loading...
loading...

लड़की गर्भवती है या नहीं कैसे पता चलता है ?

लड़की प्रेग्नेंट है या नहीं कैसे पता लगाये

गर्भवती

गर्भवती

गर्भवती है या नहीं इसका पता शरीर के होने वाले परिवर्तन एवं प्रग्नेंसी टेस्ट के माध्यम से लगाया जा सकता है|

आज हम आपको बताएंगे कि गर्भवती होने के लक्षण क्या होते हैं और प्रेग्नेंसी टेस्ट कैसे करते हैं ताकि आप पता लगा सकेंगे मैं गर्भवती हूं या नहीं|

गर्भधारण करने के पश्चात महिला में जो हार्मोन परिवर्तन होते हैं उसका असर शरीर के बाहरी अंगों पर भी दिखाई देते हैं , जिनका हम अंदाजा लगा सकते हैं कि महिला गर्भवती है या नहीं |

लड़की गर्भवती है या नहीं कैसे जाने :

गर्भधारण करने वाली महिलाओं के शरीर में बहुत से हार्मोन परिवर्तन होते हैं , जिनके कारण

  • स्तन को कोमल हो जाते हैं
  • स्तनों में झनझनाहट महसूस होती है
  • स्तनों में भारीपन महसूस होता है
  • स्तनों में दर्द होता है
  • स्तनों के निप्पल डार्क हो जाते हैं
  • स्तनों के निप्पल बड़े हो जाते हैं

गर्भधारण करने के पश्चात महिलाओं को कपड़े बदलने में परेशानी आती है क्योंकि गर्भधारण करने के पश्चात निप्पल में दर्द होता है, जिसके कारण कपड़े बदलना और असुविधाजनक लगता है | गर्भधारण करने के बाद स्तनों में दर्द कई बार बहुत ज्यादा होता है | तो कई बार दर्द कम होता है|

महिला की छाती पर दबाव पड़ने से स्तनों में काफी दर्द महसूस होता है | गर्भधारण करने के पश्चात महिलाओं को सुबह के वक्त मतली और उल्टी और कमजोरी महसूस होती है | यह लक्षण गर्भधारण करने के दो से तीन हफ्तों के बाद शुरू हो जाता है |

गर्भ धारण करने के पश्चात महिला के सूंघने की क्षमता बढ़ जाती है जिसके कारण मतली आती है|

गर्भधारण करने के पश्चात महिलाओं के खाने पीने की रुचि बदल जाती है | गर्भधारण करने के पश्चात महिलाओं को ऐसे खाने से नफरत हो सकती है जो पहले उसका पसंदीदा’ भोजन रहा करता हो

मासिक धर्म का नहीं आना गर्भधारण का सबसे बड़ा प्रमुख लक्षण है | परंतु कई बार शरीर की जटिलताओं के कारण भी मासिक धर्म में देरी हो सकती है |

अगर आपको एहसास होता है कि आप गर्भवती हो और आपको पक्का यकीन ना हो तो इसके लिए आप घर पर ही गर्भावस्था जांच या प्रेगनेंसी टेस्ट कर सकती हैं, इसके लिए  इसके लिए मार्केट में बहुत अलग अलग ब्रांड की प्रेगनेंसी टेस्ट स्ट्रिप उपस्थित है | आप किसी भी प्राणी प्रेगनेंसी किट ले सकते हैं और आसानी से अपनी प्रेग्नेंसी जांच कर सकती हैं | परंतु ध्यान रखें इस स्ट्रिप से की गई जांच मात्र प्राथमिक जांच है इसीलिए पक्का यकीन के लिए प्रयोगशाला में जाँच अवश्य करवाएं|

गर्भावस्था जांच के दौरान मूत्र में उपस्थित  कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन एचसीजी का पता लगाया जाता है | यदि मूत्र में एक एचसीजी उपस्थित है तो इसका मतलब आप गर्भवती हैं |

अपने घर पर प्रेगनेंसी टेस्ट हमेशा सुबह उठने के बाद करना चाहिए इससे बेहतरीन परिणाम प्राप्त होते हैं क्योंकि उस समय एक एचसीजी की मात्रा ज्यादा होती है |

प्रेगनेंसी टेस्ट घर पर किया जाए इससे अच्छा प्रयोगशाला में प्रेगनेंसी टेस्ट हरदम फायदेमंद रहता है|

प्रेगनेंसी के पहले 3 महीने काफी संवेदनशील होते हैं शुरूआती महीने में गर्भपात की संभावना ज्यादा रहती है | इसीलिए गर्भावस्था जांच बहुत आवश्यक है गर्भावस्था की जांच के परिणाम सकारात्मक आने पर आप सही वक्त पर सावधान हो सकती हैं |

अधिक पर ऐसा होता है कि महिला को गर्भावस्था के बारे में पता नहीं होता है और वह लापरवाही के प्रति है ऐसा करने से गर्भपात का खतरा बढ़ जाता है प्रेगनेंसी टेस्ट सकारात्मक आने पर आप तुरंत चिकित्सक से परामर्श करें और चिकित्सक के सलाह से कार्य करे |

नॉर्मल डिलीवरी कैसे होती है
गर्भ निरोधक टेबलेट आई पिल गोली का इस्तमाल हिंदी में

Leave a Reply