसिद्ध चिकित्सक तथा महान दार्शनिक अरस्तु का कथन है कि पुरुष और स्त्री दोनों के दाहिने अंडकोष से लड़का तथा बाएं से लड़की का जन्म होता है।
  3. चन्द्रावती ऋषि का कथन है कि लड़का-लड़की का जन्म गर्भाधान के समय स्त्री-पुरुष के दायां-बायां श्वास क्रिया, पिंगला-तूड़ा नाड़ी, सूर्यस्वर तथा चन्द्रस्वर की स्थिति पर निर्भर करता है।

बच्चा पैदा कैसे करें -:

  1. बच्चा पैदा करने के लिए सबसे पहले लड़की को सेक्स के लिए मनाए | बच्चा पैदा करने के लिए अगर आपके साथ लड़की या महिला नहीं है तो आप बच्चा पैदा नहीं कर सकते हो, बच्चा पैदा करने के लिए आपको सेक्स पार्टनर की आवश्यकता होती है इसलिए बच्चा पैदा करने के लिए लड़की को मनाए |
  2. अगर आपको बच्चा ही चाहिए है तो आपने आपके पार्टनर के पीरियड्स की पूरी जानकारी रखना बहुत ज्यादा जरूरी है, साइंटिफिकली देखा जाए तो महिला कि जब पीरियड शुरू होती है तब आपने महिला के साथ सेक्स करना चाहिए | महावारी के बाद सेक्स करने से बच्चा पैदा होने की संभावना बहुत ज्यादा बढ़ जाती है |
  3. महावारी के समय जब पुरुषों का लिंग महिला के योनि में जाता है तब महिला के गर्भ में प्रजनन क्रिया शुरू हो जाती है | पुरुषों के स्पर्म महिला के गर्भ में पूरी तरह से जल्द से जल्द सिकरेट होते हैं जिसके कारण बच्चा पैदा होना आसान हो जाता है |
  4. बच्चा पैदा करने के लिए आपने पीरियड्स के छठे दिन सेक्स करना चाहिए | पीरियड्स के छठे और आठवें दिन सेक्स करने से लड़का पैदा होने की संभावना ज्यादा होती है क्योंकि इस वक्त महिला के गर्भ में बच्चा पैदा होने वाले स्पर्म ज्यादा होते हैं |
  5. बच्चा पैदा होने के लिए पुरुषों के वीर्य में वाई क्रोमोसोम ज्यादा से ज्यादा होना जरूरी होता है | पुरुषों के वीर्य में वाई क्रोमोसोम अगर बहुत ज्यादा कम है तो जल्दी से जल्दी आपने वीर्य गाढ़ा करना चाहिए |
  6. सेक्स करते समय पुरुषों ने अपना वीर्य महिला के योनि के अंदर तक डालना चाहिए | बहुत बार सेक्स करते समय उतावले हो कर पुरुषों का वीर्य महिला के योनि में अंदर तक नहीं जा पाता है जिसके कारण बच्चा पैदा होना असंभव है |

यह थे बच्चा पैदा कैसे करे के असरदार तरीके |

मर्दाना कमजोरी का इलाज ताकत कैसे बढ़ाये

पुत्र पैदा करने की विधि :

हर शादीशुदा कपल को लगता है कि उन्हें पुत्र प्राप्ति ही होनि चाहिए क्योंकि बहुत सारे कपल्स को लड़की होना बिल्कुल अच्छा नहीं लगता हें |

दोस्तों हम आपको कहना चाहते हैं कि आपने इन गलत बातों पर विश्वास ना रखते हुए लड़का लड़की में बिल्कुल भेद नहीं करना चाहिए | लेकिन फिर भी आज हम आपको पुत्र पैदा करने की विधि बताने वाले हें, पुत्र पैदा करने के लिए इस आधुनिक दुनिया में बहुत सारे तरीके आए हैं ऐसी बहुत सारी ट्रीटमेंट आई है जिनको अपनाने से आप आसानी से पुत्र पैदा कर सकते हो |

लेकिन यह सारी ट्रीटमेंट अपनाने पर आपको बहुत ज्यादा खर्चा आने की संभावना भी होती है, इसलिए आज हम आपको पुत्र पैदा करने की विधि बताने वाले हैं |

लिंग का आकार बढाना घरेलु तरीके हिंदी में

पुत्र पैदा करने की विधि -:

  1. साइंस के अनुसार महिला को पुत्र होना चाहिए या पुत्री यह पूरी तरह से पुरुषों पर अवलंबून होता है | पुरुषों के वीर्य में दो तरह के शुक्राणु होते हैं जिनसे ही तय होता है कि महिला को लड़का होना चाहिए या लड़की |
  2. महिला के अंडे के संपर्क में जब वाई क्रोमोसोम आता है तब महिला को लड़का होता है और महिला के अंडे के संपर्क में जब X क्रोमोजोम आता है तब महिला को लड़की होती है | पुरुषों के वीर्य में X क्रोमोजोम और वाई क्रोमोसोम यह दोनों प्रकार के क्रोमोसोम होते हैं जो तय करते हैं कि महिला को लड़का होना चाहिए या लड़की |
  3. महिला के पेट में जब ठंड महसूस होती है तब महिला को लड़का पैदा होने के चांसेस ज्यादा होते हैं, इसलिए महिलाओं ने हमेशा खुद के शरीर को ठंडा रखने का प्रयास करना चाहिए | महिला के ह्रदय के हार्ट बिट्स जब १३० के आगे जाते हैं तब भी महिला के गर्भ में बच्चा तैयार होता है |
  4. लड़का पैदा करने के लिए आपने हमेशा सूरजमुखी के बीज खाने चाहिए, सूरजमुखी के बीज खाने से महिला के शरीर को ज्यादा से ज्यादा मात्रा में विटामिन ई मिलता है, शरीर में ज्यादा से ज्यादा मात्रा में विटामिन इ होने के कारण महिला के शरीर में लड़का पैदा होने की संभावना ज्यादा होती है |
  5. लड़का पैदा करने के लिए आपने आपके ओवुलातिओं पीरियड को ध्यान में रखकर ही सेक्स करना चाहिए, क्योंकि पीरियड्स के वक्त महिलाओं की प्रजनन क्षमता बिल्कुल मजबूत रहती हें |

यह थी पुत्र पैदा करने की विधि |

लड़की कैसे प्रेगनेंट होती है ?
बच्चा कैसे पैदा करे सही तरीका (पुत्र प्राप्ति करना)
क्या आपको यह लेख पसंद आया ?
Download WordPress Themes Free
Download Best WordPress Themes Free Download
Download WordPress Themes
Download Premium WordPress Themes Free
ZG93bmxvYWQgbHluZGEgY291cnNlIGZyZWU=
download karbonn firmware
Download WordPress Themes
free online course